कोरोना की नई गाइड लाइन जारी, अब शादी समारोह में 300 लोग हो सकेंगे शामिल

रात 11 से सुबह 6 बजे तक जारी रहेगा नाइट कफ्र्यू, समाजिक, राजनीतिक समारोहों पर अभी भी रोक
इधर, दो महीने बाद रेंडम जांच में मिलने लगे पॉजिटिव, ग्रामीण व शहरी इलाके में मिल रहे संक्रमित

By: Dharmendra Singh

Published: 11 Oct 2021, 06:49 PM IST

छतरपुर। गृह विभाग के निर्देश पर कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह ने धारा 144 के तहत कोरोना की नई गाइड लाइन जारी की है। नई गाइडलाइन में शादी समारोह में अब 300 लोगों के शामिल होने की छूट रहेगी। वहीं, अंतिम संस्कार में शामिल होने वालों की संख्या भी बढ़ाकर 200 कर दी गई है। इसके अलावा स्टेडियम ,थियेटर और स्विमिंग पूल भी खोल दिए गए हैं यह 50 फ़ीसदी की क्षमता से संचालित हो सकेंगे। हालांकि धार्मिक, समाजिक, राजनीतिक आयोजन, मेले व चल समारोह पर अभी प्रतिबंध जारी रहेगा। वहीं रात 11 से सुबह 6 बजे तक नगरीय क्षेत्र में नाइट कफ्र्यू अभी भी जारी रहेगा।

कहीं 50 तो कहीं 100 फीसदी छूट
्रनई गाइड लाइन के तहत कोचिंग संस्थान अब पूरी छूट के साथ खुल सकेंगे। योग प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित हो सकेंगे। वहीं, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, निजी कार्यक्रम, शॉपिंग मॉल, जिम अपने नीयत समय पर संचालित हो सकेंगे। हालांकि सिनेमा घर, जिम, फिटनेस सेंटर योगा केन्द्र फिलहाल 50 फीसदी क्षमता के साथ ही खुलेंगे। स्टेडियम खुल सकेंगे। लेकिन दर्शकों दीर्घा की क्षमता 50 फीसदी रहेगी। रेस्टोरेंट व क्लब 100 फीसदी क्षमता के साथ खुल सकेंगे। रामलीला में 50 फीसदी क्षमता तक की दर्शक शामिल हो सकेंगे। वहीं, रावण दहन का कार्यक्रम का स्वरुप छोटा होगा। गरबे का आयोजन हो सकेगा, लेकिन 50 फीसदी क्षमता के साथ ही आयोजन की छूट होगी। रात 10 बजे तक ही डीजे की अनुमति दी गई है। इसके साथ ही धार्मिक स्थलों पर 50 फीसदी क्षमता के साथ ही श्रद्धालु उपस्थित हो सकेंगे।

छिपे संक्रमितों को खोजने हो रही रेंडम जांच
जिले में कोरोना के छिपे मामलों की खोज के लिए रेंडम जांच की जा रही है। ये रेंडम जांच शहरी व ग्रामीण इलाके में की जा रही है। कभी स्कूल तो कभी मोहल्ले में सैंपल लेकर जांच की जा रही है। पूरे जिले से रोजाना 500 से 700 सैंपल लेकर रेंडम जांच हो रही है। रेडम जांच में जिले में अब तक तीन केस मिले हैं, जिसमें से दो अभी भी डिस्चार्ज है। जिले में अबतक कुल 9835 पॉजिटिव मिले हैं, जिसमें से 9679 स्वस्थ हो चुके हैं। अगस्त के बाद अक्टूबर में पॉजिटिव केस सामने आने लगे हैं, हालांकि नए केस में कम या बिना लक्षण वाले मरीज ही मिल रहे हैं।


पूर्ण सुरक्षा के लिए सेंकड डोज जरूरी
जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. मुकेश कुमार प्रजापति का कहना है कि कोविड से पूर्ण सुरक्षा के लिए कोविड वैक्सीन के दोनों डोज लगवाना जरू री है। पहला डोज आधी सुरक्षा दे रहे, दोनों डोज लगवाने से गंभीर कोविड संक्रमण से सुरक्षा मिलेगी। उन्होंने लोगों से सें$क ंड डोज लगवाने की अपील की है। गौरतलब है कि वर्तमान में एक्टिव दो केस में 65 वर्षीय महिला ने वैक्सीन नहीं लगवाई है, वहीं दूसरे मामले में केवल एक डोज ही लगाया गया है।

१३ लाख लगे डोज लेकिन सेंकड केवल 2.61 लाख
जिले में अब तक कुल 13.37 लाख कोविड वैक्सीन लगाई गई हैं। जिसमें से 10.75 लाख लोगों ने पहला डोज लगवाया है, वहीं 2.61 लाख लोगों ने ही अब तक सेकंड डोज लगवाया है। आयुवर्ग के हिसाब से देखे तो युवाओं का वैक्सीनेशन संतोषजनक हुआ है, लेकिन बुजुर्ग वैक्सीन लगवाने में अभी भी पिछड़े हुए हैं। 14 से 44 वर्ष आयु वर्ग के 8.19 लाख लोगों ने वैक्सीन लगवाई है, वहीं 45 से 60 वर्ष की आयु के 3.16 लाख और 60 प्लस आयु वर्ग के केवल 2 लाख लोगों ने वैक्सीन लगवाई है।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned