जिले में वापस आए प्रवासी श्रमिकों के हुनर की पहचान कर तैयार होगा डेटा

सर्वे व सत्यापन के साथ पंजीयन शुरु
जिले में कौन से शहर-प्रदेश से वापस आए श्रमिक, किस का काम है अनुभव, इसका तैयार होगा डाटा वेस
श्रम विभाग के द्वारा प्रवासी मजदूरों को संबल योजना, भवन निर्माण के कार्यो में मिलेगा रोजगार, नगरपालिका व जनपद के द्वारा हो रहा सर्वे

By: Dharmendra Singh

Published: 28 May 2020, 06:00 AM IST

छतरपुर। 1 मार्च 2020 या उसके बाद जिले में वापस लौटे प्रवासी श्रमिकों का सर्वे, सत्यापन तथा पंजीयन का अभियान बुधवार से शुरु किया गया है। ये अभियान 3 जून तक चलाया जाएगा। सर्वे का कार्य शहर में नगरपालिका और ग्रामीण इलाके में जनपद के माध्यम से शुरु कराया गया है। श्रम पदाधिकारी छतरपुर एसकेएस चौहान ने बताया कि सर्वे दल मोबाइल ऐप के जरिए वापस आए मजदूरों के बारे में जानकारी जुटाएगा, कि कौन, कहां से वापस आया है। श्रमिक किस उद्योग में काम करता था, जैसे टेक्सटाइल, फर्मास्युटिकल, ऑटोमोबाइल, प्लास्टिक, केमिकल, कन्ज्यूमर गुड्स, गारमेंट, अन्य अपकरण व पार्ट्स बनाने के उद्योग में कार्यरत था। सर्वे में केवल मूल निवासियों को ही शामिल किया जाएगा। प्रवासी द्वारा इस संबंध में दस्तावेज भी प्रस्तुत करने होंगे। सभी के लिए आधार कार्ड का नंबर देना जरूरी होगा, जिनका सत्यापन सर्वे दल ही करेगा। संबंल पोर्टल में मजदूरों का पंजीयन होने के बाद उनको योजनाओं के जरिए लाभ देने की कार्यवाही की जाएगी। इसके साथ ही ग्रामीण विकास विभाग द्वारा मनरेगा में कार्य दिलाया जाएगा। साथ ही पात्र श्रमिकों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत नि:शुल्क खाद्यान्न भी दिया जाएगा।
शहर में वार्ड प्रभारियों के दल कर रहे सर्वे
नगर पालिका परिषद छतरपुर के मुख्य नगर पालिका अधिकारी अरूण पटेरिया ने बताया कि श्रम विभाग एवं नगरीय प्रशासन के निर्देशानुसार प्रवासी श्रमिकों के पंजीयन हेतु वार्ड प्रभारियों के दल बनाकर सर्वे शुरु कराया गया है। इस अभियान के अंतर्गत मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) योजना, भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल में केवल पात्र लोगों का पंजीयन किया जाएगा। पंजीयन हेतु प्रवासी श्रमिकों के समग्र आईडी एवं आधार का अधिप्रमाणन अनिवार्य रहेगा। समस्त वार्ड प्रभारी 27 मई से 3 जून तक वार्डवार सर्वे सत्यापन तथा पंजीयन का कार्य प्रत्येक वार्ड में भ्रमण करके करेंगे तथा प्रवासी श्रमिकों को वार्ड प्रभारियों को सम्पूर्ण जानकारी व दस्तावेजों की छायाप्रतियां उपलब्ध कराना अनिवार्य रहेगा। जनपद सीइओ मजहर अली ने बताया कि ग्रामीण इलाके में ग्राम सचिव व महिला एवं बाल विकास विभाग के कर्मचारियों के द्वारा संयुक्त रुप से सर्वे कार्य कराया जा रहा है।
वापिस लौटे मजदूरों को दी जाएंगी आर्सेनिक एलबम-30
कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह द्वारा समस्त अनुविभागीय अधिकारीयों को निर्देशित किया गया है कि जो भी प्रवासी मजदूर बस, ट्रेन या किसी अन्य माध्यम से 5 मई के बाद जिले में आए हैं उन सभी के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत कर कोरोना वायरस से बचाव हेतु कल से आर्सेनिक एलबम-30 नाम की होम्योपैथिक दवा का वितरण किया जाए। उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस का खतरा सामान्य तौर पर उन लोगों को है, जिनकी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है। आयुष मंत्रालय ने एक एडवायजरी जारी कर कोरोना वायरस से बचाव के लिए एसबीएल आर्सेनिक एलबम-30 दवा के सेवन की बात कही है। सर्दी-खांसी, जुकाम व सांस लेने में परेशानी, शरीर दर्द होने पर आर्सेनिक एलबम-30 नाम की होम्योपैथिक दवा का उपयोग करके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत की जा सकती है। आर्सेनिक की 6 गोलियां 3 दिन सुबह खाली पेट लेनी होंगी और 10 साल से कम उम्र के बच्चे को सिर्फ 4 गोलियां 3 दिन सुबह खाली पेट दें। खाने के बाद आधा घंटा कुछ भी नहीं खाना है। इस दवाई का असर सिर्फ 1 महीने तक रहता है इसलिए हर महीने इसका सेवन जरूरी है। 3 साल से कम उम्र के बच्चे एवं गर्भवती महिलाओं को इस दवाई का सेवन नहीं करना है।
कटरा से आज आएंगे प्रवासी मजदूर, दोपहर 12.30 पर आएगी ट्रेन
श्रमिक एक्सप्रेस ट्रेन नम्बर 04678 के माध्यम से दोपहर 12:30 बजे कटरा से श्रमिकों की छतरपुर रेलवे स्टेशन वापसी होगी। ट्रेन के जरिए पहुंचने वाले प्रवासी मजदूरों, छात्रों और अन्य यात्रियों के नाश्ता-खाना एवं गंतव्य स्थान तक भेजने की व्यवस्था और स्वास्थ्य परीक्षण के लिए कलेक्टर ने अधिकारियों की ड्यूटी निर्धारित की है। इसके साथ ही कलेक्टर ने सम्पूर्ण व्यवस्था का प्रभारी अधिकारी जिला पंचायत सीईओ हिमांशु चन्द्र और एएसपी समीर सौरभ को नियुक्त किया है।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned