चक्रवात का असर, दिन में दो घंटे झमाझम बारिश, बिजली गिरने से पांच घायल

बड़ामलहरा के रजपुरा में बिजली गिरने से हुई घटना
भारी बारिश का अलर्ट हटा, लेकिन अभी होगी बारिश

By: Dharmendra Singh

Published: 25 Sep 2021, 07:26 PM IST

छतरपुर/बडामलहरा। प्रदेश में बने हवा के चक्रवात का असर जिले में शनिवार को दिखाई दिया। सुबह से ही बादल छाए रहे जो दोपहर 1 बजे जमकर बरसे। गरज चमक के साथ जोरदार बारिश का सिलसिला 2 घंटे लगातार चलता रहा। हालांकि बाद में भी रुक रुक कर बारिश होती रही। बारिश से उमस भरी गर्मी से राहत मिली, वहीं मौसम विभाग ने अब जिले में भारी बारिश का अलर्ट हटा दिया है, लेकिन अभी भी जिले में कहीं कहीं बारिश की संभावना बनी हुई है। वहीं नए-नए सिस्टम बनने से पांच दिनों तक कहीं कहीं बारिश तो कहीं कहीं जोरदार बारिश की संभावना जताई जा रही है।

बड़ामलहरा के रजपुरा में शनिवार दोपहर खेत में फसल कटाई कर रहे किसान आकाशीय बिजली की चपेट में आ गए। घायलों में 2 महिलाएं भी शामिल है। घायलो को जिला अस्पताल रेफर किया गया है। हरगोविंद पिता रूप सिंह यादव (27), शिवप्रताप पिता रूप सिंह यादव (32), रेखा यादव पति शिवप्रताप (25), मोतीलाल पिता दयाराम यादव 55, रामसखी पति कैलाश यादव (35)निवासी राजपुरा थाना बड़ामलहरा शनिवार दोपहर नादिया हार में उडद फसल की कटाई कर रहे थे। दोपहर 1.30 बजे अचानक बारिश होने से कटाई कर रहे लोग बरगद के पेड़ के नीचे खड़े हो गए। सभी लोग आकाशीय बिजली की चपेट में आने से घायल हो गए। घायलों को बड़ामलहरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें जिला अस्पताल रेफर किया गया।

बन रहे कई सिस्टम
बंगाल की खाड़ी में बना गहरा अवदाब का क्षेत्र चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है। गुल-आब नाम के इस तूफान के रविवार को आंध्रप्रदेश के मछलीपटनम में टकराने की संभावना है। इसके अतिरिक्त सौराष्ट्र पर हवा के ऊपरी भाग में बना चक्रवात अरब सागर में जाकर कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित हो गया है। इन दोनों सिस्टम से होकर मानसून ट्रफ बना हुआ है, जो इंदौर से होकर गुजर रहा है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इन वेदर सिस्टम के प्रभाव से मध्यप्रदेश में पांच दिनों तक रूक-रूक कर बारिश होने की संभावना है। विशेषकर भोपाल, इंदौर, जबलपुर, होशंगाबाद, सागर, ग्वालियर संभागों के जिलों में अच्छी वर्षा होने के आसार हैं। रीवा, शहडोल संभागों के जिलों में कहीं-कहीं बौछारें पड़ेंगी।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned