scriptGST action on 8 firms completed, 3 crore disturbances found | बर्तन भंडार ग्रुप की 8 फर्मो पर जीएसटी की कार्रवाई पूरी, 3 करोड़ की मिली गड़बड़ी | Patrika News

बर्तन भंडार ग्रुप की 8 फर्मो पर जीएसटी की कार्रवाई पूरी, 3 करोड़ की मिली गड़बड़ी

9 दिन चली जांच में 4 निर्माण व 4 ट्रेडिंग फर्मो में मिली गड़बड़ी, बिना ई-वे बिल के पकड़ी गई गाड़ी से मिला था सुराग
कच्चे बिल पर हो रही थी खरीद बिक्री, टीम ने खरीदी कर अनियमितता की पुष्टि की, फिर मारा छापा

छतरपुर

Updated: December 24, 2021 04:01:26 pm

छतरपुर। शहर के रावत बर्तन भंडार ग्रुप की 8 फर्मो की 9 दिनों तक चली जीएसटी जांच पूरी हो गई है। ग्रुप से जीएसटी और पेनल्टी के रुप में 3 करोड़ रुपए का राजस्व वसूली का डीएसटी एंटीजन ब्यूरो ने डिमांग जोरी की है, जिसमें से कारोबारी ग्रुप ने 1 करोड़ 15 लाख रुपए जमा करा दिए हैं। 4 निर्माण और 4 ट्रेडिंग फर्मो के जरिए रावत बर्तन ग्रुप छतरपुर समेत आसपास के जिलों में स्टील, कांसा और पीलत के बर्तन का कारोबार करते हैं। जीेसटी चोरी की शिकायत पर सतना एंटीजन ब्यूरो की 40 सदस्यीय टीम 9 दिनों से सभी फर्मो के स्टाक, दस्तावेज की जांच कर रही थी। ज्वाइंट कमिश्नर गणेश कांवरकर की अगुवाई में चार दिन पहले 6 फर्मो की जांच पूरी हो गई थी, शेष रह गई दो फर्मो की जांच भी अब पूरी हो गई है।
1.15 करोड़ की राशि जमा हुई
1.15 करोड़ की राशि जमा हुई
इन फर्मो ने जमा कराए रुपए
रावत बर्तन भंडार के नाम से प्रसिद्ध ग्रुप ने जीएसटी की जांच पूरी होने के पहले जय भवानी इंडस्ट्रीज के स्टॉक में अनियमितता के आधार पर प्रारंभिक रुप से 51 लाख 64 हजार रुपए जमा कराए थे। वहीं, जांच पूरी होने पर मां बघराजन मेटल पर 25 लाख 6 हजार, वरुण इंडस्ट्रीज पर ३लाख 31 हजार, अवनी इंटरप्राइजेज पर 7 लाख 5 हजार, हाजारी लाल नारायणदास पर 13 लाख 5 हजार, रावत बर्तन भंडार पर 1 लाख 67 हजार, श्री एसआर इंटरप्राइजेज पर 5 लाख 57 हजार और हजारी लाल लक्ष्मीप्रसाद पर 8 लाख 34 हजार रुपए जमा कराए हैं।
एंटीजन ब्यूरो कई दिन से रख रहा था नजर
ज्वाइंट कमिश्नर एंटीजन ब्यूरो सतना गणेश कांवरकर ने बताया कि वाहन जांच के दौरान बिना बिल या ई-वे बिल के वाहन पकड़ा गया। टीम ने जांच की तो पता चला कि कारोबारी ग्रुप कच्चे बिल पर माल का क्रय विक्रय कर रहा है। जीएसटी रिटर्न और वास्तिविक आउटपुट का एनालेसिस करने पर टैक्स चोरी की पुष्टि हुई। इसके सत्यापन के लिए टीम ने गोपनीय तरीके से खरीदी की। जिसकी रिपोर्ट मुख्यालय को दी गई, जिसके बाद मुख्यालय ने सर्च और सीज की कार्रवाई के निर्देश दिए। जिस पर 15 दिसंबर को 8 बर्तन निर्माता व विक्रेता फर्मो पर जांच शुरु की गई। सभी आठ फर्मो ने स्टॉक अनियमितता के एवज में 1 करोड़ 15 लाख 69 हजार रुपए
जमा कराए हैं। वहीं, 1 करोड़ 63 लाख 77 हजार रुपए जमा कराया जाना शेष है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

हरक रावत की बीजेपी से छुट्टी पर सीएम पुष्कर धामी का बड़ा बयान, बोले- पार्टी पर बना रहे थे दबावभारत में एक दिन में कोरोना के 2.71 लाख नए मामले आए सामने, 314 की मौतऐसे जानें कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज काम कर रहे हैं या नहींPandit Birju Maharaj: कथक सम्राट पंडित बिरजू महाराज का निधन, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांसUP Election में Coronavirus की एंट्री : अब इन दो बड़े नेताओं समेत दो हजार से अधिक लोग हुए कोरोना संक्रमितBSP की पटरी पर दौड़ेगी 550 मेगा पास्कल से भी अधिक स्पीड में ट्रेन, रेलवे की जरूरत पर पहली बार किया तकनीक में बदलावCISF Recruitment 2022: सीआईएसएफ में बंपर वैकेंसी, ऐसे करें आवेदनUP Assembly Election 2022 : मतदान केंद्रों पर पहली बार होगी यह खास व्यवस्था, आपके लिए जानना है बेहद जरूरी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.