दामिनी ऐप से आधे घंटे पहले मिलेगी आकाशीय बिजली गिरने की जानकारी

मौसम वैज्ञानिकों ने दामिनी ऐप से 40 किलोमीटर दूर तक का मिलेगा अपडेट
जिले में आकाशीय बिजली से मौत के मामलों में ला सकते हैं कमी

By: Dharmendra Singh

Published: 28 Jul 2021, 10:08 PM IST

छतरपुर। बिजली गिरने से लोगों को सचेत करने के लिए भारत सरकार के पृथ्वी मंत्रालय के अधीन भारतीय ऊष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान पुणे ने दामिनी ऐप विकसित किया है। यह एप बिजली, वज्रपात और ठनका की सटीक जानकारी 30 मिनट पूर्व ही दे देगा। इसके लिए ऊष्णदेशीय मौसम विज्ञान के वैज्ञानिकों ने देश के विभिन्न हिस्सों में करीब 48 सेंसर के साथ एक लाइटनिंग लोकेशन नेटवर्क स्थापित किया है। यह नेटवर्क बिजली गिरने का सटीक पूर्वानुमान देता है। इस नेटवर्क के आधार पर ही दामिनी ऐप को विकसित किया गया है, जो 40 किमी की परिधि में बिजली गिरने के संभावित स्थान की जानकारी देगा। यह नेटवर्क बिजली की गडगड़़ाहट के साथ वज्रपात की गति भी बताता है।

बचाव, सुरक्षा व प्राथमिक इलाज की मिलेगी जानकारी
नौगांव कृषि विज्ञान केन्द्र की प्रभारी डॉ. वीणापाणी श्रीवास्तव ने बताया कि ऐप में नीचे बिजली गिरने पर बचाव और सुरक्षा के उपाय सहित प्राथमिक इलाज की जानकारी भी दी गई है। बिजली मौसम की एक प्रतिकूल स्थिति होती है, जो मानव और जीव जंतुओं के लिए घातक है। इसे रोका तो नहीं जा सकता लेकिन जागरूकता और दामिनी ऐप के माध्यम से वज्रपात का पूर्वानुमान पाकर सतर्क होकर जानमाल की क्षति से बचा जा सकता है। दामिनी ऐप से चेतावनी मिलने पर बिजली से बचने के लिए खुले खेतों, पेड़ों के नीचे, पहाड़ी इलाकों, चट्टानों का सहारा न लें। धातुओं के बर्तन न धोएं और स्नान आदि करने से बचें। किसी स्थायी घर के अंदर चले जाएं। बारिश या जमीन पर पानी से बचें। अगर स्थायी घर पर जाना संभव न हो तो खुली जगह पर ही घुटनों के बल कान बंद कर बैठ जाएं। छाते का कतई इस्तेमाल न करें। साथ ही हाइटेंशन तारों और टावर से दूर रहें।

हर साल होती है 20 से 30 मौतें
छतरपुर जिले में आकाशीय बिजली के कारण हर साल 20 से 30 इंसान और पालतू मवेशियों की जान जाती है। 17 मई को सटई इलाके के सिलावट गांव में बिजली गिरने से 16 बकरियों की मौत हो गई। 12 जुलाई को राजनगर थाना इलाके के खजवा गांव में खेत में काम कर रहे पिता-पुत्र और पड़ोसी की आकाशीय बिजली गिरने से मौत हो गई। पिछले साल बमीठा के बहारपुरा में 15 सिंतबर को आकाशीय बिजली गिरने से पेड़ के नीचे बंधी 8 बकरियों की मौत हो गई थी। लेकिन अब ऐेप से अलर्ट मिलने के बाद किसान या ग्रामीण अपने पशुधन को जल्दी से जल्दी सुरक्षित स्थान तक पहुंचा सकेंगे। खेत खलिहान में कार्य करने वाले कृषक एवं पशुपालकों को आकाशीय बिजली गिरने से सर्वाधिक जन हानि एवं पशुओं की हानि होती है। हाल ही में जलवायु परिवर्तन के कारण आकाशीय। बिजली गिरने की घटनाओं में वृद्धि हुई है। पिछले दिनों राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में आकाशीय बिजली गिरने से करीब 74 लोगों की मौत हो गई।


मोबाइल पर ऐसे कैसे डाउनलोड करें दामिनी ऐप
दामिनी ऐप को प्ले स्टोर से अपने मोबाइल में आसानी से डाउनलोड किया जा सकता है। डाउनलोड करने के बाद किसानों को इसमें पंजीकरण करना होगा। इसमें उन्हें अपना नाम और लोकेशन की जानकारी उपलब्ध करानी होगी। यह जानकारी डालते ही यह ऐप लोकेशन के से 40 किमी की परिधि में बिजली गिरने की चेतावनी ऑडियो संदेश और एसएमएस के माध्यम से मिलेगी।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned