संकट मोचन तालाब का होगा सीमांकन, हटेगा अतिक्रमण

संकट मोचन तालाब का होगा सीमांकन, हटेगा अतिक्रमण

By: Neeraj soni

Published: 24 May 2018, 11:33 AM IST

छतरपुर। शहर के संकट मोचन तालाब पर किए गए अतिक्रमण को लेकर प्रशासन ने कार्रवाई के आदेश जारी कर दिए हैं। कलेक्टर रमेश भंडारी के आदेश पर गुरुवार को सुबह तालाब का अतिक्रमण हटाने की बड़ी कार्रवाई होगी। इसके लिए प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली है। तहसीलदार आलोक वर्मा ने बताया कि गुरुवार को सुबह राजस्व, पुलिस और नगरपालिका का अमला संकट मोचन तालाब में किए गए अतिक्रमण पर कार्रवाई करने पहुंचेगा। इस दौरान जो भी अतिक्रमण पाया जाएगा उसे जेसीबी से धराशायी कर दिया जाएगा। तहसीलदार ने बताया कि दो दिन पहले ही अतिक्रमणकारियों को चेतावनी दे दी गई थी। इसके बाद भी उनके द्वारा अतिक्रमण नहीं हटाया गया। इसलिए अब प्रशासन सख्ती से कार्रवाई करेगा। प्रशासन ने जो सीमांकन किया है उसके अुनसार ही पूरी कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि पत्रिका ने इस मामले को लेकर पिछले दो दिनों से लगातार खबरें प्रकाशित की थी। तालाब के अतिक्रमण को लेकर प्रशासन ने कार्रवाई की योजना बना ली है।
गौरतलब है कि संकट मोचन तालाब में लगातार कई दिनों से मलबा से पुराई की जा रही थी। अतिक्रमणकारी लगातार तालाब के भराव क्षेत्र में मिट्टी डालकर उसे खत्म करने में लगे थे। जेसीबी मशीनें और ट्रैक्टर-ट्राली दिन-रात तालाब में चल रही थी। इसको लेकर पत्रिका ने सबसे पहले यह मामला उठाया था। खबर प्रकाशित होते ही राजस्व अमले ने तालाब पर पहुंचकर कार्रवाई शुरू कर दी थी। प्रशासन ने संकट मोचन तालाब पर स्टे लगाते हुए धारा 133 की कार्रवाई कर दी थी। अब प्रशासन अतिक्रमण हटाने को लेकर आदेश जारी कर चुका है। गुरुवार को संकट मोचन तालाब से अतिक्रमण हटाया जाएगा।
सिंघाड़ी नदी क्षेत्र में एक किमी मीटर का सीमांकन कराने सौंपा ज्ञापन
छतरपुर। शहर के समाजसेवी संगठनों और नमामि देवि नर्मदे प्रकल्प की ओर से एसडीएम को ज्ञापन दिया गया है। ज्ञापन में सिंघाड़ी नदी के क्षेत्र का सीमांकन कराकर पौधारोपण के लिए एक किमी क्षेत्र चिन्हित करने की मांग की गई है। तहसीलदार ने शुक्रवार को सीमांकन कराने का आश्वासन दिया है।
ज्ञापन में कहा गया है कि सिंघाड़ी नदी को पुनर्जीवित करने का अभियान पिछले कई दिनों से पत्रिका समूह एवं समाजसेविायेां तथा नगर की विभिन्न संस्थाओं और समाज के द्वारा चलाया जा रहा ै। इसी क्रम में नदी के किनारे पौधारोपण माह जून में किया जाना प्रस्तावित है। अत : सिंघाड़ी नदी मुक्ति धाम से 500 मीटर आगे तथा 500 मीटर शहर की ओर सीमांकन कराया जाना प्रस्तावित है। २६ मई को सुबह 8 बजे सिंघाड़ी नदी के मुख्य घाट पर नमामि देवी नमृदे प्रकल्प, राष्ट्रीय चेतना एवं विकास मंच, चरण पादुका समित, जल विरादरी के सदस्य इस प्रयोजन के लिए उपस्थित रहेंगे। इस मौके पर नमामि देवी नर्मदे प्रकल्प के जिला संयोजक डीडी तिवारी, मप्र जल विरादरी के प्रांतीय संयोजक बीएस परमार, चरण पादुका समिति के संयोजक शंकर सोनी, प्रकल्प के सह संयोज राकेश वर्मा, राष्ट्रीय चेतना मंच के संगठन सचिव पंकज पाठक, प्रकल्प के संगठन सचिव विपिन अवस्थी आदि मौजूद थे। डीडी तिवारी ने बताया कि उन्होंने नगरपालिका अध्यक्ष से बात की है। उन्होंने तालाब के किनारे घाट और पौधारोपण एवं पार्क बनाने का आश्वासन दिया है। संभवता यह काम विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर 5 जून को शुरू किया जाएगा।
उधर तहसीलदार आलोक वर्मा ने बताया कि शनिवार को राजस्व विभाग की टीम मौके पर पहुंचकर सीमांकन करेगी। इसके बाद नगरपालिका अपनी सीमा को चिन्हित कर सकेगी।

 

Neeraj soni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned