शहर में किराने, चाय की दुकानों और मेडिकल स्टोरों पर बिक रहीं नशीली दवाइयां

शहर में किराने, चाय की दुकानों और मेडिकल स्टोरों पर बिक रहीं नशीली दवाइयां
शहर में किराने, चाय की दुकानों और मेडिकल स्टोरों पर बिक रहीं नशीली दवाइयां

Unnat Pachauri | Updated: 23 Aug 2019, 05:00:00 AM (IST) Chhatarpur, Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

- जानकारी के बाद भी कार्रवाई से बच रहे अधिकारी
- नहीं आती गंध इसलिए करते हैं दवाईयों का नशा

छतरपुर। शहर में नशीली दवाईयों का कारोबार बड़े पैमाने में फल-फूल रहा है। यह दवाईयां मेडिकल स्टोरों के साथ-साथ चाय पान और किराने की दुकानों में भी आसानी मिल रही है। जिसे युवा तेजी से दसकी लत का शिकार होता जा रहा है। लेकिन विभाग को जानकारी होने के बाद भी कार्रवाई करने से परहेज कर रहा है। जिससे अधिकतर युवा इस सस्ते नशे की चक्कर में अपना जिंदगी बर्बाद हो रही है। शहर के रहने वाले युवक संतोष ने बताया कि शहर के दर्जनों स्थानों में प्रतिबंधित और गैर प्रतिबंधित नशीली दवाईयां मेडिकल स्टोर, किराने की दुकानों और चाय पान आदि की दुकानों में बड़ी आसानी से मिल रहीं। शहर में थोक के भाव में खुली दवा दुकानों में जहर बेचा जा रहा है। दवा दुकानदार बगैर डॉक्टर की पर्ची के ही कई प्रतिबंधित दवाएं लोगों को मुनाफा कमाने के चक्कर में दे रहे हैं। शहर के सभी इलाकों में नशीली दवाओं का अवैध कारोबार चल रहा है। दिन हो या रात, खरीदने वाले खुलेआम इन दुकानों पर पहुंचते हैं और मनमाफिक नशे की दवा खरीदते हैं। वहीं ड्रग्स कंट्रोल विभाग कभी कभार ही इस ओर ध्यान दे रहा है। युवा राजेंद्र, विक्की व सानू ने बताया कि यह इंजेंक्शन व सीरप शहर के छत्रसाल चौक स्थित कई मेडिकल स्टोंरों में शाम के समय बेचा जाता है। वहीं इसके अलावा गांधी आश्रम रोड पर स्थित एक मेडिकल, अस्पताल के दूसरे गेट के पास, बस स्टेंड, देरी रोड, सटई रोड, पन्ना नाका, महोबा रोड सहित कई स्थानों में स्थित मेंडिकल स्टोर में नशीली दवाईयां बेची जा रही हैं। वहीं शहर के सटई रोड, पुलिस लाइन पेट्रोल पंप के पास, नया मोहल्ला, परिवारी मोहल्ला, पठापुर रोड, देरी रोड में चाय और किराने की दुकानों में नशीले सीरप और इंजेंक्शन बेचे जा रहे हैं। वहीं देरी रोड पर तीन आटा चक्कियों की आड़ में नशे का कारोबार हो रहा है। यहां पर नाइट्रा सहित कोरेक्स व अन्य प्रतिबंधित दवाएं, जिन्हें डाक्टर की पर्ची के बिना देना अपराध की श्रेणी में आता हैए खुलेआम बिक रही हैं। नशेड़ची इन्हें 50 फीसदी अधिक दाम में भी खरीद लेते हैं। इसके कारण दुकान संचालकों के लिए यह कमाई का बड़ा जरिया बन गया है।

कुछ भी करने को तैयार हो जाते हैं नशेड़ी
नशे की लत का शिकार युवक किसी भी बड़े अपराध को अंजाम देने से नहीं चूकते है। ड्रग का नशा करने वाले युवकों की पहचान भी इसलिए नहीं हो पाती है, क्योंकि शराब या गांजा जैसी दुर्गंध नहीं आती है। लेकिन जब वह नशा करते हैं तो उनके शरीर में अजीब सी हरकत होने लगती है। जानकार बताते हैं कि नशा करने के बाद युवक किसी को भी मारने और मरने पर उतारू हो जाते हैं।

खांसी का सीरप बना पहली पसंद
नशा करने के लिए लोगों की सबसे पहली पसंद खांसी के सीरप है। कोरीन, कोरेक्स, टोरेक्स सहित कप सीरप लोगों को आसानी से कहीं भी मिल रहा है और यहां जहां आम तौर पर ४० से ७० रुपए में एक सीरप मिलता है और इसके लिए डॉक्टर का पर्चा आवश्यक होता है लेकिन नशेडिय़ां द्वारा उसे दो तीन गुना दाम में खरीदा जा रहा है। नशेडियों के लिए यह १५० से २०० तक का है।

यहां हुई थीं कार्रवाईयां ..........

महिलाएं बेच रही थी इंजेक्शन
मार्च २०१८ में पुलिस की टीम ने महोबा रोड स्थित हरिजन छात्रावास के पीछे एक किराने की दुकान में दर्द और एलर्जी निवारक इंजेक्शन नशे के लिए बेचे जा रहे थे। ड्रग्स की यह बिक्री बिना लाइसेंस महिलाओं द्वारा की जा रही थी। एडिशनल एसपी जयराज कुबेर की टीम ने कार्रवाई के दौरान बडी मात्रा में इंजेक्शन और दवाई जब्त की थीं। पुलिस ने इस दौरान तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया था।

डेरा पहाड़ी के पास की जा रही थी नशीली दवाओं की सप्लाई
बीते वर्ष में सिविल लाइन थाना क्षेत्र के डेरा पहाड़ी के पास एक शौरभ उर्फ योगेंद्र नायक नामक युवक क्लीनिक खोलकर वहां से लोगों को नशीली दवाऐं सप्लाई करता था। पुलिस और ड्रग विभाग की टीम द्वारा क्लीनिक में छापामार कार्रवाई की गई थी। जहां से आरोपी के पास से भारी मात्रा में नशीली दवाएं जब्त की गई थी। यह युवक युवा पीढ़ी को नशीली दवाएं सप्लाई करता था।


फाइल फैक्ट

रुटीन जांच
२०१८-१९- २२५
२०१९-२०- ८० अभी तक

इनका कहना है
अभी कुछ दिन पहले दो तीन शिकायत मिली हैं जहां पर प्रतिबंधित दवाईयां और नशीली दवाईयां बेची जाने की जानकारी मिली है। इनमें से कुछ को नोटिस जारी किए हैं। इन पर जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।
देवेंद्र जैन, ड्रग इंपेंक्टर, छतरपुर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned