scriptFarmers again jammed for one hour in Badamalhara | बड़ामलहरा में किसानों ने फिर लगाया एक घंटे जाम | Patrika News

बड़ामलहरा में किसानों ने फिर लगाया एक घंटे जाम


खाद की कमी से परेशान किसानों ने शनिवार को भी बड़ामलहरा में हाइवे किया था जाम

छतरपुर

Published: November 08, 2021 08:26:09 pm

छतरपुर। खाद की मांग को लेकर किसानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक बार फिर जाम लगा दिया। आक्रोशित किसानों ने एक घंटे तक प्रदर्शन किया। जाम में सैकडों वाहन फंसे रहे जिससे राहगीरों को खासी परेशानी उठानी पडी। एसडीएम ने किसानों को बुधवार तक खाद मिलने का भरोसा दिया है। आश्वासन के बाद किसान सडक से हटे। बड़ामलहार में किसानों ने खाद के लिए एक सप्ताह में दूसरी बार जाम लगाया है।
बुधवार तक खाद मिलने के आश्वासन पर हटे
बुधवार तक खाद मिलने के आश्वासन पर हटे
खाद की कमी को लेकर परेशान किसान बार बार सडक पर उतर आ रहे हैं। खाद के अभाव में रबी सीजन की बोबनी व फसल प्रभावित हो रही है। एक-एक सप्ताह तक चक्कर लगाने के बाद भी खाद नहीं मिल रहा है। सोमवार को किसानों ने एक बार फिर राष्ट्रीय राजमार्ग छतरपुर रोड स्थित कृषि उपज मंडी तिराहा पर चक्काजाम कर दिया और विरोध प्रदर्शन कर खाद दिलाने की मांग की है। दोपहर में 1 घंटे तक आवागमन अवरुद्ध रहा।
गौरतलब है कि शनिवार को भी किसानों ने खाद के लिए चक्काजाम कर प्रशासन के समक्ष खाद की मांग रखी थी। एसडीएम विकास कुमार आनंद ने किसानों को 2-3 दिन में खाद उपलब्ध करानें का भरोसा दिया था। किसान बताते है कि, रबी सीजन के लिए खाद की समस्या आडे आ रही है, जिससे खेती किसानी का समय निकला जा रहा है। खाद के लिए वह कई दिनों से परेशान है और सेवा सहकारी समितियों का चक्कर लगा रहे है। एसडीएम विकास कुमार आनंद ने किसानों को बुधवार तक खाद आपूर्ति कराने का भरोसा दिया है। आशवासन के बाद किसान सडक से हट गये। वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी एसपी त्रिपाठी, थाना प्रभारी जगतपाल सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद रहे।

सरकारी गोदाम में डीएपी खत्म, निजी दुकानदारों के हवाले किसान
डीएपी की मांग कर रहे किसान अब निजी दुकानदारों के हवाले हो गए हैं। जिले के सभी सरकारी गोदामों में डीएपी खत्म हो गई है। निजी दुकानदारों के पास भी 1500 मीट्रिक टन ही डीएपी बची है, लेकिन किसानों के पास अब निजी दुकानदारों के अलावा खाद पाने का कोई रास्ता नहीं है। इधर, डीएपी की रैक 10 नवंबर को आएगी, जिससे गोदामों व सोसायटियों में अब 12 नवंबर के बाद ही खाद मिल पाएगी।
मुनाफाखोरी रोकने तैनात है सरकारी अमला
निजी दुकानों से खाद का वितरण कृषि, राजस्व व पुलिस की मौजूदगी में कराया जा रहा है। किसी भी दुकानदार को सरकारी अमले की गैरमौजूदगी में खाद वितरण न करने के निर्देश भी दिए गए हैं। ऐसे में दुकानदार कृषि विभाग के कर्मचारियों की उपस्थिति में खाद बेच रहे हैं। लेकिन सरकारी अमले के सामने खाद वितरण के अलावा रात के अंधेरे में भी निजी दुकानदारों द्वारा खाद बेचने के आरोप भी लग रहे हैं।
किसान रामस्वरुप राजपूत का कहना है कि डीएपी की कमी के चलते सरकारी गोदाम बंद है, निजी दुकान से खाद मिल तो रही है, लेकिन ज्यादा से ज्यादा 2 बोरी डीएपी ही मिल पा रही है, जबकि कम से कम 10 बोरी की जरूरत है। किसान देवीदीन का कहना है कि निजी दुकानदार भी सभी को खाद नहीं दे रहे कुछ लोगों को बांटकर बोल देते है कि खाद अब खत्म हो गया। ज्यादा दाम देने वालों को बाद में खाद उपलब्ध कराई जा रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पार23 को एमपीपीएससी की परीक्षा, पसोपेश में कोरोना संक्रमित अभ्यर्थीUP Election 2022 : SP-RLD गठबंधन को लगा तगड़ा झटका, अवतार सिंह भड़ाना नहीं लड़ेंगे चुनावजिला निष्पादक समीक्षा समिति की बैठक आयोजित
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.