scriptHigh Court said - SDM will hear the removal of Mahant of Janrai Tauria | हाईकोर्ट ने कहा- जानराय टौरिया के महंत को पद से हटाने की सुनवाई करेंगे एसडीएम | Patrika News

हाईकोर्ट ने कहा- जानराय टौरिया के महंत को पद से हटाने की सुनवाई करेंगे एसडीएम


मंदिर की सरकारी जमीन पर राजस्व रिकॉर्ड में नाम हटाने के लिए याचिका पर सुनवाई हुई

छतरपुर

Updated: March 28, 2022 03:37:47 pm

छतरपुर। जानराय टौरिया के महंत भगवान दास श्रंगारी महाराज का को पद से हटाने और उनका नाम मंदिर की संपत्ति पर राजस्व रिकॉर्ड से हटाने के लिए हाईकोर्ट में लगाई गई आशुतोष ब्रम्चारी की याचिका पर सुनवाई पूरी हो गई है। कोर्ट ने याचिकाकर्ता को पब्लिक ट्रस्ट के रजिस्ट्रार एंव एसडीएम छतरपुर से इस मामले में सुनवाई कराने के निर्देश दिए हैं। याचिका में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व आदेशों का हवाला देकर बताया गया था कि महंत मंदिर के अधिकृत पुजारी नहीं है, लेकिन मंदिर की संपत्ति पर राजस्व रिकॉर्ड में उनका नाम चढ़ा हुआ है। जबकि एडीजे कोर्ट छतरपुर पूर्व में ही उनके स्वामित्व को खारिज कर चुका है।
मंदिर की जमीन पर मैरिज गार्डन व दुकानें
मंदिर की जमीन पर मैरिज गार्डन व दुकानें
ये है मामला
शहर में महोबा रोड पर प्रसिद्ध जानराय टौरिया मंदिर हैं। राजस्व रिकॉर्ड के मुताबिक 13 खसरा नबंर पर 2.114 हेक्टेयर जमीन मंदिर की है। मंदिर की संपत्ति शासकीय है, जिसका प्रबंधक कलेक्टर छतरपुर हैं। लेकिन राजस्व रिकॉर्ड में कलेक्टर के अलावा महंत भगवान दास श्रंगारी महाराज का नाम दर्ज है। जबकि एसडीएम छतरपुर व रजिस्ट्रार पब्लिक ट्रस्ट ने कभी इन्हें मंदिर का पुजारी नियुक्त नहीं किया है। मंदिर के पुजारी का नाम भी राजस्व रिकॉर्ड में मालिक के बतौर दर्ज नहीं होता है। लेकिन इस मामले में पुजारी तक न होने के बावजूद नाम दर्ज है। जिसे रिकॉर्ड से हटाने और महंत को पद से हटाने के लिए मलका पीठ के पुजारी आशुतोष ब्रम्हचारी ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई। जिस पर ुसुनवाई के बाद हाईकोर्ट के जज विशाल धगट ने मामले की सुनवाई रजिस्ट्रार पब्लिक ट्रस्ट से कराने के निर्देश दिए हैं।
जिला न्यायालय भी खारिज कर चुका है मालिकाना दावा
भगवान दास श्रंगारी महाराज ने मंदिर की जमीन पर मालिकाना हक के लिए जिला न्यायालय में अपील दायर की थी। जिस पर फैसला देते हुए न्यायालय तृतीय अपर जिला न्यायाधीश छतरपुर ने 29 जनवरी 1998 को फैसला देते हुए महंत का दावा खारिज कर दिया। जिसमें महंत ने मंदिर की शासकीय जमीन पर स्वामी के बतौर उनका नाम दर्ज करने की अपील की गई थी। इस मामले में हाईकोर्ट ने भी मालिकाना हक की याचिका पर सुनवाई के बाद खारिज कर दिया था।

मंदिर की जमीन पर मैरिज गार्डन व दुकानें
याचिकाकर्ता आशुतोष ब्रम्हचारी का आरोप है कि मंदिर की बेशकीमती जमीन पर एक मैरिज गार्डन और कई दुकानों का निर्माण कराया गया है। महंत भगवान दास रुपए लेकर मंदिर की सरकारी जमीन बेच रहे है और लोगों को कब्जा करा रहे हैं। महंत को कभी भी मंदिर का पुजारी भी नियुक्त नहीं किया गया है, लेकिन वे मंदिर व उसकी संपत्ति पर कब्जा जमाए हुए हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का हवाला देकर उनका नाम राजस्व रिकॉर्ड और पद से उन्हें हटाने के लिए याचिका लगाई गई थी। हाईकोर्ट के निर्देश पर पब्लिक रजिस्ट्रार के पास आवेदन किया जाएगा।
एसडीएम कोर्ट में गबन का प्रकरण है लंबित
वर्ष 2004 में तात्कालीन एसडीएम बीएल मिश्रा ने मंदिर की आय की राश के गबन का केस भगवानदास श्रंगारी के खिलाफ शुरु किया था। जो अभी भी कोर्ट में लंबित हैं। वहीं एक और महत्तवपूर्ण तथ्य यह है कि भगवान दास ने खुद कलेक्टर को लिखे पत्रों में मंदिर की जमीन को नजूल जमीन बताते हुए अतिक्रमण हटवाने के लिए वर्ष 2015 और 2016 में कई बार लिखा था। मंदिर की जमीन पर राजस्व रिकॉर्ड में कलेक्टर का नाम प्रबंधक बतौर दर्ज है। लेकिन राजस्व विभाग से मिलीभगत कर खसरा में महंत भगवान दास का नाम भी दर्ज किया गया है। जिसके खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका लगाई गई थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करारInflation Around World : महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचारपंजाब में दिल्ली का विकास मॉडल, CM भगवंत मान का ऐलान- 15 अगस्त को राज्य को मिलेंगे 75 नए मोहल्ला क्लीनिकराहुल गांधी ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'पैंगोंग झील के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सरकार सिर्फ निगरानी ही कर रही है'दो साल बाद अपनों के बीच पहुंचते ही आजम खान ने बयां किया दर्द, बोले- मेरे साथ जो-जो हुआ वो भूल नहीं सकतापहली बार Yogi आदित्यनाथ की तारीफ में बोले अखिलेश यादव 'यूपी में Technology'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.