विधानसभा के बजट सत्र में मेडिकल कॉलेज का मुद्दा उठाएंगे जिले के विधायक

वर्ष 2018 में भूमिपूजन के बाद से अटका है छतरपुर का मेडिकल कॉलेज
बजट न मिलने से निर्माण के लिए जारी टेंडर भी हो चुके निरस्त

By: Dharmendra Singh

Published: 12 Feb 2021, 05:32 PM IST

छतरपुर। छतरपुर जिले में प्रस्तावित शासकीय मेडिकल कॉलेज का भूमिपूजन हुए लगभग ढाई साल का वक्त गुजर चुका है लेकिन नौगांव रोड पर ग्राम गौरगांय के समीप आरक्षित की गई लगभग 14 हेक्टेयर शासकीय जमीन पर एक बोर्ड लगाने के अलावा इस दिशा में अब तक कोई कदम नहीं उठाया गया है। कैंपस की बाउंड्रीवॉल निर्माण के लिए टेंडर जारी करने के बाद बजट के अभाव में निरस्त भी हो चुका है। मेडिकल कॉलेज का डीपीआर भी बना रखा है। अब बजट में जगह मिलेग तो काम आगे बढ़ सकता है। इसके लिए 23 फरवरी से शुरु हो रहे विधानसभा का बजट सत्र में जिले के विधायक बजट की मांग कर सकते हैं।

30 सितम्बर 2018 को हुआ था भूमिपूजन
वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव के पहले छतरपुर की जनता की मांग को देखते हुए तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 30 सितम्बर 2018 को जिला अस्पताल के नए भवन का लोकार्पण करने के साथ-साथ मेडिकल कॉलेज का भूमिपूजन कर दिया था। इसके बाद छतरपुर की उक्त जमीन को उच्चशिक्षा चिकित्सा विभाग के नाम हस्तांतरित भी कर दिया गया। किन्तु बाद में प्रदेश में भाजपा की सरकार बदल गई। फिर कांग्रेस के शासन में छतरपुर का मेडिकल कॉलेज के लिए कुछ नहीं हुआ। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने उपचुनाव के बाद जब दोबारा कमान संभाली तो बड़ामलहरा की चुनावी सभा में कांग्रेस पर आरोप लगाए कि कमलनाथ ने ही छतरपुर का मेडिकल कॉलेज अटका दिया था। कुल मिलाकर छतरपुर का मेडिकल कॉलेज प्रदेश में हुए सत्ता परिवर्तन के कारण राजनीति के बीच उलझ कर रह गया।

भाजपा के विधायक सदन में उठाएंगे मुद्दा
छतरपुर के मेडिकल कॉलेज को लेकर 23 फरवरी से शुरू होने जा रहे बजट सत्र में विधायक एक बार फिर एकजुट होकर आवाज उठाने की बात कह रहे हैं। भाजपा विधायक प्रद्युम्र सिंह का कहना है कि मैं और चंदला विधायक राजेश प्रजापति दोनों ही बजट सत्र में छतरपुर के मेडिकल कॉलेज के लिए बजट राशि उपलब्ध कराने की मांग करेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के कारण ही छतरपुर को मेडिकल कॉलेज मिलने में देरी हुई।

कांग्रेस विधायक मांगेगे बजट
कांग्रेस विधायक आलोक चतुर्वेदी कहते हैं कि वे सदन में इस विषय को लाएंगे। उन्होने यह भी कहा कि छतरपुर मेडिकल कॉलेज को लेकर भाजपा के नेता अलग-अलग भाषा बोलते हैं। एक सप्ताह पहले केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से जब मुख्यमंत्री शिवराज सिहं चौहान मिले तो उन्होंने छतरपुर में मेडिकल कॉलेज की मांग की है। जब 2018 में ही वे मेडिकल कॉलेज दे चुके हैं तो फिर नई मांग का क्या मतलब है। उन्होंने कहा कि वे सरकार से मांग करेंगे कि मेडिकल कॉलेज के लिए जल्द से जल्द बजट मंजूर किया जाए। बिजावर से सपा विधायक राजेश बबलू शुक्ला ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान पूर्व में शिलान्यास कर चुके हैं। हमें उम्मीद है कि वे अपने वादे को निभाएंगे। उन्होंने कहा कि छतरपुर जिले की स्वास्थ्य सेवाएं बहुत बदतर हैं जिले को जल्द से जल्द मेडिकल कॉलेज मिले इसके लिए हम पूरा प्रयास करेंगे।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned