video-पीएम के लिए दो दिन से बैलगाड़ी पर अस्पताल के बाहर पड़ा रहा शव

Neeraj Soni

Publish: May, 17 2019 06:10:05 PM (IST)

Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

छतरपुर। जिले के सीमावर्ती तहसील मुख्यालय गौरिहार में डॉक्टर नहीं होने के कारण अब तक मरीज ही परेशान थे, लेकिन अब पीएम के लिए भी शवों को बाहर डॉक्टरों का इंतजार करना पड़ रहा है। ताजा मामला सड़क हादसे में मृत एक ग्रामीण का है। दो दिन से शव बैलगाड़ी पर गौरिहार अस्पताल के बाहर पड़ा रहा। परिजनों के रो-रोकर आंसू सूख गए, लेकिन यहां डॉक्टर नहीं पहुंचे। जब यह मामला उजागर हुआ तब आनन-फानन में दूसरे दिन डॉक्टर ने पहुंचकर शाम को शव का पीएम किया। इसके बाद शव लेकर परिजन गांव पहुंचे।
जानकारी के अनुसार गौरिहार क्षेत्र के ग्राम कितपुरा निवासी श्रीराम श्रीवास की सड़क दुर्घटना में गुरुवार को मौत हो गई थी। सुबह से ही पुलिस ने शव का पंचनामा बनाकर पीएम के लिए भिजवा दिया था। लेकिन गुरुवार को शव सुबह से लेकर शाम तक बैलगाड़ी पर अस्पताल के बाहर रखा रहा। किसी ने भी शव को मर्चुरी में भी नहीं रखवाया। देर रात तक डॉक्टर यहां नहीं पहुंचे। इसके बाद शुक्रवार को भी डॉक्टर दोपहर तक अस्पताल नहीं आए। मृतक के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था। उनके आंख से आंसू भी सूख गए थे। इसके बाद शव के पास ही वे भूख से व्याकुल होकर मजबूर में खाना भी खाने लगे। इधर दो दिन से शव अस्पताल के बाहर बैलगाड़ी पर पड़े होने की जानकारी उजागर हुई और सोशल मीडिया पर यह खबर वायरल हुई तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में अफसरों ने तुरंत डॉक्टर को यहां पर भेजा। बीएमओ डॉ. एस प्रजापति ने दोपहर बाद गौरिहार पहुंचकर शव का पीएम किया, तब कहीं परिजन शव लेकर घर जा सके। इधर दो दिन तक गर्मी में शव रखा रहने से उसमें से दुर्गंध भी उठने लगी थी।
इनका कहना है :
गुरुवार को मैं एक मीटिंग में छतरपुर गया था। आने में देरी हो गई। एक महिला डॉक्टर अकेली हीं थी। शुक्रवार को पहुंचकर शव का पीएम कर दिया गया।
- डॉ. एस प्रजापति, बीएमओ गौरिहार

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned