scriptCase on driver including manure and vehicle owner for illegal manure | 65 बोरी खाद के दस्तावेज न होने पर खाद व वाहन मालिक समेत ड्राइवर पर केस | Patrika News

65 बोरी खाद के दस्तावेज न होने पर खाद व वाहन मालिक समेत ड्राइवर पर केस


ईशानगर थाना में दर्ज हुई एफआइआर, सैंपल रिपोर्ट आने पर नकली- असली का भी होगा खुलासा
इधर, जिले में एक हजार मीट्रिक टन से भी कम बचा डीएपी, यूरिया 7 हजार से कम

छतरपुर

Published: November 17, 2021 06:02:24 pm

छतरपुर। जिले में खाद संकट के बीच अवैध रुप से खाद बेचने के मामले भी सामने आने लगे हैं। ईशानगर में दो दिन पहले नकली खाद की आशंका में पकड़ी गई 65 बोरी खाद के मामले में सैंपल रिपोर्ट आने में अभी समय है, लेकिन प्रशासन ने खाद के दस्तावेज न होने से खाद मालिक, वाहन मालिक और चालक के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत ईशानगर थाना में एफआइआर दर्ज कराई है। वहीं, खाद के सैंपल की जांच रिपोर्ट आने पर नकली-असली खाद के संबंध में अलग से कार्रवाई की जाएगी। हालांकि इसी खाद के मालिक के नौगांव स्थित गोदाम से 60 बोरी अवैध यूरिया पकड़े जाने के मामले में कृषि विभाग के आवेदन व एसडीएम के आदेश के बाद भी नौगांव पुलिस ने एफआइआर अब तक नहीं की है।
आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत हुई कार्रवाई
आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत हुई कार्रवाई
आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत हुई कार्रवाई
ईशानगर पुलिस ने सोमवार को नकली खाद की आशंका में नौगांव के रास्ते ईशानगर आ रहे डीएपी खाद से भरे मालवाहक यूपी 93 एटी 1159 को पकड़ा था। कृषि विभाग ने खाद का सैंपल जांच के लिए भेजा है। वहीं, खाद के दस्तावेज न होने पर वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी शारदा प्रसाद कारपेंटर व ग्रामीण कृषि विस्तार गाड़ी मालिक मुकेश साहू पिता मुन्ना लाल साहू, वाहन चालक कल्लू खान पिता रईस खान और नौगांव निवासी खाद मालिक नितेश साहू उर्फ लवलेश साहू के खिलाफ एफआइआर दर्ज की है। तीनों के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है।
नौगांव के मामले में अबतक नहीं हुई एफआइआर
हालांकि नौगांव पुलिस ने खाद मालिक नितेश साहू के नौगांव स्थित गोदाम से 60 बोरी अवैध यूरिया जब्त होने व गोदाम सील किए जाने के बाद भी अब तक एफआइआर नहीं की है। कृषि विभाग के अधिकारी सोमवार की देर रात तक एफआइआर कराने के लिए थाना में बैठे रहे। लेकिन पुलिस कुछ दस्तावेजों की कमी का हवाला दे रही है, जबकि कृषि विभाग सभी दस्तावेज उपलब्ध कराए जाने की बात कह रहा है। पूरे जिले में खाद के अवैध भंडारण पर अब तक हुई एफआइआर की कॉपी भी कृषि विभाग ने पुलिस को दी है, ताकि केस दर्ज किया जा सके। लेकिन नौगांव पुलिस ने अभी तक एफआइआर दर्ज नहीं की है।

अब 1 हजार मीट्रिक टन भी नहीं बचा डीएपी का स्टॉक
जिले में खाद संकट अभी भी बना हुआ है। जिले में अब केवल 996 मीट्रिक टन डीएपी और 6367 मीट्रिक टन यूरिया ही बचा है। जिले में 35 हजार मीट्रिक टन डीएपी की जरूरत है, जिसके एवज में अब तक 13836 मीट्रिक टन डीएपी बांटी गई है, वहीं यूरिया 41 हजार मीट्रिक टन की जरूरत है, लेकिन अब तक 14833 मीट्रिक टन ही वितरित हो सका है।
फैक्ट फाइल
खाद का नाम मांग वितरण वर्तमान स्टॉक
यूरिया 41001 14833 6367
डीएपी 35000 13836 996
एनपीकेएस 49 30 84
एमओपी 102 60 100
एसएसपी 2000 4645 633

मात्रा - मीट्रिक टन में

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.