scriptलेटलतीफी: दो साल बाद भी शुरु नहीं हो सका नए स्वरुप में लाइट एंड साउंड शो प्रोग्राम | Patrika News
छतरपुर

लेटलतीफी: दो साल बाद भी शुरु नहीं हो सका नए स्वरुप में लाइट एंड साउंड शो प्रोग्राम

दो साल पहले जून में नए सिस्टम को लगाने की योजना बनी थी, लेकिन प्रक्रिया की लेटलतीफी के चलते इस साल अब तक नया सेटअप शुरु नहीं हो सका। 22 साल पुराने शो को थ्री-डी प्रोजेक्शन मैपिंग और एलइडी लाइटों के इस्तेमाल से और अधिक आर्कषक बनाया जाना है।

छतरपुरJun 16, 2024 / 11:26 am

Dharmendra Singh

light and sound

लाइट एंड साउंड प्रोग्राम का दृश्य

छतरपुर. यूनेस्को की विश्व घरोहर खजुराहो के पश्चिमी समूह मंदिरों की पृष्ठभूमि पर प्रदर्शित होने वाले लाइट एंड साउंड शो को नया स्वरुप देने की योजना में देरी हो गई है। दो साल पहले जून में नए सिस्टम को लगाने की योजना बनी थी, लेकिन प्रक्रिया की लेटलतीफी के चलते इस साल अब तक नया सेटअप शुरु नहीं हो सका। 22 साल पुराने शो को थ्री-डी प्रोजेक्शन मैपिंग और एलइडी लाइटों के इस्तेमाल से और अधिक आर्कषक बनाया जाना है।

यह है 3-डी प्रोजेक्शन मैपिंग शो


अत्याधुनिक तकनीक वाले इस 3-डी प्रोजेक्शन मैपिंग शो का आयोजन उस तकनीक पर आधारित है जो एक इमारत या संरचना को सतह के रूप में बदल देती है। जबकि यह पूरी तरह से सिर्फ प्रकाश होता है। निर्धारित संरचना पर शो की थीम के साथ चमकदार छवियों के बीच संबंधित इमारत, व्यक्ति या स्थलों को प्रकाश द्वारा आकर्षक तरीके से दर्शाया जाता है और ऑडियो द्वारा उसका पूरा विवरण सुनाई देता है।

वर्ष 2000 में शुरु हुआ मंदिरों के इतिहास से रुबरु कराने वाला शो


खजुराहो के पश्चिम मंदिर समूह परिसर में वर्ष 2000 में लाइट एंड साउंड-शो शुरू किया गया था। यह तब से अब तक चला आ रहा है। मंदिरों की पृष्ठभूमि में होने वाले इस शो में जब मंदिरों में आकर्षक रंग बिरंगी लाइट डाली जाती है तो मंदिरों की आभा दोगुनी हो जाती है। रंगारंग लाइटों से नहाएं मंदिरों के नेपथ्य में अमिताभ बच्चन मंदिरों का इतिहास अपनी आवाज में बताते हैं तो मंदिर और भी आकर्षक नजर आते हैं।

अंग्रेजी व हिन्दी में होते थे शो


एमपी टूरिज्म के सुरेश अनुरानी बताते हैं कि खजुराहो के मंदिरों पर आधारित फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन की आवाज वाले लाइट एंड साउंड प्रोग्राम को देखने रोजाना 100 से 200 दर्शक आते थे। 22 साल चला ये शो हिन्दी और अंग्रेजी भाषाओं में होता था। पहला शो अंग्रेजी भाषा का होता, जो शाम 6.30 से 7.25 बजे तक आयोजित किया जाता है। वहीं, दूसरा शो हिंदी भाषा में शाम 7.40 से शुरु होकर रात 8.35 तक चलता था। कार्यक्रम के लिए भारतीय पर्यटकों के लिए वयस्क का टिकिट 250 रुपए एवं बच्चों का टिकिट 120 रुपए रखा गया। विदेशी पर्यटकों के लिए वयस्क पर्यटक को 700 रुपए एवं बच्चों के लिए 300 रुपए का प्रवेश टिकिट रखा गया।

Hindi News/ Chhatarpur / लेटलतीफी: दो साल बाद भी शुरु नहीं हो सका नए स्वरुप में लाइट एंड साउंड शो प्रोग्राम

ट्रेंडिंग वीडियो