scriptCampaign to remove dirt from vacant plots closed after sending some no | कुछ नोटिस भेजने के बाद बंद हुई खाली प्लॉट से गंदगी हटाने की मुहिम | Patrika News

कुछ नोटिस भेजने के बाद बंद हुई खाली प्लॉट से गंदगी हटाने की मुहिम

locationछतरपुरPublished: Dec 27, 2021 08:40:41 pm

Submitted by:

Unnat Pachauri

शहर के सैकड़ों स्थानों पर खाली प्लॉट पर एकत्र हो रही गंदगी

कुछ नोटिस भेजने के बाद बंद हुई खाली प्लॉट से गंदगी हटाने की मुहिम
कुछ नोटिस भेजने के बाद बंद हुई खाली प्लॉट से गंदगी हटाने की मुहिम
छतरपुर। शहर में कुछ दिनों पहले नगर पालिका द्वारा खाली प्लॉट पर गंदगी एकत्र होने से अभियान के तहत प्लॉट मालिकों को नोटिस आदि देकर सफाई आदि रखने की कवायत शुरू की थी। लेकिन यह कवायत कुछ नोटिसों के बाद बंद हो गई। जिससे अभी भी शहर में गंदगी जस की तस है और लोगों को परेशानी का सबब बन रहा है। शहर में स्वच्छता को लेकर नपा द्वारा जिन प्लॉट में गंदगी या कचरा आदि होने पर नोटिस देकर सफाई की व्यवस्था कराने की कवायत शुरू की थी। जिसको लेकर नपा द्वारा कुछ लोगों को नोटिस भी भेजे गए, लेकिन इसके बाद न तो प्लॉट पर सफाई कराई गई और न ही कोई कार्रवाई की सकी। जिससे अभी भी शहर के सैकडों स्थानों में खाली पड़े प्लॉट में गंदगी एकत्र हो रही है, तो कही आसपास के कचरा और दूषित पानी एकत्र हो रहा है। जो आस-पास के रहवासियों के लिए परेशान का कारण बन रहा है। शहर के नजरबाग निवासी देवकरण ने बताया कि उनके घर के पास में खाली पड़े मैदान में गंदा पानी भरा हुआ है। जिसमें की डेंगू के मच्छर पनप रहे हैं। इसको लेकर उन्होंने नगर पालिका प्रशासन को अवगत भी कराया था। बताया कि प्लाट मालिक द्वारा भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। वहीं सीताराम कॉलोनी निवासी वीरेंद्र गुप्ता ने बताया कि उसके घर के बगल में प्लॉट है जहां पर आसपास के लोगों द्वारा मना करने के बाद भी कचरा फैका जाता है, इस पर प्लॉट मालिक भी ध्यान नहीं दे रहा है नपा द्वारा भी सफाई आदि नहीं की जा रही है। जिससे उनके घर में कभी कभी दुर्गंध भी आती है। बताया कि अभियान की जानकारी होने पर उन्होंने नपा अधिकारियों को इसकी जानकारी दी थी, लेकिन कोई लाभ नहीं मिला। वहीं इसी तरह शहर के शांति नगर, चौबे कॉलोनी, सटई रोड, चौक बाजार सहित सभी मोहल्लों में खाली प्लॉट में गंदगी एकत्र हो रही है।
Copyright © 2023 Patrika Group. All Rights Reserved.