बिजली विभाग की तानाशाही से उपभोक्ता परेशान

बिजली विभाग की तानाशाही से उपभोक्ता परेशान
बिजली विभाग की तानाशाही से उपभोक्ता परेशान

Unnat Pachauri | Updated: 12 Oct 2019, 05:05:05 AM (IST) Chhatarpur, Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

- बिल जमा होने के बाद भी कट रहे कनेक्शन

नौगांव। बिजली विभाग के द्वारा विद्युत बिल जमा करने के लिए जब से ऑनलाईन प्रक्रिया शुरू की। तब से उपभोक्ताओं की परेशानी कम नहीं हो रही है। एक ओर तो बढ़े हुए बिजली बिल आ रहे हैं। दूसरी ओर बिजली बिल जमा होने के बाबजूद भी कनेक्शन काटे जा रहे हैं। इसी को लेकर ऋषि कम्प्यूटर पर नगर कांग्रेस अध्यक्ष ने बिजली विभाग के कर्मचारियों की जमकर क्लास ली और बिजली बिल जमा करने में पारदर्शिता लाने की बात कही। जानकारी के अनुसार बीते कुछ माह पहले बिजली विभाग के द्वारा ऑफ लाइन बिजली बिल जमा करने की व्यवस्था समाप्त कर दी गई थी और ऑनलाइन बिजली बिल जमा किए जाने लगे। जिसके लिए अधिकृत रूप से ऋषि कम्प्यूटर और पीडब्ल्यूडी रोड टंकी के पास विश्वकर्मा कम्प्यूटर की दुकान को बिल जमा करने का ठेका मिला। इसके अलावा अन्य कम्प्यूटर की दुकाने जो ऑन लाइन का काम करती हैं। वह भी बिजली बिल जमा कर रहे हैं। लेकिन वह उपभोक्ता से 5000 से कम राशि पर 50 रुपए अधिक और 5 हजार की ऊपर की राशि पर 100 रुपए तक लिए जा रहा हैं। लेकिन विभाग के द्वारा दो कम्प्यूटर की दुकानें अधिकृत रूप से बिल जमा करने के लिए बताई गई हैं। उन पर 5 हजार से कम पर 10,20 रुपए और 5 हजार से ऊपर से 50 रुपए लिए जा रहा है। ऐसे में हाल में वह दुकानदार जो लाइट का उपयोग ज्यादा करते हैं जैसे चक्की या कोई कारखाना उनको विद्युत बिल के अलावा अलग से देय राशि ज्यादा लग जाती है इसकी भनक विभाग को भी है।
गल्र्स स्कूल चौराहे पर ऋषि कम्प्यूटर पर उस वक्त नगर कांग्रेस अध्यक्ष शिवानंद तिवारी बिजली विभाग के विरोध में पहुंच गए। जब दो तीन उपभोक्ताओं के बिल जमा होने के बाद भी न केवल कनेक्शन काट दिए गए बल्कि उनको नोटिस भी पहुंच गया। वहीं उपभोक्ता अशफाक ने ऋषि कम्प्यूटर पर अपना बिजली बिल जमा कर दिया था। जिसकी कच्ची रशीद ऋषि कम्प्यूटर पर दी गई थी। लेकिन विद्युत विभाग के खाते में बिजली बिल की बकाया राशि नहंी पहुंची थी। इसलिए बकायादार सूची में उसका नाम आ गया। इसके अलावा एक अन्य उपभोक्ता भी इसी तरह की परेशानी लेकर घूम रहा था। उसके द्वारा बिजली बिल जमा कर दिया गया। बकायादार राशि में उसका भी नाम था नगर अध्यक्ष शिवानंद तिवारी के द्वारा बिजली विभाग के कर्मचारी ओर ओआईसी कैलाश रैकवार को वहां बुलाया गया और तत्काल ही इस संबंध में निराकरण करने की बात कही। जिसको लेकर ओआईसी ने यह आश्वासन दिया कि उपभोक्ता का कनेक्शन जुड़ जाएगा। जब तक राशि बिजली विभाग के खाते में नहीं पहुंचती है तब तक उसके ऊपर बकाया रहेगा। वहीं यह भी जानकारी लगी कि जो रशीद उपभोक्ता के पास थी वह कच्ची थी ऑनलाइन ट्रांसफर की प्रिंटर की रशीद नहीं थी। वहीं बिजली विभाग से मिली जानकारी के अनुसार नौगांव शहर का लगभग 4 करोड़ बिजली बिल बकाया है इसमेें एक करोड़ 80 लाख के एरियर का है चूंकि हर माह एक करोड़ 50 लाख के लगभग बिजली बिल आते हैं और जमा नहंी होते वह एरियर में जुड़ते जाते हैं।

इनका कहना है
ऐसा हो नहीं सकता है कि बिजली बिल जमा होने के बाद उपभोक्ता का नाम बकायादार सूची में नाम आ जाए, अगर कोई भी उपभोक्ता ऐसा पाया जाता है। तो तुरंत वह मेरे पास आए। तत्काल में उसकी समस्या का समाधान करूंगा।
अजीत चौहान, एई बिजली विभाग नौगांव

इनका कहना है
उपभोक्ता का बिल बकाया था इस वजह से कनेक्शन कटा था कम्प्यूटर की दुकान से ट्रांजेक्शन हुआ होता तो विभाग के खाते में पहुंच जाता। अभी उपभोक्ता का बिजली कनेक्शन जुड़वा दिया गया है और अगर इसमें कम्प्यूटर सेंटर से कोई लापरवाही बरती गईहै तो विभागीय नोटिस दिया जाएगा।
कैलाश रैकवार, ओआईसी नौगांव

इनका कहना है
उपभोक्ता लगातार बिजली कटौती ओर बढ़े हुए बिजली बिल से परेशान थे ही, अब बिल जमा होने के बाद भी बिना सूचना दिए उनके कनेक्शन काटे जा रहे हैं। यह गलत है अगर विभाग के द्वारा जल्द ही इन समस्याओं का निराकरण नहंी किया गया तो विभाग के प्रति नगर कांग्रेस आंदोलन करने के लिए बाध्य हो जाएगी। जिसकी जिम्मेदारी बिजली विभाग की होगी।
शिवानंद तिवारी, नगर अध्यक्ष कांग्रेस कमेटी नौगांव

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned