स्कूल का छज्जा गिरने से बाल-बाल छात्र

स्कूल का छज्जा गिरने से बाल-बाल छात्र

Unnat Pachauri | Publish: Jan, 14 2019 07:48:36 PM (IST) Chhatarpur, Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

जर्जर स्कूल भवन में बैठकर पढऩे के लिए मजबूर है बच्चे

उन्नत पचौरी / राजेंद्र त्रिवेदी
छतरपुर/सरवई। गौरिहार जनपद पंचायत क्षेत्र के जरैला गांव में एक जर्जर स्कूल भवन का छज्जा गिरने से बड़ा हादसा होते-होते बच गया। यह क्षेत्र लंबे समय से विकास की राह देख रहा है। इस गांव के लोगों द्वारा स्थानीय अधिकारियों से लेकर मुख्यमंत्री तक गुहार लगाने के बाद भी इस गांव में अभी तक कोई भी विकास कार्य नहीं कराए जा रहे हैं। यहां पर सड़क, बिजली, पानी और पढ़ाई के लिए लोगों को आज भी खासी जद्दोजहद करनी पड़ रही है। पक्की सड़क नहीं होने से लोगों को अपने बच्चों गांव में ही स्थित एक जर्जर भवन में संचालित हो रहे शासकीय उन्नयन प्राथमिक शाला में पढऩे के लिए भेजा जा रहा है। लेकिन जर्जर हो चुके भवन में आए दिन कोई न कोई घटना होती रहती है। कभी यहां पर छज्जा टूटकर गिरता है तो कभी दीवार से सीमेंट बच्चों के ऊपर गिरता है। जिससे कई बच्चें अभी तक घायल हो चुके हैं। लेकिन इसके बाद भी न को अधिकारी इस ओर ध्यान दे रहे हे और न ही शिक्षा विभाग इस ओर ध्यान देने की जरूरत समझ रहा है। जिसका खामियाजा आए दिन बच्चों को चुटहिल होकर भुगतना पड़ रहा है।
सोमवार को स्कूल में पढ़ रहे बच्चों के ऊपर छत का छज्जा टूटकर गिर गया। जिससे पांच बच्चों को चोटें आई हैं। जानकारी के अनुसार सोमवार को सुबह करीब ११ बजे शासकीय उन्नयन प्राथमिक शाला जरैला में बच्चे पढ़ाई कर रहे थे। स्कूल के प्राधानाचार्य रामसिंह पटेल ने बताया कि कई सालों से भवन जर्जर हाल में हे और कई बार यहां पर इसी तरह की घटनाऐं हो चुकी है। जिससे गांव के लोगों द्वारा अपने बच्चों को स्कूल भेजना बंद कर दिया था। लेकिन काफी प्रयास करने के बाद स्कूल में बच्चों की संख्या ३८ हो सकी थी। उन्होंने बताया कि सोमवार को त्योवार होने की वजह से स्कूल में बच्चों की संख्या २० थी। वह भवन जर्जर होने से बच्चों को बाहर बैठाकर पढ़ा रहे थे किया करीब ११ बजे अचानक छत का छज्ज टूट गया और बच्चों पर गिर गया। यह देख बच्चों को आनन-फानन में वहां से हटाया गया। जिससे एक बडी घटना घटने से बच गई। वहीं घटना में चार बच्चों को गंभीर चोटें आई हैं। घायल बच्चों में मयंक पटेल कक्षा- ३, सुरेंद्र अनुरागी कक्षा- ३, आसीष पटेल कक्षा- ५ और ज्योति पटेल कक्षा-१ को गंभीर चोटें आई हैं। घटना के बाद गांच के लोगों के साथ प्रधानाचार्य ने स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर बच्चों का इलाज कराया गया। प्राधानाचार्य रामसिंह पटेल ने बताया कि वह गई बार भवन के जर्जर होने ओर घटना की जानकारी विभाग के अधिकारियों को दे चुके हैं लेकिन कोई सुनाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि घटना जानकारी विभाग को दी गई है और नए भवन की मांग की गई। वहीं बच्चों परिजनों का कहना है कि इस तरह की घटनाऐं कई बाद और भी घट चुकी हैं। ऐसे में वह अपने बच्चों को स्कूल में भेजने से डर लग रहा है।

इनका कहना है
में अभी वीसी में हूं। मैं इसकी जानकारी करता हूं और जल्द से जल्द वहां पर टीम को भेजकर निरीक्षण कराया जाएगा। इसके बाद वहां पर भवन की जो भी स्थिती होगी उस प्रकार की कार्रवाई की जाएगी।
एचएच त्रिपाठी डीपीसी

स्कूल का छज्जा गिरने से बाल-बाल छात्र
IMAGE CREDIT: chhatarpur

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned