अटल भू-जल योजना, 70 ग्राम पंचायतों का वॉटर सिक्योरिटी प्लान अनुमोदित


भू-जल स्तर में स्थाई सुधार हेतु टिकाऊ जल स्त्रोतों की स्थापना होगी

By: Dharmendra Singh

Published: 11 Sep 2021, 06:42 PM IST


छतरपुर। कलेक्टर छतरपुर शीलेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में शनिवार को अटल भू-जल योजना की डीपीएमयू की सम्पन्न बैठक में 70 ग्राम पंचायतों का वॉटर सेक्यूरिटी प्लान अनुमोदित किया गया। इस फैसले से ग्राम पंचायतों में भू-जल स्तर में हो रही गिरावट में सुधार करते हुए स्थायी एवं टिकाऊ जल स्त्रोतों की स्थापना के साथ कृषकों की पैदावार में भी वृद्धि हो सकेंगी। इसके लिए विशेषज्ञों द्वारा जमीनी रणनीति तैयार कर अमल शुरू किया गया है। अटल भू-जल की जिला इम्प्लीमेंटेशन यूनिट की बैठक में लाइन डिपार्टमेंट के अधिकारी, सदस्य रहें।
कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह ने कहा कि छतरपुर जिले के लिए यह योजना वरदान होने के साथ-साथ अति आवश्यक है, इस योजना के क्रियान्वयन में लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। मानव सभ्यता सामाजिक जीवन का रहन-सहन और कृषि पर आधारित फसल उत्पादों में जल की महती उपयोगिता है। इसके अभाव में सामाजिक जीवन दुर्लभ है। भारत सरकार एवं मध्यप्रदेश द्वारा इसे सोच विचार कर बंदेलखण्ड के लिए लागू किया गया है। कलेक्टर सिंह ने आगे कहा कि वर्षा के जल को संरक्षित करने के लिए क्षेत्रीय के आधार पर जमीनी रणनीति तैयार करेें, जिससे वर्षा जल को स्थायी रुप से सुरक्षित रखा जा सकें। अटल भू-जल योजना में वर्षा के पानी को ज्यादा से ज्यादा कैसे उपयोगी बनाया जाए तथा उपलब्ध वर्षा के जल को किस तरीके से सुरक्षित रखा जाए के बारे में सार्थक चर्चा करते हुए रणनीति बनाएं।
कृषि कार्य में कम पानी के आधार पर कैसे बेहतर उपयोग करते हुए फसल उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है इस बारे में विचार करें।
प्रारंभ में नोडल अधिकारी डीपीएमयू द्वारा ग्राम पंचायतवार वॉटर सिक्यूरिटी की प्लान की प्रस्तुति की गई। विचार विमर्श के उपरांत समिति द्वारा वॉटर सेक्यूरिटी प्लान को अनुमोदित किया गया। जिसका प्रस्ताव एसपीएमयू को भोपाल को भेजा जाएगा। अटल भू-जल योजना पंचवर्षीय योजना है यह छतरपुर नौगांव एवं राजनगर ब्लॉक में कियांवित की गई है।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned