देवी मंदिरों के बंद रहेंगे पट, घर में ही करना होगा पूजन-पाठ

नवरात्र पर पहली बार बन रहा योग

छतरपुर. कोरोना अलर्ट का इस बार हिंदू नववर्ष और चैत्र नवरात्र पर भी हैं। धूमधाम से मनाए जाने वाले इस पर्व पर लॉक डाउन और १४४ का असर है। नतीजन, जिले के सभी प्रसिद्ध मंदिरों के पट आम भक्तों के लिए बंद रहेंगे। प्रशासन ने सभी लोगों से घर पर ही पूजन, पाठ करने का आग्रह किया हैं। मंदिरों में एकत्रीकरण नजर आने पर कार्रवाई की भी चेतावनी दी गई हैं।
हिंदू नववर्ष और चैत्र शुक्ल नवरात्र की परमा को शक्ति की भक्ति का पर्व शुरू हो रहा हैं। हर साल की तरह इस बार भक्तों को उत्साह के साथ यह मनाने तो नहीं मिलेगा, लेकिन घर में रहकर भक्त यह पर्व पूरी सिद्धत से मना सकते है और मां जगतजननी से राष्ट्रीय आपदा से छुटकारा के लिए मनोकामना कर सकते हैं। नवरात्र बैठकी के दिन मंदिरों में पुजारी पूजन के बाद सभी मंदिरों के पट बंद कर सकते हैं। आम भक्तों के लिए मंदिर के पट नहीं खुलेंगे।
नवरात्र के दौरान जिले में उत्सव का माहौल होता है। जिले भर में एक दर्जन से अधिक मेलों का आयोजन किया जाता है, जहां जिले भर के लोगों का पहुंचना होता हैं। शहर के बड़ी बगराजन माता मंदिर में मेला लगता है। जबकि फूलादेवी मंदिर, कालीमाता मंदिर हमा, झनझन देवी मंदिर महोबा रोड ,बजरंग नगर स्थित देवी मंदिर पर भी बड़ी संख्या में भक्तों का मां के दर्शन करने पहुंचना होता हैं। इसके अलावा गढ़ीमलहरा में मां बड़ी बगराजन का सबसे बड़ा मेला लगता है। वहीं लवकुशनगर बम दुर्गेनी के मंदिर में मेला लगता है। जबकि घुवारा रोड स्थित रामटौरिया में अवार माता का मंदिर काफी प्रसिद्ध है। जहां भी हजारों की संख्या में भक्त हर साल पहुंचते हैं। इसके अलावा जिले के अन्य सभी देवी मंदिरों में भी मेला नहीं लगेगा। जबकि यहां भक्तों को मां जगतजननी के दर्शन भी नहीं मिलेंगे।

Sanket Shrivastava Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned