महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय में रोजगारमूलक पाठ्यक्रमों में प्रवेश प्रारम्भ


14 पाठयक्रमों में इसी सत्र में मिलेगा छात्रों को दाखिला, नई शिक्षा नीति के तहत शुरु होगी व्यवस्था
एमपी ऑनलाइन के जरिए 20 अक्टूबर तक होंगे पंजीयन, डिप्लोमा कोर्स के लिए होंगे आवेदन

By: Dharmendra Singh

Published: 13 Oct 2021, 07:05 PM IST

छतरपुर। महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय छतरपुर में नई शिक्षा नीति के तहत 14 रोजगारमूलक पाठ्यक्रमों व 4 पीजी कोर्स समेत 18 विषयो में प्रवेश प्रक्रिया शुरु कर दी गई है। विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. जेपी मिश्र ने बताया की आज के समय में रोजगारमूलक पाठ्यक्रमों की आवश्यकता एवं नई शिक्षा नीति के तहत विश्वविद्यालय प्रशासन ने इसी सत्र से 14 पाठ्यक्रमों में प्रवेश प्रक्रिया आरंभ कर दी है। विद्यार्थी एमपी ऑनलाइन के माध्यम से रजिस्ट्रेशन शुल्क 50 रुपए जमा कर 20 अक्टूबर तक पंजीयन करा सकते हैं। पंजीयन शुरु होते ही एक दर्जन छात्रों ने डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन भी ले लिए हैं। सभी कोर्स के लिए 30-30 सीटों पर एडमिशन किए जाना है।

डिप्लोमा व सर्टीफिकेट कोर्स के लिए 12वीं पास होना जरुरी
वर्तमान समय में कम्प्यूटर साक्षरता के महत्व को देखते हुए पाठ्यक्रमों में वेब डिजाइनिंग, हार्डवेयर इंजीनियरिंग, इंटर्नेट ओफ़ थिंग्स में डिप्लोमा पाठ्यक्रम की शुरुआत हुई है। चित्रकला, संगीत, कम्प्यूटर साइंस एवं इंडस्ट्रियल माइक्रो बॉयलोजी विषय में मास्टर डिग्री प्राप्त करने के लिए प्रवेश प्रक्रिया आरम्भ हो गई है। माइनिंग साइंस में भी डिप्लोमा में प्रवेश हो रहे हैं, ये डिप्लोमा माइनिंग इन्स्पेक्टर की नौकरी की अहर्ता रखता है, इसके साथ ही पर्यटन में रुचि एवं रोजग़ार हेतु पीजी डिप्लोमा इन टूरिज़्म ऐंड होटल मैनेजमेंट में भी प्रवेश शुरू हो गया है। डिप्लोमा के साथ सर्टिफि़केट कोर्स में भी प्रवेश प्रारम्भ हो गया है। पीजी डिप्लोमा में प्रवेश लेने हेतु विद्यार्थी को स्नातक की परीक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए। डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स में 12वीं पास विद्यार्थी प्रवेश ले सकते हैं। इच्छुक विद्यार्थी कोर्स के संबंध में विश्वविद्यालय के सम्बंधित अध्ययनशाला में संपर्क कर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकता है।

इन 14 पाठ्यक्रमों में मिल रहा प्रवेश
विश्वविद्यालय में इसी सत्र से एमएससी कंप्यूटर साइंस, एमएससी माइक्रोबायोलॉजी, एमए चित्रकला, एमए संगीत, यूजी एंड पीजी डिप्लोमा इन माइनिंग साइंस, पीजी डिप्लोमा इन टूरिज्म, डिप्लोमा इन कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियरिंग, यूजी डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाइनिंग, यूजी डिप्लोमा इन इंटरनेट ऑफ थिंग्स, यूजी डिप्लोमा इन परफॉर्मिंग आट्र्स, यूजी डिप्लोमा इन वेब डिजाइनिंग एंड डेवलपमेंट, सर्टिफिकेट कोर्स इन कम्युनिकेशन स्किल्स, सर्टिफिकेट कोर्स इन डेस्कटॉप पब्लिशिंग, एमएस ऑफिस सर्टिफिकेशन प्रोग्राम, सर्टिफिकेशन कोर्स इन फोटोशॉप, सर्टिफिकेट कोर्स इन नेटवर्किंग, सर्टिफिकेट कोर्स इन कंप्यूटर एडेड डिजाइन एंड ड्राइंग और सर्टिफिकेट कोर्स इन डिजिटल मार्केटिंग के पाठ्यक्रम शुरू होने से छात्र-छात्राओं के लिए शिक्षा के नए द्वार खुलेंगे।

ओपन बुक परीक्षा में अनुचित साधन किए इस्तेमाल, परीक्षा रद्द
ओपन बुक पैटर्न से सत्र 2020-21 की हुई परीक्षा में अनुचित साधन इस्तेमाल करने वाले 11 छात्रों के रिजल्ट को लेकर गठित समिति ने निर्णय दे दिया है। समिति ने इन छात्रों के संबंधित विषय की परीक्षा को निरस्त कर दिया गया है। इन छात्रों में टीकमगढ़ पीजी कॉलेज के विनोद प्रजापति, देवेन्द्र यादव, रविन्द्र रैकवार शामिल है, वहीं तक्षशिक्षा कॉलेज छतरपुर के विकास अग्रवाल,गुरुकुल कॉलेज टीकमगढ़ की आयुषी सोनी, ब्रिलियेंट कॉलेज जतारा की लाल सिंह यादव, गुरुकुल शिक्षा महाविद्यालय की प्रीति देवी बंसकार, आर्ट एंड कामर्स कॉलेज सागर के सिवाका अहिरवार, शासकीय कॉलेज बड़ामलहरा के राम प्रसाद अहिरवार,गणेश वर्णी महाविद्यालय घुवारा के भरत कुशवाहा और आर्ट एंड कामर्स कॉलेज सागर के मुकुल तिवारी की परीक्षा निरस्त की गई है।

इनका कहना है
रोजगार मूलक पाठ्यक्रम में डिप्लोमा व सटीफिकेट कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया शुरु हो गई है। सभी कोर्स में 30-30 सीटों पर एडमिशन लिए जाएंगे। पीजी के 4 कोर्स में भी एडमिशन दिए जा रहे हैं।
एचसी नायक, प्रभारी

वर्तमान की जरुरत को देखते हुए कम समय में रोजगार मूलक पढ़ाई और सर्टीफिकेट वाले कोर्स शुरु किए गए हैं। नई शिक्षा नीति के तहत सीधे रोजगार दिलाने वाले कोर्स इसी सत्र से शुरु किए जा रहे हैं।
जेपी मिश्रा, कुलसचिव

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned