झमटुली में वारदाना की मांग को लेकर किसान बैठे धरने पर

10 दिन से तुलाई न होने से परेशान थे किसान
अब बारिश होने से ६९ किसानों का गेहूं भींगा

By: Dharmendra Singh

Updated: 16 May 2021, 08:31 PM IST

छतरपुर। खरीदी केंद्र पर वारदाना की मांग को लेकर झमटुली के किसान अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए है। किसान वारदाना को लेकर कई दिनों से भटक रहे थे, लेकिन वारदाना न मिलने की वजह से उन्हें धरने पर बैठना पड़ा। वहीं रविवार की शाम के समय बारिश होने की वजह से तुलाई के लिए 10 दिन से खुले आसमान के नीचे पड़ा सैकड़ों क्विंटल गेहूं भींग गया।
किसान रंजन पांडे ने बताया कि 10 दिनों से वह लोग वारदाने आने के इंतजार में बैठे हुए हैं, लेकिन प्रशासन के द्वारा वारदाना नहीं उपलब्ध कराया गया है, जिससे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। शाम के समय झमटुली गांव में जोरदार बारिश होने की वजह से किसानों गेहूं भीग गया। जिससे उनकी उपज खराब हो गई है। किसानों का कहना है कि जब तक उन्हें वारदाना न मिल जाए और उनके भीगें गेहूं को खरीदा न जाए, तब तक अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे रहेंगे। बलादीन अहिरवार,हरप्रसाद पटेल,भूरे पटेल,रामेश्वर पटेल,हजारी पटेल, नोने लाल पटेल सहित 69 किसान प्रदर्शन कर रहे हैं।

वारदाना नहीं आने से खरीदी केंद्र पर उपज रखाए बेहाल हो रहे किसान
राजनगर की कृषि उपज मंडी परिसर में बनाए गए गेहूं उपार्जन केंद्रों पर गेहंू बेचने आए सैकड़ों की संख्या में किसान बेहाल पड़े हैं। मौके पर मौजूद किसानों ने बताया कि वे पिछले 8-10 दिनों से यहां पड़े हुए हैं,उनके मोबाइल पर उपज बेचने का मैसेज आ गया था, जिस कारण किसी ने अपना तो किसी ने किराए का ट्रैक्टर से उपज लेकर उपार्जन केन्द्र पर ला कर रख दी। जब तुलाने के लिए केन्द्र प्रभारी से संपर्क किया तो पता चला कि वारदाना न होने के कारण तुलाई नहीं हो सकती। किसानों को इस दौरान कई और समस्याओं से जूझना पड़ रहा है।

किसानों ने नाराजगी व्यक्त करते हुए बताया कि एक ओर प्रशासन लोगों से घरों में रहने की अपील करता है वहीं दूसरी ओर प्रशासन के ही लापरवाह रवैए के कारण उन्हें इस तरह परेशान होना पड़ रहा है। हमसे रोज कहा जाता है कि वारदाना कल आ जाएगा। लेकिन वारदाना अभी तक नहीं आया। ग्राम पाय से आए किसान हुकुम सिंह यादव ने बताया कि पिछले 8 दिनों से वे यहां पड़े हैं। बच्चों से खाना मंगवा लेते हैं,पूरी दिनचर्या खराब हो गई है। ग्राम गौमां खुर्द से आये किसान रघुराज सिंह ने बताया कि उनके मोबाइल पर 11 तारीख का मैसेज था कि उपज तुलानी है इसलिए वे 10 तारीख को उपज लेकर आ गए थे, तब से यहीं पड़े है। ग्राम अतर्रा से आये किसान राकेश मिश्रा ने बताया कि वे 10 तारीख से यहां पड़े हैं, तभी से खरीदी बंद पड़ी है। कोरोना के कारण दूकानें बंद हैं, उन्हें मंहगे दामों पर फसल बचाने पन्नी खरीदनी पड़ी है। क्योंकि खराब होते मौसम से बूंदा बांदी हो जाती है। अगर तेज बारिश हो जाएगी तो हम क्या करेंगे। सरकार और शासन को चाहिए कि तुरन्त इस समस्या का निदान करें।

इनका कहना है
कलेक्टर महोदय की सक्रियता से आज रात को ही वारदाना आ जाएगा,चूंकि वारदाना गुजरात से आया है, जिसमें तीन दिन का समय लग गया। पर्याप्त मात्रा में वारदाना केंद्रों पर उपलब्ध कराया जाएगा।
डीपी द्विवेदी, एसडीएम राजनगर

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned