कलेक्टर के निर्देश पर एफसीआई गोदाम में पहुंचे अपर कलेक्टर

Unnat Pachauri | Publish: May, 18 2019 05:00:00 AM (IST) Chhatarpur, Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

- रिजेस्ट गेंहू में मिले कीड़े, कंकड़ पत्थर मिट्टी
- जिले में चल रही गेंहू खरीदी केंद्रों पर गड़बड़ी की खुली पोल
- 22 ट्रक रिजेस्ट गेँहू वापस समितियों को भेजा जायेगा
- एफसीआई गोदाम में गेंहू क्वालिटी को परखने के लिए राजस्व, सहकारी बैंक व नागरिक आपूर्ति निगम के कर्मचारी किए गए नियुक्त

हरपालपुर। एफसीआई अधिकारियों द्वारा गेंहू के पास फेल के चल रहे खेल को लेकर पत्रिका द्वारा शुक्रवार को खबर प्रमुखता से प्रकाशित की गई थी। जिसको लेकर कलेक्टर मोहित बुंदस ने मामले को संज्ञान लेते हुए अपर कलेक्टर, नौगांव तहसीलदार, जिला खाद अधिकारी, जिला नॉन प्रबंधक, जिला वेयर हाउस प्रबंधक को रिजेस्ट किए गए 22 ट्रक गेंहू जांच करने के लिए हरपालपुर भारतीय खाद निगम गोदाम भेजा गया। निरीक्षण ेक दौरान अपर कलेक्टर प्रेम सिंह चौहान को भारतीय खाद निगम के क्वालिटी निरीक्षक अनिल सामे ने रिजेक्ट गेंहू के सैम्पल दिखाए। जिस में कीड़े, मिट्टी, कंकड़ व पुराना गेंहू पाया गया। अमानक गेंहू होने के कारण भारतीय खाद निगम के अधिकारियों ने गोदाम में उतारने से माना कर दिया था। शुक्रवार सुबह 11 बजे अपर कलेक्टर प्रेम सिंह चौहान, जिला खाद्य अधिकारी स्वाति जैन, नौगांव तहसीलदार बीपी सिंह, जिला प्रबंधक नागरिक आपूर्ति निगम पिंकीं साहू, जिला वेयर हाउस मैनेजर एके मिश्रा सहित अन्य अधिकारियों भारतीय खाद निगम करीब एक घंटे से अधिक समय तक भारतीय खाद निगम के गोदाम में निरीक्षण कर गेंहू के रिजेस्ट करने की जांच की गई। निरीक्षण के दौरान एफसीआई अधिकारियों आवश्यक निर्देश दिए गए, अच्छे गेंहू को निरीक्षण के दौरान प्रतिवेदन लिखने की कार्रवाई की गई। साथ ही गेंहू से लदे पिपट खरीदी केंद्र के ट्रक के गेंहू का सैम्पल एफसीआई के क्वालिटी निरीक्षक द्वारा लिया गया, जिस में कीड़े मिट्टी व पुराना गेंहू भरा था। जिसको एफसीआई अधिकारियों ने रिजेस्ट कर दिया, जो अमानक स्तर का घटिया गेंहू होने पर कार्रवाई में अभी तक 22 ट्रक गेंहू भारतीय खाद निगम द्वारा रिजेस्ट किया। जिसको गोदाम में उतारने से मना कर दिया गया। रिजेस्ट 22 ट्रक गेंहू की वापस खरीद केंद्र समितियों को भेजा जाएगा। जहां पर उस की छनाई कर फिर से एफसीआई गोदाम भेजा जाएगा। एफसीआई द्वारा गेंंहू के रिजेस्ट करने मामले जिला प्रशासन के भी हाथ पैर फूल गए क्योंकि खरीद केंद्रों पर कलेक्टर के निर्देश के बाद भी घटिया अमानक स्तर का पुराना गेंहू खरीदने की बात सामने आई है। अभी गेंंहू खरीद 25 मई तक चलना हैं, गेंहू के सैम्पल फैल होने के मामले से बचने व एफसीआई अधिकारियों की मनमानी रोकने अपर कलेक्टर ने राजस्व नागरिक आपूर्ति निगम व सहकारी बैंक कर्मचारियों को भारतीय खाद निगम गोदाम पर नियुक्त करने निर्देश दिए गए हैं। जिनके सामने एफसीआई के अधिकारी गेंहू का सैम्पिल लेकर उनकी मानकता की जांच करेंगे। जिससे अपनी मनमर्जी से भारतीय खाद निगम के अधिकारी गेंहू के सैम्पल फैल नहीं कर सकेंगे।
निरीक्षण के बाद कृषि उपज मंडी में चल रहे गेंहू खरीद केंद्रों का निरीक्षण किया गया जहां। पर किसानों से बात कर गेंहू बेचने आ रही परेशानी की जानकारी ली गई।
साथ केंद्र पर किसानों किसी भी प्रकार कोई समस्या न हो इस के निर्देश दिए गए। बुंदेलखंड विपरण सहकारी समिति के खरीद केंद्र पर पहुंच कर किसानों लिया गया बोरी भरा गेंहू की अपने सामने तौल करवाई गई। तीन बोरियों तौल कराने पर उनका वजन अलग-अलग पाया। एक गेंहू की पैक बोरी 50 किलो 740 ग्राम तो दूसरी 50 किलो 600 ग्राम तीसरी बोरी 50 किलो 8 सौ ग्राम निकली। इस उनके खरीद केंद्र प्रभारी नियानुसार गेंहू तौल में लेने के निर्देश देकर किसानों के भुगतान की जानकारी ली गई ।
मामले को दबाने का हो रहा प्रयास
एफसीआई व नागरिक आपूर्ति निगम के 22 ट्रक रिजेस्ट गेंहू किन सहकारी समितियों का हैं जानकारी देने बच रहे हैं। जिससे यह साबित हो रहा है कि मामले को दबाने का प्रयास चल रहा है। सरकार गेंहू खरीदी नियमानुसार करने के निर्देश के बाद इतनी भी घटिया खराब अमानक गेंहू खरीदी की बात सामने आई हैं।
अपर कलेक्टर को आवेदन देकर हम्मलों ने की भुगतान की मांग
भारतीय खाद निगम में ट्रकों से गेंहू गोदामों में बाहर निकलने रखने के काम में लगे करीब 70 हम्मलों ने निरीक्षण करने पहुंचे अपर कलेक्टर को आवेदन देकर 2011 से अभी तक एफसीआई अधिकारियों ने भुगतान न करने शिकायत कई बार भारतीय खाद निगम के अधिकारियों को आवेदन देकर भुगतान की मांग लेने कोई कार्रवाई नहीं हुई साथ ही हम्मलों ने बताया कि 2005 से 2011 तक 15 प्रतिशत काटा गया। जिसका भी भुगतान नहीं किया गया।
इनका कहना है
एक दो सहकारी समिति खरीद केंद्र से अमानक खराब गेंहू एफसीआई गोदाम भेजा जा रहा है। जिसे हम जांच करने आए थे। खरीद केंद्रों पर मौके पर जा कर गेंहू की क्वालिटी की जांच टीम भेजी जाएगी। रिजेस्ट गेंहू की वापस खरीदी केंद्र भेज कर उस गेंहू की छनाई करवाकर साफ कर वापस गोदाम भेजा जाएगा।
प्रेम सिंह चौहान अपर कलेक्टर छतरपुर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned