पुरानी पाइप लाइन से काटे जाएंगे कनेक्शन, नई लाइन से कनेक्शन लेने पर लगेंगे 2150 रुपए

नल कनेक्शन के लिए सड़क की खुदाई करने पर लगेगा अतिरिक्त चार्ज

By: Dharmendra Singh

Published: 10 May 2020, 07:00 AM IST

नौगांव। सम्पूर्ण देश कोरोना महामारी के चलते लागू लॉकडाउन के कारण आर्थिक संकट से झूझ रहा है तो वही कई राज्य की सरकारें संकट के इस दौर में अपने राज्य के लोगों को राशन, बिजली,पानी जैसी सुविधाओं में रियायत दे रही है। वहीं, नौगांव नगरपालिका ने एक ऐसा फरमान जारी कर दिया है, जिससे लोगों की जेब ढीली होने वाली है। नगरपालिका ने हाल ही में यह मुनादी कराई है कि की नगर में जहां-जहां जल प्रदाय के लिए नई पाइप लाइन डाली गई है, वंहा के लोगों को पुरानी पाइप लाइन से कनेक्शन कटवाकर नई पाइप लाइन से कनेक्शन लेने होंगे। इसके लिए उन्हें 2150 रुपए का शुल्क भी देना होगा। इसके अलावा कनेक्शन देने के लिए सड़क खोदी जाती है तो उसका चार्ज अलग से देना होगा।
नगरपालिका का यह फरमान नगर में चर्चाओं का विषय बना हुआ है नगर के लोगों का कहना है की लॉकडाउन के चलते खाने के लाले पड़े हुए है। अब नगरपालिका के इस आदेश से पानी को भी तरसना पड़ेगा। एक ओर नगर की गरीब तबके की जनता शिवराज सरकार की तरफ आशा भरी नजरों से निहार रही है कि उन्हें बिजली,पानी सहित रोजमर्रा की चीजों के शुल्क से कुछ महीनो के लिए छूट मिलेगी, वहीं दूसरी ओर नगरपालिका ने नल कनेक्शन लेने और रुपए जमा करने का फरमान सुना दिया है। नगरपालिका अंतर्गत गर्रोली में 260 और नगर में 6106 कुल 6366 नल कनेक्शन हैं। नई लाइन से अभी कुल 125 कनेक्शन है, पुरानी लाइन के करीब एक हजार कनेक्शन काट कर नई पाइप लाइन में जोड़े जाने हैं। जिससे नगर के वीरेन्द्र कॉलोनी, पिपरी और हल्लू कॉलोनी के रहवासियों पर आर्तिक बोझ आने वाला है।
परिषद में बढ़े शुल्क का प्रस्ताव है पास
नगरपालिका कर्मियों ने बताया की नल कनेक्शन के लिए पहले आठ सौ रुपए, उसके बाद बारह सौ रुपए शुल्क लगता था। 2016 /17 में परिषद में प्रस्ताव पास हुआ था की एक अप्रेल 2018 से नए कनेक्शन के लिए आम नागरिकों से 3350 रूपए लिए जाएंगे। वहीं इनकम टैक्स देने वाले लोगों से 4150 रूपए शुल्क लिया जाएगा। जिनके पुरानी लाइन से पहले से कनेक्शन हैं, उनकी जमा राशि को काट कर उनसे बाकी शुल्क बसूला जाएगा। इसके अलावा कनेक्शन के लिए पांच फीट तक खोदी गई सीसी सड़क के पांच सौ व दस से बारह फीट तक एक हजार रुपए अतिरिक्त देना होगा। यदि डामर रोड खोदी जाती है तो उसका चार्ज लोकनिर्माण विभाग को उसके हिसाब से देना होगा।
प्लानिंग की कमी के कारण बर्बाद हो रहा राजस्व
मुख्यमंत्री शहरी नल-जल योजना के तहत 28 करोड़ की लागत से गर्रोली में फिल्टर प्लांट सहित नगर में जगह जगह पाइप लाइन बिछाई गई है, जिसके लिए नगरपालिका ने पहले से बनी सीसी सड़कों को खोदा और पाइप लाइन बिछाने के बाद करोड़ों की लागत से वह खुदी हुई सड़कें फिर से बनाई गई। यदि पहले ही तय था की नई पाइप लाइन बिछने के बाद उसी से कनेक्शन लेना पड़ेगा तो तभी कनेक्शन कर दिए जाने थे। अब यदि यह नल कनेक्शन बदलते है तो एक बार फिर जगह-जगह सड़कें खोदी जाएंग, जिससे नगरपालिका के राजस्व पर पिर से सड़क बनबाने का भार पड़ेगा।
बंद कर रहे पुरानी लाइन
नई पाइप लाइन बिछने से कंही-कंही डबल पाइप लाइन हो गई है। दोनों लाइनों में पानी सप्लाई करना पड़ता है। जिससे पानी की बर्बादी होती हैसिके साथ ही अंतिम घर तक पानी नहीं पहुंच पाता है। पुराने पाइप लाइन को बंद कर नई पाइप लाइन ही चालू रहेगी इसलिए नई लाइन से कनेक्शन किए जा रहे हैं।
धर्मेंद चौबे, सब इंजीनियर नगरपालिका

Dharmendra Singh
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned