चौबीस घंटे में 21 एमएम बारिश, शहर में झमाझम, ग्रामीण क्षेत्रों में नदी- नाले उफान पर

चौबीस घंटे में 21 एमएम बारिश, शहर में झमाझम, ग्रामीण क्षेत्रों में नदी- नाले उफान पर

rafi ahmad Siddqui | Publish: Sep, 08 2018 01:19:05 PM (IST) Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

बुंदेलखंड की पठारी धरती पर मानसून मेहरबान

छतरपुर। बुंदेलखंड की पठारी धरती पर मानसून मेहरबान है। बारिश का दौर लगातार जारी है। शहरी क्षेत्र के साथ ही ग्रामीण अंचलों में बारिश हो रही है। कभी झमाझम तो कभी रिमझिम बारिश से गलियां व सड़कें जलमग्न हो गई हैं। ग्रामीण अंचलों में तो नदी और नाले उफना रहे हैं। जिससे यातायात प्रभावित हो रहा है। गुरुवार सुबह दस बजे से शुक्रवार सुबह दस बजे तक जिले की औसत वर्षा २१.२ एमएम बारिश दर्ज की गई।
गुरुवार की दोपहर बाद एक बार फिर शहर में बारिश का सिलसिला शुरू हो गया। करीब एक घंटे तक झमाझम बारिश होती रही। इसके बाद रिमझिम बारिश का सिलसिला शुरू हो गया। जिससे मौसम खुशगवार हो गया। लोगों ने मौसम का खासा आनंद लिया। उधर बिजावर क्षेत्र में देवरा से किशनगढ़ की ओर निकली बराना नदी शुक्रवार की सुबह नौ बजे से चढ़ी है। जिससे किशनगढ़ से बिजावर, जटाशंकर से बिजावर मार्ग अवरुद्ध है। इसके बाद दोपहर के समय पिपटपनागर के समीप स्थित जमुनिया नाला चढ़ गया। जिससे बिजावर से मातगुवां होकर छतरपुर का यातायात संपर्क टूट गया। उधर बड़ामलहरा में सुबह छह बजे से बारिश का सिलसिला शुरू हो गया। जो शाम जारी रही। बीच-बीच में झमाझम बारिश होती रही। इसके बार रिमझिम बारिश होती रही। जिससे जनजीवन खासा अस्त-व्यस्त रहा। स्कूली बच्चे पानी बरसते में स्कूल पहुंचे और छुट्टी में भी बरसते पानी में वापस आए। इस दौरान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व बीआरसी कार्यालय से परिसर पानी से लबालब हो गए। जिससे कर्मचारियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वहीं अस्पताल में भर्ती मरीज परेशानियों से जूझते रहे। सड़कों का पानी दुकानों के अंदर घुस गया। ऐसी स्थिति में घुवारा तिराहा से मध्यांचल ग्रामीण बैंक के बीच स्थित दुकानदार खासे परेशान रहे। वहीं झमाझम बारिश के चलते सेंदपा स्थित काठन नदी में जल स्तर बढऩे लगा। वहीं शुक्रवार की रात पानी पुल के ऊपर तक आने की संभावना व्यक्त की गई। शाम छह बजे पानी पुल को छूते हुए निकल रहा था। वहीं ग्राम बमनी से गुजरी श्यामरी नदी पूरे शवाब पर थी। पुल से करीब एक फीट ऊपर पानी बह रहा था। ऐसे में ग्रामीण जान जोखिम में डालकर पुल से गुजरते रहे। हालांकि ग्रामीणों द्वारा लंबे समय से नदी पर पुल की मांग की जा रही है लेकिन इस ओर प्रशासन द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया गया है। श्यमारी नदी के रपटा से होकर करीब एक दर्जन से गांवों के लोगों का आना-जाना है। इसके बाद भी प्रशासन द्वारा पुल निर्माण को लेकर कोई गंभीरता नहीं बरती जा रही है।
उड़ीसा के ऊपर बना कम दवाब का क्षेत्र बुंदेलखंड में हुआ सक्रिय
मौसम विज्ञान केंद्र खजुराहो के अनुसार अभी ये बारिश शनिवार तक और चलेगी। उड़ीसा के ऊपर कम दवाब का क्षेत्र बना था। वह घूमता हुआ बुंदेलखंड के ऊपर आया। यह बादल छतरपुर, पन्ना व कुछ सतना जिले में छाए हुए हैं। जिससे बारिश हो रही है। कहीं कम तो कहीं ज्यादा बारिश हो सकती है।
चौबीस घंटे में बारिश की स्थिति

Ad Block is Banned