आए थे उपलब्धियां बताने, आरोप सुनकर चले गए

आए थे उपलब्धियां बताने, आरोप सुनकर चले गए

Neeraj Patel | Publish: Jun, 18 2019 07:00:00 AM (IST) Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

सरकार की उपलब्धियां बताने आयोजित प्रेस कांफे्रेंस में रेत के मुद्दे पर घिरे विधायक
- बिजली, पानी, शिक्षा और स्वास्थ्य की अव्यवस्थाओं पर हुई सवालों की बौछार

छतरपुर। कांग्रेस के मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देश पर प्रदेश के हर जिले में विधायकों द्वारा सरकार की 6 माह की उपलब्धियां बताने के लिए सोमवार को पत्रकारवार्ता का आयोजन किया गया। छतरपुर में आयोजित उपलब्धियों की यह पत्रकारवार्ता कांग्रेस के विधायकों को उलटी पड़ गई। पत्रकारवार्ता में उपलब्धियों पर कम और जिले में फैली अव्यवस्थाओं पर ज्यादा चर्चा हुई। दुर्भाग्य ये था कि विधायक और प्रशासन के पास पत्रकारों के इन सवालों के जवाब भी नहीं थे। पत्रकारवार्ता में जहां रेत के अवैध उत्खनन में विधायकों की संलिप्तता पर गंभीर सवाल उठे तो वहीं बिजली कटौती, शिक्षा के क्षेत्र में बंद होती योजनाओं और स्वास्थ्य के क्षेत्र में बिगड़ते हालातों पर ज्यादा किरकिरी हुई।
इन सवालों पर घिरे सत्ता के विधायक :
कलेक्टे्रट कांफ्रेंस हॉल में आयोजित इस पत्रकारवार्ता में सरकार का पक्ष लेकर विधायक नीरज दीक्षित, नातीराजा और बड़ामलहरा विधायक प्रद्युम्र सिंह एवं कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज त्रिवेदी मौजूद रहे। बैठक में कलेक्टर मोहित बुंदस की उपस्थिति के बीच ही पत्रकारों ने सरकार पर कई गंभीर सवाल दागे। पत्रकारों ने पूछा कि 6 महीने से प्रदेश में बिजली का संकट पैदा हो गया है इस पर सरकार क्या कर रही है। जिले में रेत के अवैध उत्खनन में विधायक प्रद्युम्र लोधी और नीरज दीक्षित की संलिप्तता पर भी गंभीर सवाल पूछे गए जिसे दोनों ही विधायकों ने सिरे से खारिज किया। इसी तरह 85 फीसदी अंक लाने वाले 12वीं के छात्र को शिवराज सरकार 25 हजार रूपए देती थी जिसे कांग्रेस सरकार ने बंद कर दिया। इस पर विधायकों के पास कोई जवाब नहीं था। इसी तरह अस्पतालों में सुबह 9 से 4 डॉक्टरों के न बैठने, प्रसूता महिलाओं के लिए संचालित योजनाओं में बजट कम पडऩे, जिले में बढ़ते अपराध और थानों में ठेका सिस्टम लागू होने, महिलाओं की बढ़ती असुरक्षा, जिले में 100 से ज्यादा नल-जल योजनाओं के बंद पड़े होने एवं 6 महीने पहले घोषित की गई किसान ऋण घोटाले की जांच का नतीजा सामने नहीं आने जैसे गंभीर सवाल विधायकों से पूछे गए। इसके अलावा इस पत्रकारवार्ता में छतरपुर विधायक आलोक चतुर्वेदी के शामिल न होने एवं कांग्रेस में बढ़ती गुटबाजी पर भी सवाल किया गया। इन सवालों का विधायकों के पास कोई संतोषजनक जवाब नहीं था।
विधायकों के जवाब, जिन पर लगे ठहाके :
जब नातीराजा से पूछा गया कि बिजली क्यों जा रही है तब उन्होंने कहा कि कुछ लोग बिजली के तारों में लंगर डालकर बिजली बंद कर रहे हैं। इस जवाब पर सदन में जमकर ठहाके लगे। इसी तरह विधायक प्रद्युम्र सिंह से पूछा गया कि आपके जीजा अवैध रेत उत्खनन में लिप्त हैं इस पर उनका जवाब था कौन से जीजा कैसे जीजा। बढ़ते अपराधों पर विधायक नातीराजा का जवाब था कि प्रदेश में 5.7 फीसदी अपराध कम हुए हैं। जिले की स्थिति पर वे मौन साध गए। इसी तरह विधायक नातीराजा से पूछा गया कि स्कूल शिक्षा मंत्रालय की ओर से सरकार प्रतिभाशाली बच्चों को 25 हजार रूपए देती थी जिसे आपकी सरकार ने बंद कर दिया। इस पर उन्होंने कहा कि यह प्रश्न जीतू पटवारी से पूछिए। आश्चर्य ये है कि जीतू पटवारी उच्च शिक्षा मंत्री हैं।
इन उपलब्धियों पर विधायकों ने बचाई लाज :
विधायक नातीराजा ने पत्रकारवार्ता शुरू करते ही सरकार की कुछ उपलब्धियां गिनाकर लाज बचाने की कोशिश की। उन्होंने बताया कि शिवराज सरकार कन्यादान योजना में जहां 25 हजार रूपए की राशि का अनुदान देती थी हमारी सरकार ने इसे बढ़ाकर 51 हजार किया है। कांग्रेस सरकार ने प्रदेश के 25 लाख किसानों का कर्ज माफ किया है। प्रदेश के ओबीसी वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण दिया गया है जबकि आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग के लोगों को भी 10 फीसदी आरक्षण का रास्ता खोला गया है। छतरपुर में 15 साल बाद लोगों के नलों में पानी आना शुरू हुआ है। युवाओं के लिए युवा स्वाभिमान स्वरोजगार योजना एवं गायों के लिए गौशालाएं बनाने का काम शुरू किया गया है। नीरज दीक्षित ने बताया कि हरपालपुर में एक करोड़ की लागत से नल-जल सप्लाई शुरू कराई जा रही है। इसी तरह वृद्धावस्था पेंशन भी तीन सौ से बढ़ाकर 600 कर दी गई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned