जिले 13 हजार किसानों को मिले फ सल बीमा क्लेम के 32 करोड़ रुपए

16 हजार 754 किसानों ने खरीफ 2019 के लिए जमा किया गया था 1 करोड़ रुपए प्रीमियम
बीमा कंपनी ने दिया था केवल 3 हजार किसानों को 6 करोड़ 72 लाख का भुगतान

By: Dharmendra Singh

Published: 16 Dec 2020, 08:09 PM IST

पत्रिका की मुहिम लाई रंग, पहली बार जिले के सभी किसानों को मिला क्लेम

छतरपुर। वर्ष 2019 में खरीफ फसल के लिए 1 करोड़ बीमा प्रीमियम जमा करने वाले जिले के शेष 13 हजार किसानों को फसल बीमा क्लेम की राशि 32 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया है। एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया ने पूर्व में केवल जिले के 3314 किसानों को 6 करोड़ 72 लाख रुपए का भुगतान किया था, बाकी किसान बीमा प्रीमियम देने के वाबजूद क्लेम के लिए भटक रहे थे। पत्रिका ने किसानों की इस समस्या को प्रमुखता से उठाया और लगातार फॉलोअप किया, जिसका नतीजा ये निकला कि अब जिले के सभी किसानों को बीमा क्लेम की राशि का भुगतान किया गया है। वर्ष 2016 से शुरु हुई प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत पहली बार किसानों को शत प्रतिशत बीमा क्लेम मिला है।


वर्ष 2016 से किसानों को नहीं मिल पा रहा था पूरा क्लेम
पिछले चार साल से फसल बीमा के लिए राशि जमा कराने वाले किसानों बीमा क्लेम नहीं मिल पा रहा था। जिले के अधिकांश किसान ऐसे थे जो वर्ष 2016 से ही बीमा प्रीमियम जमा कर रहे हैं, लेकिन किसी न किसी बहाने क्लेम अटका दिया जाता था। प्रगतिशील किसान चितरंजन चौरसिया ने बताया कि वे चार साल से बीमा प्रीमियम जमा कर रहे है, लेकिन क्लेम नहीं मिल पाता था। डोंगरपुरा के किसान ओमप्रकाश, मुंगवारी के किसान रविकांत, मन्नूलाल, धनीराम यादव व सुमदरलाल मिश्रा ने बताया कि बीमा प्रीमियम जमा कराने के बाद भी फसल नुकसान का क्लेम नहीं दिया गया। कैथोकर के किसान मनोहर सिंह, सज्जन सिंह और कमलेश रावत ने बताया कि उन्होंने खरीफ 2019 में उड़द, मूंग और मूंगफली की फसल का बीमा कराया था, लेकिन बीमा क्लेम नहीं मिल पा रहा था। ललौनी के हरवेन्द्र सिंह ने बताया कि चार साल से बीमा प्रीमियम की राशि जमा कर रहे हैं। बीमा कंपनी का दफ्तर ही बदल गया है, लेकिन बीमा की राशि नहीं मिल पाती थी।

बदल गई बीमा कंपनी
जिले के किसानों से बीमा प्रीमियम की राशि हर साल ली जा रही है। लेकिन बीमा क्लेम नहीं दिया जा रहा है। किसानों का आरोप है कि सोसायटियां किसानों से ली गई बीमा प्रीमियम की राशि जमा नहीं करती है। वहीं बीमा कंपनी भी बीमा प्रीमियम देने वाले किसानों को क्लेम की राशि भुगतान में हेराफेरी करती है। कोई न कोई बहाना बनाकर किसानों को फसल बीमा राशि का भुगतान नहीं किया जाता है। पहले एचडीएफसी इरगो बीमा कंपनी थी,अब एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया जिले में फसल बीमा कर रही है।

सभी किसानों को मिला बीमा का लाभ
जिले के शेष रह गए 13 हजार किसानों की फसल बीमा की राशि 32 करोड़ रुपए कंपनी ने जारी कर दिए हैं। इसके पहल 3 हजार से ज्यादा किसानों को 6 करोड़ 72 लाख रुपए का बीमा क्लेम दिया गया था। जिले के सभी किसानों को बीमा क्लेम दिया गया है।

शिवनंदन त्रिपाठी, मैनेजर, एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned