आक्रोशित परिजनों व कांग्रेसियों ने छतरपुर-बड़ामलहरा में लगाया जाम

घुवारा कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष की बड़ामलहरा में हत्या पर इलाके में तनाव, भारी पुलिस बल की मौजूदगी में हुआ अंतिम संस्कार
आरोपियों को पकडऩे 15 सदस्यीय पुलिस टीम गठित, कांग्रेस ने पूर्व मंत्रियों व विधायकों का बनाया जांच दल

By: Dharmendra Singh

Published: 17 Mar 2021, 07:05 PM IST

छतरपुर/ वड़ामलहरा। घुवारा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष इंद्रप्रताप सिंह की हत्या के मामले में 6 आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। आरोपियों की तलाश के लिए 15 सदस्यीय टीम गठित कर 10 हजार का इनाम भी घोषित किया गया है। वहीं, आक्रोशित परिजनों ने मंगलवार की रात जिला अस्पताल में हंगामा कर दिया और कांग्रेस जिला अध्यक्ष ने छतरपुर में बुधवार की सुबह शव वाहन को सड़क पर रखकर जाम लगा दिया। इधर उसी समय परिजनों व कांग्रेसी बड़ामलहरा में नेशनल हाइवे पर धरने पर बैठ गए। प्रशासन व पुलिस के आश्वासन पर 5 घंटे जाम हटाया गया और शव का अंतिम संस्कार किया गया। इस मामले में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने कांग्रेस के पूर्व मंत्रियों व विधायकों की जांच कमेटी गठित की है।

6 में से चार आरोपी बड़े भाई की हत्या में भी थे शामिल
पुलिस ने परिजनों की रिपोर्ट पर कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष की हत्या के मामले में 6 लोगों पर केस दर्ज किया है। हाकिम सिंह, मोरपाल सिंह, हरदेव सिंह, इमरत लोधी, रामकृपाल लोधी, हरिचरन लोधी को आरोपी बनाया गया है। इन छह आरोपियों में से मुख्य आरोपी हाकिम सिंह, मोरपाल सिंह, हरदेव सिंह और इमरत लोधी ब्लॉक अध्यक्ष के बड़े भाई सरपंच भगवत सिंह की 13 जुलाई 2015 को हुई हत्या के आरोपी है। भगवत सिंह की हत्या के बाद जेल में बंद हाकिम सिंह 1 अक्टूबर 2016 को रस्सी के सहारे बिजावर जेल की दीवार फांदकर हत्या के प्रयास के आरोपी मिट्टी रैकवार के साथ फरार हो गया था। भगवत सिंह हत्याकांड में आरोपी मोरपाल सिंह, हरदेव सिंह और इमरत लोधी जमानत पर हैं,जबकि पाचंवा आरोपी राघवेन्द्र सिंह भी जमानत पर है, लेकिन मुख्य आरोपी हाकिम सिंह तभी से फरार चल रहा था, जिसने मंगलवार की शाम अपने साथियों के साथ मिलकर छोटे राजा की गोली मारकर हत्या कर दी।

रात में अस्पताल में हुआ हंगामा
मंगलवार की शाम 7.30 बजे बड़े मलहरा के एक होटल के बाहर बाइक सवार दो हेलमेट धारियों ने घुवारा कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष इंद्रप्रताप सिंह उर्फ छोटे राजा को सीने में गोली मार दी। घायल अवस्था में छतरपुर जिला अस्पताल लाए गए छोटे राजा का इलाज के दौरान 9 बजे करीब निधन हो गया। घटना से आक्रोशित परिजनों व समर्थकों ने जिला अस्पताल में हंगामा कर दिया। मौके पर पुलिस से झड़प भी हुई और अस्पताल के गेट व खिड़की के कांच में भी तोडफ़ोड़ की गई। इसके बाद समर्थक जिला अस्पताल के कैंपस में देर रात तक प्रदर्शन करते रहे। जिन्हें पुलिस के अधिकारियों ने समझाइस देकर वहां से रवाना किया।

बड़ामलहरा में 5 घंटे लगाया जाम
बुधवार की सुबह 8.30 बजे कांग्रेस जिला अध्यक्ष लखनलाल पटेल शव वाहन को रोककर छत्रसाल चौक के पास धरने पर बैठ गए। हालांकि प्रशासन की समझाइश के बाद 15 से 20 मिनट में जाम खोल दिया गया। इसी समय सुबह 8.30 बजे करीब छोटे राजा के समर्थक बड़ामलहरा में सागर-कानपुर नेशनल हाइवे पर धरने पर बैठ गए। समर्थकों की बढ़ती भीड़ और नेशनल हाइवे जाम होने पर बड़ामलहरा समेत आसपास के थानों की पुलिस मौके पर तैनात कर दी गई। दोपहर 1 बजे एसपी सचिन शर्मा बड़ामलहरा पहुंचे और समर्थकों को 6 आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करने, 10 हजार का इनाम और पकडऩे के लिए 15 सदस्यीय टीम गठित कर समझाया, तब जाकर करीब 5 घंटे बाद जाम खुल पाया।

समर्थकों ने किया हंगामा
बड़ामलहरा में प्रदर्शन के दौरान युवा समर्थकों ने हंगामा भी किया। जाम के कारण नेशनल हाइवे पर दोनों तरफ तीन-तीन किलोमीटर तक जाम लग गया। जाम के दौरान बाइक से निकलने की कोशिश करने वालों के साथ समर्थकों ने हुज्जत भी की। समर्थकों के द्वारा उपद्रव की आशंका को देखते हुए बड़ामलहरा में भगवां, बमनौरा, बक्स्वाहा समेत जिले के दर्जनों थाने की पुलिस को तैनात किया गया। पुलिस की मौजूदगी के चलते प्रदर्शन के दौरान कोई गड़बड़ी नहीं हो पाई।

दोपहर 2,30 बजे हुए अंतिम संस्कार
प्रशासन के आश्वासन के बाद छोटे राजा का शव उनके पैतृक ग्राम पठिया ले जाया गया। जहां समर्थकों के भारी हुजूम की मौजदूगी में दोपहर 2.30 बजे अंतिम संस्कार किया गया। समर्थकों के आक्रोशित होने की आशंका को देखते हुए गांव में भी भारी पुलिस बल तैनात रहा, वहीं, पुलिस के अनुविभागीय अधिकारी, एसडीएम समेत अन्य अधिकारी भी बड़मलहरा से लेकर पठिया गांव तक में मौजूद रहे।

कमलनाथ, दिग्विजय और सिंधिया ने किया ट्वीट
ब्लॉक अध्यक्ष की हत्या के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर परिवार के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की। उन्होंने प्रदेश में कानून व्यवस्था पर चिंता जताते हुए कहा कि प्रदेश में हत्याएं, अपहरण, दुष्कर्म और लूट जैसी घटनाए रो हो रही है। उन्होने कटाक्ष करते हुए कहा कि जिम्मेदार पश्चिम बंगाल चुनाव में प्रदेश में सुशासन की बड़ी-बड़ी डींगे हॉक रहे हैं। वहीं, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के ट्वीटर हेंडल से प्रदेश में जंगलराज होने की बात कही गई। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर घटना की निदा करते हुए शोक संतृप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए आरोपियों की गिरप्तारी की मांग की। इधर भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी ट्वीट कर शोक संतृप्त परिवार के प्रति संवेदना जाहिर की है।

कांग्रेस ने गठित किया जांच दल
घुवारा ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष इंद्रप्रताप सिंह की गोली मारकर हत्या किए जाने पर मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ ने एक जांच दल घटनास्थल पर भेजने का निर्णय लिया है, जो मौके पर जाकर संबंधित पक्षों से चर्चा कर अपनी रिपोर्ट मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सौंपेगा। इस जांच दल में पूर्व मंत्री हर्ष यादव, पूर्व मंत्री बृजेंद्र सिंह राठौर, पूर्व मंत्री यादवेंद्र सिंह और विधायक आलोक चतुर्वेदी, विधायक नीरज दीक्षित, विधायक विक्रम सिंह नातीराजा व किरण अहिरवार को शामिल किया गया है।

सीसीटीवी में कैद हुई घटना
बड़ामलहरा के होटल पर ब्लॉक अध्यक्ष को गोली मारने की घटना सीसीटीवी में कैद हुई है। सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक होटल के बाहर की ओर कुछ लोगों के साथ खड़े छोटे राजा के पास 7.30 बजे बाइक पर सवार दो व्यक्ति आए। हेलमेट पहने इनमें से एक ने दूसरे को बताया कि ये इंद्रप्रताप सिंह है और तत्काल ही 315 बोर के कट्टे से छोटे राजा के दाएं सीने के नीचे पेट के पास गोली मार दी। इसके बाद आरोपियों ने दो हवाई फायर भी किए और मौके से फरार हो गए। पुलिस ने उनकी भागने की दिशा में छानबीन की तो एक खेत में बाइक पड़ी मिली, जिसे हत्या में इस्तेमाल किया गया।

चली आ रही चुनाव की रंजिश
ग्रामीण बताते है कि सरपंच के चुनाव इंद्रप्रताप ङ्क्षसंह के भाई भगवत सिंह आरोपियों से 4 से 6 वोट के अंतर से जीत गए थे। इसी खुन्नस में आरोपियों ने इंद्रप्रताप सिंह के बड़े भाई और जिला पंचायत सदस्य मिथलेश राजे के पति सरपंच भगवत सिंह की गोली मारकर 13 जुलाई 2015 को हत्या कर दी थी। इस मामले में मुख्य आरोपी बिजावर जेल से फरार हो गया। मामले में अबतक सुनवाई ही चल रही है। इसी बीच अब पंचायत चुनाव की सुगबुगाहट शुरु होते ही आरोपियों ने छोटे भाई की भी गोली मारकर हत्या कर दी।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned