मौैसम का असर, जिला अस्पताल के 40 बिस्तर के वार्ड में 120 बच्चे भर्ती


वायरल ने बच्चों को जकड़ा, अस्पताल में निमोनिया और उल्टी-दस्त के मरीज बढ़े

By: Dharmendra Singh

Published: 15 Sep 2021, 06:32 PM IST

छतरपुर। जिले में वायरल फीवर और इससे जुड़े दूसरे रोगों ने मासूम बच्चों को चपेट में ले रखा है। जिला अस्पताल में मौजूद 40 बिस्तर वाले बच्चा वार्ड में स्थिति चिंताजनक हो गई है। यहां लगभग 120 बच्चे भर्ती हैं। हालांकि ये बच्चे कोरोना से पीडि़त नहीं है लेकिन इनकी बीमारी निमोनिया, बुखार से जुड़ी हुई है। कुछ बच्चे उल्टी और दस्त के शिकार हैं जिन्हें यहां गंभीर हालत में लाया गया है। अस्पताल में बिस्तरों की संख्या कम पडऩे के कारण एक-एक बिस्तर पर दो-दो बच्चे इलाज ले रहे हैं। वहीं कुछ बच्चे माता-पिता की देखरेख में जमीन पर पड़े हैं।

माता-पिता परेशान, जमीन पर पड़े बच्चे
अस्पताल में इलाज कराने आए गिलौहां निवासी भूपेन्द्र यादव ने बताया कि उनके डेढ़ साल के बच्चे को निमोनिया हुआ है। गांव में इलाज के दौरान आराम नहीं मिला तो वे अस्पताल आए थे। यहां एक दिन पलंग नहीं मिला तो जमीन पर ही इलाज कराया। अगले दिन अन्य बच्चों की छुट्टी होने के बाद पलंग मिल सका। कुछ बच्चों को तो अभी भी जमीन पर ही इलाज लेना पड़ रहा है। पठापुर रोड पर रहने वाले तुलसी कुशवाहा ने बताया कि उनका बेटा और बेटी दोनों उल्टी-दस्त और बुखार से पीडि़त हैं। दोनों को एक ही बिस्तर पर लिटाकर इलाज दिया जा रहा है। बिस्तरों की कम संख्या मुसीबत की वजह बनी है।

अस्पताल में मास्क और दूरी का ख्याल नहीं रख रहे लोग
जिला अस्पताल में बीमार बच्चों की संख्या बढ़ रही है तो वहीं वायरल फीवर से जूझ रहे दूसरे रोगी भी बढ़ते जा रहे हैं। भीड़ के बावजूद यहां मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल नहीं रखा जा रहा है। गौरतलब है कि देश के कुछ राज्यों में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं जिससे तीसरी लहर की आशंका मजबूत हो रही है।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned