फंदे पर लटका था नौगांव इंजीनियरिंग कॉलेज का छात्र, मोबाइल पर आते रहे जन्मदिन के बधाई संदेश

फंदे पर लटका था नौगांव इंजीनियरिंग कॉलेज का छात्र, मोबाइल पर आते रहे जन्मदिन के बधाई संदेश
फंदे पर लटका था नौगांव इंजीनियरिंग कॉलेज का छात्र, मोबाइल पर आते रहे जन्मदिन के बधाई संदेश

Hamid Khan | Updated: 06 Oct 2019, 08:12:09 AM (IST) Chhatarpur, Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

तीन दिन से पिता से बात नहीं कर रहा था बेटा

 

नौगांव. शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज नौगांव के एक और छात्र ने शनिवार की सुबह अपने जन्मदिन वाले दिन ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इसके पहले प्रेम प्रसंग के चलते इसी कॉलेज के दो विद्यार्थी पिछले महीने आत्महत्या कर चुके हैं। इसके पहले भी इसी कॉलेज के छात्रों के साथ अलग-अलग घटनाएं हो चुकी हैं। इन सब मामलों के बाद इंजीनियरिंग कॉलेज में पढऩे वाले बाहरी छात्रों के परिजनों की चिंता बढ़ गई है।
ताजा मामला शनिवार की सुबह का है। नौगांव नगर के स्टेडियम के पीछे एक किराए के मकान में 20 वर्षीय इंजीनियरिंग छात्र दीपेंद्र राजपूत की फंदे पर झूलने के कारण मौत हो गई। शनिवार को ही इस छात्र का जन्मदिन था। वार्ड नंबर 3 स्टेडियम के पीछे प्रदीप पाठक के मकान में पठा निवासी श्रीकांत राजपूत का बेटा दीपेंद्र राजपूत रहता था। श्रीकांत शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज में फाइनल इयर में अध्ययन कर रहा था। शनिवार की सुबह 8 बजे वह अपने कमरे से निकलकर किचन में गया और रस्सी का फंदा बनाकर उस पर झूल गया। घटना के आधा घंटे के अंदर ही सुबह 8.30 बजे उसका दोस्त कपिल राजपूत जब मिलने पहुंचा तो दरवाजा खुला था। कमरे में जब दीपेंद्र नहीं मिला तो वह किचन की ओर गया, जिसका दरबाजा बंद था। दरवाजा खोलते ही कपिल चीखते हुए मकान से बाहर निकला आया और घटना की अन्य किराएदारों को जानकारी दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना स्थल निरीक्षण किया और एफएसएल टीम को बुलाया। छात्र के परिजनों को भी सूचना दी गई। परिजनों के सामने शव को फंदेे से उतारकर पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।
सुबह से दोस्त रहे थे बधाई: दीपेंद्र राजपूत का शनिवार को ही जन्मदिन था। सुबह से ही उसके दोस्त जन्मदिन की बधाई दे रहे थे।
एक महीने के अंदर तीसरी घटना :
नौगांव इंजीनियरिंग कॉलेज के विद्यार्थियों के साथ एक माह में यह तीसरी घटना है जब किसी छात्र ने आत्महत्या की है। पिछले ही महीने ४ सितंबर को इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र शिवम गुप्ता ने अपनी प्रेमिका के हरपालपर स्थित घर के बाहर पहुंचकर जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली थी। इस घटना के 13 दिन बाद ही उसकी प्रेमिका इंजीनियरिंग छात्रा ने भी अपने नौगांव स्थित घर में फांसी लगाकर जान दे दी थी।


परिवार में था इकलौता
इंजीनियरिंग छात्र दीपेंद्र के पिता श्रीकांत राजपूत ने बताया कि उसकी पत्नी और बड़े बेटे की मौत हो चुकी है। परिवार में दीपेंद्र ही इकलौता बेटा था। वह अपनी इच्छा से ही इंजीनियरिंग करने आया था। उसे हालही में बाइक की डिमांड की थी। इस पर 20 दिन पहले ही उसे नई बाइक दिलाकर गए थे। लेकिन अचानक से तीन-चार दिन से उसने बात करना बंद कर दिया था। वह उसे बार-बार फोन लगा रहे थे। श्रीकांत ने बिलखते हुए कहा कि अब सब कुछ खत्म
हो गया
नहीं मिला सुसाइड नोट
आत्महत्या के पहले दीपेंद्र ने किसी से मोबाइल पर बात की थी, इसके बाद वह सीधे किचन में गया और फांसी लगा ली। पुलिस ने दीपेंद्र का मोबाइल अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। पुलिस इस मामले को प्रेम प्रसंग से भी जोड़कर देख रही है। हालांकि घटना स्थल या छात्र के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। इस कारण पुलिस स्पष्ट रूप से कुछ भी नहीं कह पा रही है। उधर दोपहर तक पुलिस के पास जब्त दीपेंद्र के मोबाइल में जन्मदिन की बधाई के लिए दोस्तों के कॉल आते रहे।
&छात्र द्वारा फांंसी लगाकर आत्महत्या की गई है। आत्महत्या के कारणों की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही मौत की वास्तविक वजह का खुलासा होगा।
राकेश साहू, थाना प्रभारी नौगांव

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned