जिले में 6 कंटेनमेंट एरिया कोरोना से हो गए फ्री

मंगलवार को 3 मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज, अब जिले में बचे सिर्फ 6 एक्टिव केस

जिले में अबतक बने 26 कंटेनमेंट एरिया, 6 हो चुके हैं फ्री
सबसे ज्यादा मामले वाले कालापानी से खत्म हुआ कोरोना

By: Dharmendra Singh

Published: 24 Jun 2020, 06:00 AM IST

छतरपुर। जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने व खत्म करने के लिए किए गए प्रयास रंग ला रहे हैं। संक्रमितों की समय से पहचान करने से कोरोना के खिलाफ जंग में सफलता मिल रही है। जिले में अबतक बनाए गए 26 कंटेनमेंट एरिया में से 6 एरिया कोरोना फ्री हो चुके हैं। नौगांव की बजरंग कॉलोनी, हरपालपुर का कैथोंकर, लवकुशनगर का वार्ड क्रमांक 2, बिजावर का रजपुरा, ईशानगर का कूड और खजुराहो का वार्ड क्रमांक 07 कंटेनमेंट एरिया फ्री हो घोषित हो चुके हैं। वहीं अगले 2 दिन में 2 और गांव कोरोना मुक्त होने जा रहे हैं। इन गांवों में सबसे ज्यादा मामले वाला गांव कालापानी भी शामिल हैं, जहां कुल 13 मामले सामने आए थे। इसके साथ ही बिजावर का पनागर भी कोरोना फ्री होने जा रहा है। जिले में अबतक कोरोना पॉजिटिव पाए गए 54 में से 48 लोग इलाज के बाद घर जा चुके हैं। जिले में कोरोना के एक्टिव केस सिर्फ 6 बचे हैं।

कोरोना को हराकर तीन कदम खुशियो की ओर आगे बढ़ा छतरपुर
जिले के 3 और लोगों ने अपने हौसले और हिम्मत से कोरोना संक्रमण पर विजय प्राप्त कर ली है। इनमें से दो नौगांव तहसील के ग्राम परेथा और एक बड़ामलहरा स्थित ग्राम मदनिवार के निवासी है। परेथा निवासियों को मंगलवार को महोबा रोड स्थित कोविड केयर सेंटर से रिकवरी के बाद डिस्चार्ज किया गया है। दोनों मरीज़ो ने कोविड केयर केंद्र मे उपस्थित चिकित्सकों, मेडिकल टीम एवं स्टाफ को उनकी अच्छी देखभाल एवं समय पर खाना और आवश्यक दवाइयां देने हेतु धन्यवाद दिया। वहीं बड़ामलहरा तहसील के ग्राम सड़वा की निवासी महिला को भी जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड से सफल इलाज के पश्चात डिस्चार्ज किया गया। रोचक बात यह है की इस महिला की 2 वर्षीय बेटी अपनी मां से दूर ना रह पाने के कारण इस दौरान जिला अस्पताल मे ही रही। अस्पताल मे कार्यरत चिकित्सकों एवं मेडिकल स्टाफ ने पूरी सावधानी बरतते हुए बच्ची को कोरोना संक्रमण के चपेट मे आने से सुरक्षित रखा तथा मां का सान्निध्य भी खोने नहीं दिया और इसी सकारात्मक सोच ओर मेहनत का नतीजा है की बच्ची की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने के पश्चात वह आज अपनी मां के साथ घर वापस लौट गई।


जिले में 4 डीटीएचसी और 8 कोविड सेंटर होंगे
जिले में 4 डीटीएचसी व 8 कोविड केयर सेंटर बनाएं जा रहे हैं। डीटीएचसी यानि डेडीकेटेड कोविड हैल्थ सेंटर में गंभीर कोराना मरीजों का इलाज किया जाएगा। डीटीएचसी लिए जिला अस्पताल, शहरी पीएचसी केन्द्र अमानगंज मुहल्ला छतरपुर, शहरी पीएचसी केन्द्र टौरिया मुहल्ला छतरपुर और क्रिश्चियन हॉस्पिटल को चिन्हित किया गया है। वहीं अनुभागस्तर पर 8 कोविड केयर सेंटर के लिए जूनियर-सीनियर छात्रावास महोबा रोड छतरपुर, कन्या हॉस्टल मंडी बडामलहरा, कम्युनिटी हॉल बिजावर, कन्या छात्रावास जैतपुरा बक्सवाहा, कस्तूरबा गांधी कन्या हॉस्टल गौरिहार, जूनियर गल्र्स हॉस्टल लवकुशनगर, क्षेत्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज प्रशिक्षण नौगांव, कस्तूरबा गांधी कन्या हॉस्टल राजनगर को चुना गया है। इन केन्द्रों में 100 बेड की व्यवस्था विभाग द्वारा की जा रही है।

कोरोना के प्रारंभिक और गंभीर मरीजों का होगा अलग-अलग इलाज
जिले में कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए 4 डीसीएचसी एवं 8 कोविड केयर सेंटर बनाए जाने के लिए स्थानों का चयन हो चुका है। ब्लॉक स्तर पर शासकीय हॉस्टलों में व्यवस्थाएं करके कोविड केयर सेंटर बनाए जा रहे हैं। जिला स्तर पर डीसीएचसी सेंटर के लिए व्यवस्थाएं जुटाई जा रही हैं। इन सेंटर्स का प्रबंधन एवं संचालन करने वाले डॉक्टर्स और नर्सों को मंगलवार को मास्टर्स ट्रेनर्स द्वारा प्रशिक्षित किया गया। ये सभी डॉक्टर्स इन सेंटरों पर कोरोना संक्रमण के दौर में अपनी सेवाएं प्रदान करेंगे।

स्टाफ को किया प्रशिक्षित
जिले में 4 डीटीएचसी और 8 कोविड केयर सेंटर के लिए डॉक्टर्स और स्टॉफ नर्सों को प्रशिक्षण दिया गया है। कोविड सेंटर में स्वस्थ कोरोना पेशेंट और डीटीएचसी में गंभीर कैटगिरी के पैशेंट एडमिट होंगे।
डॉ. विजय पथौरिया, सीएमएचओ छतरपुर

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned