5 दिन बाद भी अपहृत नाबालिग का नहीं लगा सुराग, ग्रामीणों ने किशनगढ़ में बाजार बंद कर किया चक्काजाम

स्कूल गई छात्रा सोमवार को हो गई गायब, परिजनों ने शादीशुदा युवक के खिलाफ दर्ज कराई है एफआइआर
परिजनों व ग्रामीणों ने 5 घंटे किया प्रदर्शन, टीमें गठित होने व अधिकारियों के आश्वासन पर माने

By: Dharmendra Singh

Published: 22 Jan 2021, 08:18 PM IST

छतरपुर। एक नाबालिग लड़की को अपने जाल में फंसाकर युवक भगा ले गया है। परिजनों की सूचना पर थाने में युवक के खिलाफ अपहरण का मामला तो कायम हो गया लेकिन 5 दिन गुजरने के बावजूद पुलिस आरोपी को नहीं पकड़ पाई। ऐसी स्थिति से नाराज परिजनों ने ग्रामीणों की मदद से किशनगढ़ का बाजार बंद कराते हुए चक्काजाम कर दिया। अधिकारियों की समझाइश और आरोपी को दबोचने के लिए टीम गठित किए जाने के बाद मामला शांत हो गया।

लड़की का पता न लगने से नाराज हुए परिजन
सोमवार को एक नाबालिग छात्रा को गांव का ही बफाती खान नाम का युवक बहला-फुसलाकर अपने साथ कहीं ले गया है। परिवार के सदस्यों ने जानकारी मिलते ही थाने में सूचना दी जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया था लेकिन आरोपी को अबतक गिरफ्तार नहीं कर पाई। आरोपी को गिरफ्तार न किए जाने से लोगों में आक्रोश है। छात्रा की सहेली के माध्यम से जानकारी मिली कि वह पेट दर्द की शिकायत बताते हुए स्कूल से चली गई थी जिसके बाद वह वापस नहीं आई। इसी से आक्रोशित होकर परिजनों ने महिलाओं सहित शुक्रवार की सुबह ग्रामीणों के साथ बस स्टैंड पहुंचकर प्रदर्शन किया और बेटी को सुरक्षित वापस लाने और आरोपी युवक को दंड दिलाने के लिए प्रर्दशन शुरू कर दिया। जिससे करीब ५ घंटे तक लोगों आवागवन बंद रहा।

बेटी वापस दिलाओ नहीं तो मेरी जान ले लो
लापता नाबालिग लड़की के दादा ने कहा कि 5 दिन से उनके परिवार में कोई खाना नहीं खा रहा है। लापता बेटी के दो भाई अपनी बहन की याद में बिलख रहे हैं। दादा ने कहा कि पुलिस प्रशासन द्वारा बेटी को तलाशने के पर्याप्त प्रयास नहीं किए गए हैं और ना ही उचित कार्रवाई की गई है। जिससे 5 दिन बीतने के बाद भी उनकी बेटी उन्हें नहीं मिल सकी है। रोते हुए बेटी की मां और दादा ने कहा कि अगर बेटी नहीं दिला सकते तो मेरी जान भी ले लो।

अधिकारियों के आश्वासन पर माने
जब परिजनों ने किसी की नहीं सुनी तो एडिशनल एसपी समीर सौरभ और अनुभाग के एसडीएम राहुल सिलाडिय़ा मौके पर पहुंचे और परिजनों को आश्वस्त किया गया कि पुलिस और प्रशासन पूरी तरह प्रयास कर रही है। जल्द ही उनकी बेटी उन्हें वापस मिलेगी और आरोपी पर सख्त कार्रवाई होगी। इसके साथ ही आरोपी को तलाशने के लिए टीम गठित कर छापेमारी की जा रही है। तब कहीं परिजन माने। आखिरकार 5 घंटे की मशक्कत के बाद लोगों ने जाम खोल दिया जिससे यातायात सामान्य हो गया। इस दौरान अप्रिय घटना की आशंका को देखते हुए ऐहतिहात के तौर पर आसपास के थानों से बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा।

10 सदस्यों की टीम गठित
एसपी सचिन शर्मा ने बताया कि छात्रा को तलाशने और आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए बिजावर एसडीओपी सीताराम अवास्या के नेतृत्व में 10 सदस्यीय टीम गठित की गई है। तीन अलग-अलग टीमें छात्रा की तलाश के लिए प्रयास कर रही हैं। टीम के द्वारा जल्द ही छात्रा को खोज लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया था और चक्काजाम भी किया था। लोगों को भरोसा दिया गया कि गठित टीम जल्द से जल्द आरोपी को पकड़कर लिया जाएगा। जब लोगों को यह भरोसा हो गया कि पुलिस अधीक्षक द्वारा मामले को गंभीरता से लिया गया है और जल्द ही अपहृत छात्रा तलाश ली जाएगी तो उन्होंने जाम खोल दिया।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned