scriptBank employee withdrew 12 lakh rupees in the name of the customer | बैंक कर्मचारी ने ग्राहक के नाम से निकाले 12 लाख रुपए | Patrika News

बैंक कर्मचारी ने ग्राहक के नाम से निकाले 12 लाख रुपए


नौगांव एचडीएफसी बैंक में ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी की पुलिस जांच जारी, लेकिन कार्रवाई नहीं
अधिकारियों के चक्कर लगाने से भी नहीं मिल रही राहत

छतरपुर

Published: August 13, 2021 06:19:14 pm


छतरपुर। एचडीएफसी बैंक नौगांव शाखा में 1 करोड़ 11 लाख 51 हजार की गड़बड़ी के मामले में कार्रवाई नहीं हुई है। इसी बीच धोखाधड़ी का शिकार हुई महिला को बैंक ने 12लाख रु पए का लोन चुकाने का नोटिस जारी कर दिया है। जबकि महिला ने उसके नाम पर लोन निकालने की शिकायत पर न तो बैंक न ही पुलिस ने कार्रवाई की है। अब ठगे जाने के बाद से पीडि़त परिवार अधिकारियों के चक्कर लगाने को मजबूर है।
शिकायत के बाद भी ग्राहक को नोटिस
शिकायत के बाद भी ग्राहक को नोटिस
ये है मामला
रेखा साहू नामक महिला का एचडीएफसी बैंक की नौगांव शाखा में खाता था। रेखा साहू और उनके परिवार ने बैंक से 12 लाख रुपए का लोन कराया था। लोन के साथ ही रेखा साहू का बैंक की तरफ से क्रेडिट कार्ड भी बनाया गया था। रेखा साहू और उनके परिवार का आरोप है कि एचडीएफसी बैंक में तैनात उप मैनेजर संदीप शर्मा ने लोन और क्रेडिट कार्ड के पैसे अपने खाते में ट्रांसफर कर लिए। जब पीडि़त परिवार को इसकी भनक लगी तो उन्होंने इसकी शिकायत बैंक से की। लेकिन शिकायत के बाद भी बैंक द्वारा इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई और पीडि़त परिवार को ही लोन और क्रेडिट कार्ड की किस्त भरने का नोटिस भेज दिया। पीडि़त परिवार का कहना है कि वह बीते 1 माह से अधिकारियों के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।

1 करोड़ के घोटाले की चल रही जांच
पांच महीने पहले एचडीएफसी बैंक की नौगांव शाखा में 1 करोड़ 11 लाख 51 हजार 900 रुपए की गड़बड़ी सामने आई। नए मैनेजर ने चार्ज संभाला तो हिसाब किताब में गड़बड़ी सामने आई है। मैनेजर ने नौगांव पुलिस को एफआइआर के लिए लिखित शिकायत दी है। जिस पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर जांच शुरु कर दी है। पुलिस इस मामले में पूर्व मैनेजर, लिपिक और कैशियर से पूछताछ की गई।
डेढ़ माह में हुआ गबन
17 फरवरी 2021 को बैंक का ऑडिट हुआ था और उस समय सब कुछ ठीक था लेकिन डेढ़ माह में 1 करोड़ 11 लाख 51900 रुपए को ठिकाने लगा दिया गया। सूत्रों का कहना है कि लिपिक संजीव शर्मा को एटीएम और केसीसी का भी दायित्व दिया गया था। कैशियर मेघा चौहान की आड़ में लिपिक द्वारा गबन किए जाने की आशंका पर जांच की जा रही है। नए मैनेजर की शिकायत पर पुलिस टीम बैंक की शाखा पहुंची और मामले के संबंध में पूछताछ की। पुलिस पूर्व मैनेजर गिरीश तिवारी, लिपिक संजीव शर्मा व कैशियर मेघा चौहान से पूछताछ की, लेकिन अभी तक इस मामले में पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.