केन नदी के रामपुर घाट में हैवी मशीन से निकाल रहे रेत

नदी के अंदर रास्ता बनाकर ट्रैक्टरों से परिवहन हो रही रेत

 

छतरपुर. गोयरा थाना इलाके के रामपुर घाट से रेत का अवैध उत्खनन शुरु हो गया है। नदी में पानी के बीच रास्ता बनाकर दो हैवी मशीनों के जरिए पानी के अंदर से रेत निकाली जा रही है। हैवी मशीनों से रेत निकालकर ट्रैक्टरों के माध्यम से रेत नदी के बाहर लाकर डंप की जा रही है। इसके साथ ही बांदा-महोबा और छतरपुर जिले में सप्लाई भी की जा रही है। जबकि नेशनल ग्रीन ट्ब्यिूनल के नियमों के अनुसार बारिश के मौसम में नदी से रेत निकालने पर प्रतिबंध रहता है। इसके साथ ही पानी के अंदर की रेत निकालने पर भी रोक है। इतना ही नहीं नदी से हैवी मशीनों के जरिए रेत निकालने पर भी प्रतिबंध हैं। लेकिन इन सभी प्रतिबंधों को दरकिनार कर केन नदी से रेत निकालने का काला कारोबार फिर से शुरु हो गया है।
नदी से रेत निकालने पर रोक
वर्तमान समय मे नदी से उत्खनन पर रोक लगी होने के कारण ठेकेदार को कुछ पुराने डंप की रेत को विक्रय करने की स्वीकृति दी गई है। लेकिन नदी में भारी मशीनों को उतार कर रेत निकाली जा रही है। डंप से रेत बेचने की आड में नदी की रेत बेची जा रही है। रामपुर घाट से निकाली जा रही रेत को डंप में डालकर बेचने का काम किया जा रहा है। वर्तमान में 3500 से 4000 हजार रुपए प्रति सैकड़ा यानि एक ट्रक लगभग 30 से 40 हजार के हिसाब से बेचा जा रहा है। &नदी से रेत निकालने का मामला
कार्रवाई की जाएगी
आपके द्वारा संज्ञान में लाया गया है। मैं जांच करवाता हूं, अगर ऐसा हो रहा है तो कार्रवाई की जाएगी।
अजय मिश्रा, खनिज इंस्पेक्टर

हामिद खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned