जिला अस्पताल के बाथरुम में मिली नवजात बच्ची की हालात नाजुक

गुरुवार को जिला अस्पताल के लेबर रुम के बाथरुम में मिली थी 7 माह की प्री-मेच्योर बच्ची
सीपेट मशीन में रखकर डॉक्टर कर रहे इलाज, पुलिस खोज रही बाथरुम में बच्ची को छोडऩे वाली मां को

By: Dharmendra Singh

Published: 11 Jun 2021, 09:42 PM IST

छतरपुर। जिला अस्पताल के लेबर रुम के बाथरुम में गुरुवार को मिली सात माह की प्री-मैच्योर बच्ची की हालत गंभीर है। बच्ची को जिला अस्पताल के एसएनसीयू में भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। बच्ची का इलाज करने वाले डॉ. ऋषि द्विेदी के मुताबिक प्री-मैच्योर बच्ची की बाथरुम की ठंडक में पड़े रहने से हालत सीरियस है। बच्ची को सीपेट मशीन में रखकर सामान्य करने के प्रयास किए जा रहे हैं। बच्ची सामान्य वजन ढाई किलो की तुलना में केवल 1 किलोग्राम की है। वहीं, प्री-मैच्योर होने से रिकवरी नहीं हो पा रही है।

डॉ. दिवेदी ने बताया कि लेबर रुम की आया राजकुमारी ने गुरुवार की शाम बाथरुम से बच्ची की रोने की आवाज सुनी, तब बच्ची के वहां होने का पता चला। बच्ची की हालत को देखते हुए इसे एसएनसीयू में भर्ती कराया गया है। जहां उसका इलाज किया जा रहा है। बाथरुम में ही किसी अज्ञात महिला ने बच्ची को जन्म दिया और वहीं छोड़कर भाग गई। जिला अस्पताल प्रबंधन ने पुलिस को इस मामले की सूचना दी है। कोतवाली पुलिस अस्पताल के बाथरुम में बच्ची को छोडऩे वाले माता-पिता का पता लगाने में जुटी है। हालांकि दूसरे दिन भी बच्ची को छोडऩे वाली माता का पता नहीं चल सका है। आशंका जताई जा रही है कि लड़की होने के कारण अज्ञात निर्दयी महिला जन्म देने के बाद उसे छोड़ गई।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned