गरीबों तक पहुंचाया जा रहा भोजन

गरीबों तक पहुंचाया जा रहा भोजन

By: Sanket Shrivastava

Published: 29 Mar 2020, 05:23 PM IST

छतरपुर. कोरोना के कहर को लेकर एक ओर जहां पर लोगों द्वारा इस आपदा में अपने व्यापार में लाभ कममाया जा रहा है वहीं दूसरी ओर जिले के समाजसेवियों द्वारा ऐसे हालत में दो वक्त की रोटी के लिए परेशान हो रहे लोगों तक खाद्यान्न पहुंचाकर मदद की जा रही है। जिससे असहाय लोगों के चेहेरे में मुश्कराहट आ रही है। छतरपुर की पूर्व विधायक व पूर्व मंत्री ललिता यादव द्वारा बेसहारा बच्चों और जरूरत मंदों को भोजन वितरित किया गया। ललिता यादव ने बताया कि वह रोज जरूरत मंदों को शहर के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र में भी भोजन पहुंचाने का कार्य करेगी। वहीं शहर के ही रहने वाले प्रकास रावत, नशीम खान ने बताया कि उन्होंने १२ लोगों की टीम बनाकर खुद के खर्च से गरीब और असहाय लोगों तक भोजन सामग्री पहुंचाने का काम कर रहे हैं।


उन्होंने बताया कि वह पांच किलो आटा, तीन किलो चावल, दाल, चीनी, तेल, नमक, डिटोल साबुन प्रति परिवार ो वितरित कर रहे हैं। वहीं देरी रोड वेस्टर्न सिटी निवासी निर्मल खरे द्वारा अपने परिचितों के साथ टीम बनाकर लोगों को दाल, चावल, चीनी, आटा आदि वितरित किया जा रहा है। जिससे लोगों को ऐसे हालात में दो वक्त की रोटी नशीब हो सके।

विद्यार्थियों को मदद पहुंचाएंगे प्राचार्य
छतरपुर. महाराजा छत्रसाल बुंदेलखण्ड विश्वविद्यालय छतरपुर के परीक्षा नियंत्रक डॉ. बहादुर सिंह परमार ने कोरोना वायरस से उत्पन्न महामारी से बचाव के लिए विवि से संबद्ध सभी शासकीय और अशासकीय महाविद्यालय के प्राचार्यों को निर्देश जारी किए हैं। सभी प्राचार्यों से कहा गया है कि वे महाविद्यालय के छात्रावासों में निवासरत विद्यार्थियों की सहायता करें और कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए जागरूकता अभियान चलाएं। विवि की स्थगित परीक्षाएं स्थिति सामान्य होने के बाद संचालित की जाएंगी। इस संबंध में जारी अफवाहों पर ध्यान नहीं देने और विवि की वेबसाइट पर जारी अधिकृत आदेश को मान्य करने की सलाह भी प्राचार्यों को दी गई है।


इसके अलावा कोरोना वायरस से बचाव के लिए शासन द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन करने और कोरोना वायरस से उत्पन्न आपदा से निपटने के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में अधिकाधिक राशि दान देने और दान के लिए प्रेरित करने के लिए भी सभी प्राचार्यों को निर्देशित किया गया है।

Sanket Shrivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned