छतरपुर को मिला 300 यूनिट ब्लड कलेक्शन करने वाला वाहन

वाहन मिलने से ग्रामीण इलाके में भी हो सकेगा रक्तदान शिविर

By: Dharmendra Singh

Published: 18 Apr 2021, 08:18 PM IST

छतरपुर। जिले को रक्तदान कराने के लिए बीसीटी यानी ब्लड कलेक्शन ट्रांसपोर्टेशन रक्त वाहिनी मिली है। अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस इस वैन में दो लोग एक साथ रक्तदान कर सकते हैं। अभी तक जिला मुख्यालय या जिला अस्पताल में शिविर आयोजित किए जाते थे, ताकि वहां मौजूद संसाधनों का उपयोग किया जा सके। अब जिले में ब्लड कलेक्शन और ट्रांसपोर्टेशन इस वैन से हो सकेगा। इसमें कई प्रकार की सुविधाएं हैं ताकि इनकी मदद से आसानी से ग्रामीण इलाके में भी रक्तदान शिविर आयोजित हो सके।

दो ब्लड डोनेशन टेबल और चेयर हैं वैन में
वैन में दो ब्लड डोनेट टेबल के अलावा, बैठने के लिए चेयर, वातानुकूलित भी बना गया है। इसे इस प्रकार डिजाइन किया गया है कि रक्तदान करने में किसी व्यक्ति को असुविधा नहीं होगी। ब्लड कलेक्शन और ट्रांसपोर्टेशन वैन के अंदर एसी, दो ब्लड डोनेशन चेयर सहित फ्रिज की सुविधा भी है ताकि इसमें ब्लड को सुरक्षित रखा जा सके। इसके साथ ही कलेक्शन बॉक्स, फस्र्ट एड बॉक्स, ब्लड डोनेशन के लिए आरामदायक एडजस्टेबल कुर्सियां, जनरेटर सहित अन्य सुविधा भी है। इससे किसी भी परिस्थिति में ना तो ब्लड कलेक्शन का काम रुकेगा और खून भी पूरी तरह सुरक्षित रहेगा।

गांव-गांव जा सकेगी वैन
अब वैन के आने से गांव-गांव लाकर भी शिविर आयोजित किए जा सकेंगे। इस वैन के अंदर स्टाफ के बैठने व आराम करने का भी इंतजाम हैं। इसके साथ ही स्टाफ व डोनर के लिए जो भी आवश्यक जरूरी इंतजाम का भी ध्यान रखा है। ताकि लगातार कैंप आयोजित करने पर भी इन्हे दिक्कत नहीं हो सके।

वैन के फ्रिज में 300 यूनिट ब्लड स्टोर की है क्षमता
जिले भर में रक्तदान शिविर आयोजित करने के लिए प्रदेश सरकार ने बीसीटी यानी ब्लड कलेक्शन ट्रांसपोर्टेशन रक्त वाहिनी छतरपुर जिले का उपलब्ध कराया है। इसकी ब्लड स्टोर करने की क्षमता 300 यूनिट है। अब जिला मुख्यालय के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में रक्तदान शिविर आयोजित कर मरीजों की जान बचाने के लिए ब्लड एकत्र किया जा सकेगा। जिला स्तर पर बड़े स्तर का रक्तदान शिविर आयोजित करने के दौरान दूसरे जिले से रक्त संग्रहण वेन बुलाना पड़ता था। अब जिले को ब्लड कलेक्शन और ट्रांसपोर्टेशन वैन उपलब्ध हो गई है। जिसमें कई प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध हैं, इनकी मदद से आसानी से रक्तदान शिविर आयोजित हो सकेगा। वेन में दो ब्लड डोनेट टेबल के अलावा डॉक्टर के बैठने के लिए चेयर के साथ ही वाहन को वातानुकूलित भी बनाया गया है।

गांव में भी लग सकेंगे रक्तदान शिविर
अभी तक जिले के विभिन्न अस्पतालों में रक्तदान शिविर आयोजित किए जाते थे, इस दौरान वहां मौजूद संसाधनों का उपयोग किया जाता था। कुछ अस्पतालों में संसाधनों की कमी के चलते वहां रक्तदान शिविर आयोजित नहीं हो पाते थे।
डॉ अरुणेंद्र शुक्ला, ब्लड बैंक प्रभारी, जिला अस्पताल

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned