दुकानदारों द्वारा खाद्य पदार्थों को बेचा जा रहा मनमाने दामों पर

जिम्मेदार अफसर बेखबर

By: Sanket Shrivastava

Published: 29 Mar 2020, 05:23 PM IST

छतरपुर. जिले में खाद्य पदार्थों में थोक और फुटकर दुकानदरों द्वारा जमकर मुनाफाखोरी की जा रही है। जिसे जिले के अधिकारी इस पर लगाम लगाने के प्रति लापरवाह नजर आ रहे हैं। जिले के खाद्य अधिकारी की लापरवाही के चलते थोक और फुटकर दुकानदारों द्वारा सभी सामग्री पर मनमाने दाम वसूले जा रहे हैं और ग्राहकों द्वारा विरोध करने पर उन्हें अन्य दुकान पर जाने की बात कहकर भगाया जा रहा है। जिससे मजबूरन लोगों को आसमान छू रहे दामों में आटा, दाल, चावल आदि खरीदना पड़ रहे हैं।
जानकारी के अनुसार ोरोना वायरस को लेकर इमरजेंसी के हालात है और इसी का फायदा थोक व्यापारियों द्वारा बखूबी उठाया जा रहा है। व्यापारियों द्वारा लोगों की दैनिक जरूरत आटा, दाल, चावल, तेल, चीनी आदि पर जमकर मुनाफा खोरी की जा रही है। व्यापारियों द्वारा सभी सामग्री में १० से १५ और उससे भी अधिक रूपय की बढ़ोत्तरी कर बिक्री की जा रही है।


जिसकी शिकायत ग्राहकों द्वारा अधिकारियों से भी की गई लेकिन कार्रवाई नहीं की गई।


आसमान छू रहे आटा के भाव
शहर में आधा दर्जन से अधिक आटा मिलें लगी हुई हैं जहां पर संचालकों द्वारा घटिया गेहंू से आटा तैयार किया जा रहा है और ऐसे हालात में जहां पर लोगों कम दामों में आटा उपलब्ध कराना चाहिए वहां पर संचालकों द्वारा २५ किलो की बोरी में ५० से १०० रुपए बढ़ाकर दे रहे हैं। आम तौर पर २० से २२ रुपए किलो बिकने वाला आटा अब २६ और २८ रुपए किलो में बेचा जा रहा है।

इनका कहना है

टीम ने वहां पर जाकर इसकी जानकारी जुटाई है और प्रतिदिन जानकारी जुटाएगी। इस दौरान जिले के अन्य जगहों पर भी जहां पर बढ़े दामों में सामना बेचा जा रहा है वहां पर कार्रवाई की जाएगी।
स्वाति जैन, जिला खाद्य अधिकारी छतरपुर

Sanket Shrivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned