scriptHealth staff reached Imalia after the death of husband and wife | पती-पत्नी की मौत के बाद इमलिया पहुंचा स्वास्थ्य अमला | Patrika News

पती-पत्नी की मौत के बाद इमलिया पहुंचा स्वास्थ्य अमला


घर-घर हुई स्वास्थ्य की जांच, सेम्पल में नहीं मिला डेंगू का लार्वा
माता-पिता को खोने वाले बच्चों को मदद के प्रयास शुरू

छतरपुर

Published: November 02, 2021 07:21:36 pm


छतरपुर। हरपालपुर थाना क्षेत्र के ग्राम इमलिया में 15 दिन के भीतर एक पति-पत्नी सहित गांव के एक अन्य युवक की बीमारी से हुई मौतों के बाद स्वास्थ्य अमला और प्रशासन हरकत में आया है। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग एवं राजस्व विभाग की टीम के दो दल गांव पहुंचे। स्वास्थ्य विभाग ने जहां घर-घर सर्वे कर बीमार लोगों की जानकारी ली तो वहीं राजस्व विभाग की टीम ने माता-पिता को खो चुके बच्चों को मदद देने के प्रयास शुरू किए। उल्लेखनीय है कि विगत रोज समाचार पत्र द्वारा इस मामले को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया था जिसके बाद सरकारी पहल शुरू हुई है।
ये है मामला
ग्राम इमलिया में रहने वाले परमलाल कुशवाहा और मुन्नी कुशवाहा की मौत 31 अक्टूबर और 1 नवंबर को हो गई थी। पति-पत्नी की मौत से इनके 6 बच्चे अनाथ हो गए हैं जिनमें चार बेटियां और दो बेटे हैं। दोनों बेटे नाबालिग हैं। कुछ दिन पूर्व इसी गांव के एक अन्य युवक कल्लू पिता गुलाब यादव की भी मौत हुई थी। बीमारों में डेंगू जैसे लक्षण थे। मौत के बाद जब यह खबर प्रमुखता से प्रकाशित की गई तो मंगलवार को बीएमओ डॉ. रविन्द्र पटेल की अगुवाई में स्वास्थ्य विभाग, मलेरिया विभाग और आंगनबाड़ी की टीम गांव पहुंची। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने घर-घर जाकर लोगों के स्वास्थ्य का हाल-चाल जाना। 50 से ज्यादा स्थानों से स्लाइड टेस्ट किए गए तो वहीं गड्ढों में भरे पानी से मच्छरों के लार्वा की जांच की गई। डॉ. रविन्द्र पटेल ने बताया कि गांव में कोई बीमार नहीं है न ही डेंगू का लार्वा पाया गया है। उन्होंने कहा कि जिन पति-पत्नी की मौत पिछले दिनों हुई है उनके फेफड़ों में पानी जमा होने, लीवर खराब होने और डायबिटीज जैसी बीमारी से ग्रसित होने के पर्चे मिले हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की टीम और मलेरिया विभाग की टीमों ने लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर घरों के सामने मौजूद गड्ढों में दवा का छिड़काव भी कर दिया है।
खबर का असर
खबर का असर
बच्चों को मिलेगी आर्थिक मदद
स्वास्थ्य विभाग की टीम के अलावा एसडीएम विनय द्विवेदी के निर्देश पर जनपद सीईओ अंजना नागर व राजस्व विभाग का दल भी गांव पहुंचा। सीईओ अंजना नागर ने बताया कि मृतक पति-पत्नि के दोनों नाबालिग बेटे 11 वर्षीय अजीत और 12 वर्षीय छोटू कुशवाहा के शिक्षा व भरण-पोषण की जिम्मेदारी शासन उठाएगा साथ ही एक बच्ची को दो हजार रूपए प्रतिमाह का खर्च भी मिलेेगा। उन्होंने कहा कि एक अन्य योजना के तहत भी बच्चों को एक-एक लाख रूपए की एफडी बनवाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.