सागर में इलाज के दौरान छतरपुर शहर के 60 वर्षीय बुजुर्ग की मौत

गंभीर हालत में जिला अस्पताल पहुंचे 85 साल के बुजुर्ग की आधे घंटे में मौत
कोरोना जैसे लक्षणों के कारण अपनाया गया कोविड प्रोटोकॉल

By: Dharmendra Singh

Published: 27 Jul 2020, 07:00 AM IST

छतरपुर। रविवार की शाम बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज सागर के आइसीयू में भर्ती 60 वर्षीय बुजुर्ग की इलाज के दौरान मौत हो गई। छतरपुर शहर के परवारी मोहल्ला निवासी बुजुर्ग के शरीर में ऑक्सीजन का लेवल कम होने पर पिछले दिनों सागर रेफर किया गया था। कोरोना संक्रण से जिले में यह चौथी और छतरपुर शहर में तीसरी मौत है। इसके पहले 70 वर्षीय बुजर्ग गुरुजी, 56 वर्षीय बिजली उपकरण कारोबारी, 65 वर्षीय बस कंडेक्टर की मौत हो चुकी है। जिले में अभी तक कोरोना से हुई मौतों में बुजुर्ग मरीज शामिल रहे हैं। ज्यादातर को पहले से भी गंभीर बीमारी रही हैं, इसी बीच कोरोना संक्रमण होने से स्वास्थ लगातार खराब होता गया।

जिला अस्पताल में संदिग्ध मौत
रविवार की सुबह जिला अस्पताल में एक 85 साल के बुजुर्ग व्यक्ति को गंभीर हालत में लाया गया, जहां आधे घंटे के भीतर ही बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया। इस बुजुर्ग व्यक्ति को कोरोना जैसे लक्षण थे इसलिए मौत को संदेहास्पद मानते हुए उसके अंतिम संस्कार के लिए कोविड प्रोटोकॉल को अपनाया गया। हालांकि जिला प्रशासन ने अधिकृत रूप से इसे कोरोना से हुई मौत नहीं माना है। रविवार को जिस बुजुर्ग की मौत हुई वह शहर के मनिहारी मोहल्ले का निवासी थी। 85 साल के बुजुर्ग को उसके परिवार के लोग रविवार की सुबह ही अस्पताल लेकर पहुंचे थे। बुजुर्ग को सर्दी जुकाम और बुखार के अलावा सांस लेने में तकलीफ थी। डॉक्टरों ने जब तक उनका उपचार शुरु किया तब तक उन्होंने दम तोड़ दिया। संभव है कि उक्त बुजुर्ग कोरोना वायरस की चपेट में रहा हो, लेकिन परिवार के लोगों की लापरवाही के कारण उन्हें समय पर अस्पताल नहीं लाया जा सका, जिसके कारण उन्होंने दम तोड़ दिया। सरकार की नई गाइड लाइन के तहत कोरोना वायरस जैसे लक्षणों से हुई मौत के बाद उसके अंतिम संस्कार में कोविड प्रोटोकॉल को अपनाया जाता है। इस बुजुर्ग को कोरोना संदिग्ध मानते हुए उनकी डेडबॉडी को बैग में पैक कर नगर पालिका के सुपुर्द किया गया।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned