फोरलेन निर्माण के लिए पहुंचे ठेका कंपनी के कर्मचारी, ग्रामीणों ने जताया विरोध

ग्रामीणों का आरोप - बिना मुआवजा दिए काम शुरु करना चाहती है कंपनी

By: Dharmendra Singh

Published: 16 May 2020, 07:00 AM IST

छतरपुर। फोरलेन के निर्माण के लिए चंद्रपुरा में शुक्रवार को ठेका कंपनी ने काम शुरु किया तो ग्रामीणों ने विरोध जताया। ग्रामीणों का आरोप है कि बिना मुआवजा दिए निर्माण कार्य कराने की योजना बनाई गई है। किसानों ने कहा कई सालों से मुआवजे के लिए परेशान हैं। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि ठेका कंपनी पीएनसी ने बिना मुआवजा दिए उनकी जमीनों पर निर्माण कार्य शुरू कराया तो किसान आत्मदाह करेंगे। ग्रामीणों ने बताया कि तीन माह पहले भी कंपनी ने जबरन निर्माण शुरु कराने का प्रयास किया था, तब प्रशासन ने मुआवजा के मसले को निपटाने के बाद काम शुरु करने की बात कही थी। लेकिन मुआवजा मिला ही नहीं और कंपनी दोबारा काम शुरु करना चाहती है।
किसानों ने लगाए ये आरोप
घनश्याम पटेल ने कहा कि स्टेशन के सामने चंद्रपुरा में पीएनसी द्वारा एनएच के रोड को डायवर्ट कर दूसरी जगह से निकाला जा रहा है। पहले यह रोड दूसरी जगह से निकल रहा था, लेकिन करीब 3 किलोमीटर का पीएनसी वालों ने रोड डायवर्ट कर दिया, जिससे कई किसानों की जमीन एनएच में आ गई। घनश्याम पटेल का आरोप है कि जिन लोगों को मुआवजा मिला उनकी जमीनों छोड़कर जिन लोगों को मुआवजा नहीं मिला उनकी जमीनों से रोड निकाली जा रही है। घनश्याम ने बताया कि उसने मजदूरी मेहनत करके एक मकान बनाया था, लेकिन अब जिला प्रशासन के लोग उसे आकर यह धमकी दे रहे हैं कि वह अपना मकान खाली कर दे। गोकुल प्रसाद अहिरवार ने कहा कि जिला प्रशासन मुआवजा देकर रोड डलवाए तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं है। लेकिन जिला प्रशासन बिना मुआवजा वितरित किए ही उनकी जमीनों पर काम शुरू करना चाहता है। किसान श्रीराम अहिरवार ने कहा कि जिला प्रशासन और पीएनसी के द्वारा खेतों में खुदे हुए कुए मशीनों से पाट दिए हैं, खड़ी फसलों को नष्ट कर दिया गया। हमने इसका विरोध किया तो पुलिस हमें मारने की और जेल में डालने की धमकी देती है। किसान अरविंद ने कहा कि रोड डाइवर्ट करने की शिकायत जिला प्रशासन से की गई, लेकिन कोई भी निवारण नहीं हुआ है। राजा बाई* ने कहा कि मुआवजा दे नहीं रहे हैं, बने मकान को तोडऩे के लिए पीएसी के लोग आए थे। मकान टूट जाएगा तो यह कहां रहेंगे? अब हमारे सामने फांसी लगाकर मरने के अलावा और कोई चारा नहीं है, इसका जिम्मेदार जिला प्रशासन होगा।
दिलाया जाएगा मुआवजा
किसानों द्वारा एक आवेदन दिया गया है, जिसमें यह कहा गया है कि उनकी जमीनों अधिग्रहण की गई है लेकिन उसका मुआवजा नहीं दिया गया। इस संबंध में कलेक्टर से चर्चा की जाएगी, किसानों को उनकी जमीनों का मुआवजा दिलाया जाएगा इसके बाद ही निर्माण कार्य शुरू होगा।
मलखान सिंह, जिला अध्यक्ष भाजपा
किसानों को उनकी जमीनों का मुआवजा मिलेगा, कोई भी किसान मुआवजे से वंचित नहीं रहेगा। फोरलेन का निर्माण भी जरूरी है जिससे लोगो को लाभ मिल सके।
शीलेन्द्र सिंह, कलेक्टर

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned