scripteffect of rain water on water sources will be investigated | वर्षा जल का जल स्रोतों पर पड़े प्रभाव की होगी जांच, जांचे जाएंगे 10 हजार स्रोत | Patrika News

वर्षा जल का जल स्रोतों पर पड़े प्रभाव की होगी जांच, जांचे जाएंगे 10 हजार स्रोत

बारिश के पानी के साथ आए प्रदूषण की जांच के बाद लोगों को करेंगे अलर्ट
निजी जल स्रोत की भी करा सकते हैं जांच, 1550 रुपए लगेगी फीस

छतरपुर

Updated: July 26, 2022 04:12:50 pm

छतरपुर। जिले में बारिश के जल से जल स्रोतों पर पड़े असर की जांच की जाएगी। जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग आने वाले दिनों में जिले भर में उसके अधिकार क्षेत्र में मौजूद 10 हजार से अधिक शासकीय जलस्त्रोतों से पानी का सैंपल लेकर उसकी जांच कराएगा। यह एक नियमित प्रक्रिया है जो विभाग के द्वारा अपनायी जाती है। इस प्रक्रिया का उद्देश्य है कि वर्षा जल के प्रभाव की जांच करना और पानी से जुड़ी जांचों के आधार पर लोगों को सतर्क और सावधान करना।
 विभाग की नेशनल लैब में होती है पानी की जांच
विभाग की नेशनल लैब में होती है पानी की जांच
विभाग की नेशनल लैब में होती है पानी की जांच
जिला मुख्यालय पर पीएचई कार्यालय में ही एनएडीएल संस्था से प्रमाणित जल परीक्षण की नेशनल लैब मौजूद है। यहां दो तरह से पानी की जांच की जाती है। विभाग अपने जलस्त्रोतों से दो लीटर पानी का सैंपल लेकर इसकी जांच करता है। पानी की फिजिकल, कैमिकल और वैक्टोलॉजिकल जांचें कराई जाती हैं जिसके 11 मापदण्ड होते हैं। इस जांच की रिपोर्ट दो दिन में प्राप्त हो जाती है जिसके द्वारा पानी की गुणवत्ता और उसके प्रभाव, दुष्प्रभाव का पता चल जाता है।
निजी जलस्त्रोत की जांच के लिए है यह व्यवस्था
पीएचई में पदस्थ आराधना पाठक ने बताया कि विभाग शासकीय जलस्त्रोतों के जल का परीक्षण तो करता ही है साथ ही यदि अन्य व्यक्ति या संस्थाएं भी अपने पानी का परीक्षण कराना चाहती हैं तो इसके लिए वे विभाग को एक आवेदन देकर 1550 रूपए की फीस चालान के माध्यम से विभाग में जमा कराते हैं। विभाग तीन तरह की 11 पैरामीटर पर आधारित जल परीक्षण रिपोर्ट दो दिन में उन्हें उपलब्ध करा देता है। कर्मचारियों को फील्डकिट भी दी गई हैं जिससे मौके पर ही जाकर पानी की जांच की जा सकती है। पानी को शुद्ध रखने के लिए समय-समय पर इन जलस्त्रोतों में क्लोरीन डलवाई जाती है। स्थानीय लैब के अलावा 10 फीसदी सैंपल बाहर के लैबों में भी जांच के लिए भेजे जाते हैं ताकि जलस्त्रोतों का पुन: प्रमाणीकरण हो सके।
जिले में मौजूद जलस्त्रोत
हैण्डपंप - 10337
चालू हैण्डपंप - 10185
नल-जल योजनाएं- 360
चालू योजनाएं - 296

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार में पलटी बाजी, बीजेपी के सभी मंत्री देंगे इस्तीफा, RJD के साथ सरकार बनाने की तैयारी में नीतीश कुमारBihar Political Crisis Live Updates: CM नीतीश कुमार ने राज्यपाल से मांगा समय, BJP के सभी 16 मंत्री आज देंगे इस्तीफाबिहारः जदयू और भाजपा के बीच तकरार की वो पांच वजहें, जिससे टूटने के कगार पर पहुंची नीतीश कुमार सरकारMaharashtra Cabinet Expansion Live Updates: महाराष्ट्र कैबिनेट का शपथ ग्रहण समारोह खत्म, शिवसेना और बीजेपी के 18 विधायकों ने ली शपथताइवान का चीन समेत दुनिया को संदेश: चीन के सैन्य अभ्यास के तुरंत बाद ताइवान ने भी शुरू की Live Fire Artillery Drill, बज गए युद्ध के नगाड़े18 से 22 अक्टूबर तक गुजरात के गांधीनगर में दिखाई जाएगी भारत की सबसे बड़ी रक्षा प्रदर्शनी, गुजरात चुनाव से पहले बदली तारीखहिंदुओं को अल्पसंख्यक घोषित करना अदालत का काम नहीं: सुप्रीम कोर्टFBI का छापा : अमरीका में भी भारत की तरह छापेमारी, Donald Trump के फ्लोरिडा वाले घर पर FBI की रेड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.