80 फीसदी स्टॉक निजी विक्रेताओं को दिया

यूरिया वितरण नीति का नहीं पालन


हरपालपुर. राज्य शासन कृषि विभाग ने अक्टूबर माह में कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में हुई बैठक में निर्णय लिया कि जबलपुर, रीवा एवं शहडोल संभाग, पन्ना, बैतूल, झाबुआ, अलीराजपुर एवं बड़वानी जिलों में 70 प्रतिशत यूरिया तथा शेष जिलों में 60 प्रतिशत यूरिया मार्कफेड के माध्यम से वितरित किया जाएगा। अर्थात 30 से 40 फीसदी यूरिया निजी क्षेत्र में विक्रय कर सकेंगे। लेकिन इस फैसले का छतरपुर में अमल नहीं हो रहा है। निजी विक्रेताओं को 40 के बजाए 80 फीसदी से ज्यादा यूरिया आंवटन किया जा रहा है।
कृ भको की 84 फीसदी यूरिया प्राइवेट सेक्टर को
24 नवंबर को हरपालपुर रैक प्वॉइंट पर कृषक भारती कोऑपरेटिव लिमिटेड कंपनी की यूरिया की रैक आई। रैक में कुल 2664.34 टन यूरिया हरपालपुर आई, जिसमें से 60 फीसदी यूरिया मार्कफेड के माध्यम से वितरण किया जाना चाहिए और 40 फीसदी यूरिया बेचने के लिए निजी विक्रेताओं को दी जानी चाहिए। लेकिन मार्कफेड को केवल 400 टन यूरिया का आवंटन किया गया और बाकी 2264.34 टन यूरिया निजी विक्रेताओं के लिए आवंटित की गई है। यानि सरकारी गोदाम से केवल 16 फीसदी यूरिया ही बंटेगी, जबकि 84 फीसदी यूरिया निजी विक्रेता बेचेंगे। जबकि 60 फीसदी मार्कफेड के जरिए उनके डबल लॉक गोदाम और सोसायटियों से खाद बेचने के निर्देश हैं।

हामिद खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned