जमानत जब्त होने के वाबजूद जीत के मार्जिन पर असर डालते है निर्दलीय उम्मीदवार

बड़ामलहरा उपचुनाव में पिछले तीन चुनाव से निर्दलियों ने झटके 6 से 16 फीसदी तक वोट
1 से 10 फीसदी वोटों के अंतर से हुई बड़ामलहरा में प्रमुख उम्मीदवारों की जीत-हार

By: Dharmendra Singh

Published: 17 Oct 2020, 09:59 PM IST

छतरपुर। बड़ामलहरा उपचुनाव में 27 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया है। जिसमे ंसे 7 पार्टी उम्मीदवार और 20 निर्दलीय शामिल हैं। निर्दलीय की इतनी संख्या बड़ामलहरा चुनाव हमेशा से असर डालती रही है। बड़ामलहरा के पिछले तीन चुनावों के आंकड़ों पर गौर करें तो निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत-हार के मार्जिन पर असर डाला है। भले ही निर्दलीयों की जमानत जब्त हो जाती है, लेकिन वे जीत के अंतर से ज्यादा वोट हासिल कर चुनाव परिणाम पर असर डालते हैं। वर्ष 2008 से 2018 तक तीन चुनावों में जब भी निर्दलीय उम्मीदवारों ने वोट ज्यादा झटके तो जीतने वाले उम्मीदवार का मार्जिन उतना कम होता गया।

वर्ष 2008 में निर्दलीयों को मिले 16.75 प्रतिशत वोट
वर्ष 2008 के बड़ामलहरा विधानसभा चुनाव में भारतीय जनशक्ति पार्टी की रेखा यादव को 28.64 प्रतिशत मत हासिल हुए, जबकि कांग्रेस की मंजूला डेवडिया को 21.94 प्रतिशत मत मिले। भाजपा के उम्मीदवार कपूरचंद्र घुवारा 15.43 प्रतिशत वोट पा सके। जबकि बसपा के राना शंकर 14.92 प्रतिशत वोट ले गए। सपा चुनाव मैदान में नहीं थी। वहीं, निर्दलीय उम्मीदवारों ने 16.75 प्रतिशत वोट हासिल किए। निर्दलीयों के ज्यादा वोट झटक लेने का चुनाव में ये असर देखा गया कि बीजेएस की उम्मीदवार रेखा यादव 6.7 प्रतिशत के मॉर्जिन से ही चुनाव जीत सकी।

वर्ष 2013 में निर्दलीयों ने झटके 10.06 फीसदी वोट
बड़मलहरा विधानसभा चुनाव वर्ष 2013 में भाजपा उम्मीदवार रेखा यादव 1.16 प्रतिशत वोट के मॉर्जिन से चुनाव जीती थी। जबकि निर्दलीय उम्मीदवारों ने 10.06 प्रतिशत वोट हासिल किए, वही 1.10 प्रतिशत मत नोटा में डाले गए। 2013 में निर्दलीय उम्मीदवारों के ज्यादा वोट झटकने का असर जीते उम्मीदवार के मार्जिन पर पड़ा। भाजपा की रेखा यादव को वर्ष 2013 में कुल 31.93 प्रतिशत वोट हासिल हुए, वहीं, कांग्रेस के तिलक सिंह लोधी को 30.77 प्रतिशत मत हासिल हुए। बसपा के आनंद सिंह को 20.59 प्रतिशत वोट और समाजवादी पार्टी के पहलवान सिंह यादव को 2.18 प्रतिशत मत मिले।

वर्ष 2018 में निर्दलीयों का प्रतिशत घटा तो जीत का मॉर्जिन बढ़ा
बड़ामलहरा विधानसभा सीट के लिए हुए वर्ष 2018 के चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार ने 10.61 प्रतिशत वोटों के मार्जिन साथ जीत हासिल की थी। पिछले दो चुनावों के मुकाबले ये जीत सबसे ज्यादा मार्जिन से हुई, वहीं निर्दलीय उम्मीदवार पिछले चुनावों के मुकाबले कम वोट हासिल कर पाए, निर्दलियों को कुल मतदान का 6.19 प्रतिशत मत हासिल हुआ। निर्दलीयों को मत कम मिलने का असर सीधे-सीधे जीत के अंतर पर देखा गया। कांग्रेस के प्रद्युम्न सिंह को 45.16 प्रतिशत वोट हासिल हुए, जबकि भाजपा की ललिता यादव 34.55 प्रतिशत वोट पा सकी। बसपा के हरीकृष्ण ने 10.03 प्रतिशत वोट पाए। जबकि 0.65 प्रतिशत वोट नोटा पर डाले गए।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned