भारत सरकार ने देश के 10 पर्यटन आइकॉन किए चिहिन्त,MP में इन जगहों का चयन

Samved Jain

Publish: Feb, 15 2018 02:39:57 (IST)

Chhatarpur, Madhya Pradesh, India
भारत सरकार ने देश के 10 पर्यटन आइकॉन किए चिहिन्त,MP में इन जगहों का चयन

दो दिन से खजुराहो में रुके केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री ने अफसरों के साथ बैठक लेकर बनाई कार्ययोजना

खजुराहो। भारत सरकार ने देश भर में से 10 पर्यटक (आइकॉन)स्थलों को चिन्हित किया है जिनको पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाना है इन 10 स्थलों में खजुराहो को भी शामिल किया गया है। इसको लेकर केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री दो दिन से खजुराहो के दौरे पर हैं। उन्होंने मंगलवार की शाम पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों की बैठक ली थी। बुधवार को उन्होंने अफसरों के साथ बैठक करके कार्ययोजना को आकार दिया है।
खजुराहो के होटल पायल के सभागार में बुधवार को दोपहर 12 बजे केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री केजेअल्फेंस ने मप्र शासन, केंद्र सरकार के अफसरों के साथ स्थानीय अफसरों की एक संयुक्त बैठक ली। इसमें खजुराहो के विकास योजना के बारे में चर्चा की गई। बैठक में भारत पर्यटन विभाग के डीजी सत्यजीत राजन, मप्र पर्यटन विकास निगम के मैनेजिंग डारेक्टर हरिरंजन राव, मप्र पर्यटन विभाग की छवि भारद्वाज, भारतीय पुरातत्व विभाग के मप्र भोपाल से अधीक्षण जुल्फिकार अली, स्टेशन मास्टर राजकुमार, राजनगर विधायक विक्रम सिंह नातीराजा, सागर कमिश्नर.आशुतोष अवस्थी, कलेक्टर रमेश भंडारी, पुलिस अधीक्षक विनीत खन्ना सहित विभिन्न विभागों के प्रमुख अधिकारियों ने बैठक में हिस्सा लिया। बैठक में भारत पर्यटन विभाग से आए उमर खान ने आने वाले समय में खजुराहो को विकसित करने के लिए विभिन्न कार्ययोजनाओं पर विस्तार से प्रस्तुति दी। इसके बाद केंद्रीय मंत्री ने बताया कि खजुराहो को विकसित करने के साथ ही आसपास के स्थलों को भी विकसित करना पड़ेगा और इसके लिए प्राथमिकता से प्रयास किए जाएंगे। सभी लोगों को इस बारे में जो सुझाव उपयुक्त लगे तो देें उन्हें हम आने वाले समय में जोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि खजुराहो को जिन व्यवस्थाओं से जोड़कर रखा गया वो अब उपयुक्त नहीं रहीं, इसलिए अब समय आ गया कि खजुराहो को विश्व स्तर की पहचान दिलाने के लिए कदम उठाए जाएं। जो भी कार्ययोजना तय होगी उसके हिसाब से बजट तय होगा। बैठक में हवाई मार्ग, रेलमार्ग में और बढ़ोत्तरी तथा सड़कमार्ग को जल्दी से जल्दी सुधारने की बात सामने आई। वहीं आसपास के पर्यटन स्थलों को बढ़ावा देने पर जोर दिया गया। साथ ही स्वास्थ सुविधाएं विश्व स्तरीय बनाने की बात सामने आई। सबसे गंभीर समस्या मंदिरों के क्षरण की रखी गई। लगातार घट रहे विदेशी पर्यटन पर भी चिंता व्यक्त की गई। पर्यटन व्यवसाय से महिलाओं को जोडऩे की भी योजना पर बैठक में बल दिया गया।
जनप्रतिनिधियों और पर्यटन व्यवसाईयों से भी की चर्चा :
एक दिन पहले ही केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री केजे अल्फोंश ने जनप्रतिनिधियों और स्थानीय नागरिकों की बैठक लेकर उनसे पर्यटन विकास के लिए सुझाव मांगे थे। इस दौरान मौजूद खजुराहो सांसद नागेंद्र सिंह ने कहा कि खजुराहो को जिन व्यवस्थाओं से जोड़कर रखा गया। लेकिन ये महज औपचारिक ही साबित रहा। अब समय आ गया कि खजुराहो को विश्व स्तर की पहचान दिलाने के प्रयास किए जाएंगे। बैठक में विधायक, नप अध्यक्ष, स्थानीय गाइडों, पर्यटन से जुड़े व्यवसाइयों ने भी अपने अपने सुझाव दिए। वहीं कुछ लोगों ने स्थानीय बुंदेली संस्कृति को भी बढ़ावा देने पर बल दिया। इसक अलावा बैठक में श्यामेंद्र सिंह, अविनाश तिवारी, जीतेंद्र लवानिया, अनुज शुक्ल, अलौकिक खरे, राजेंद्र सिंह, मेहरुन निशा, वीरेंद्र तिवारी, बलबीर गौतम, शैलेश सिंह, हृदेश पाठक ने भी अपने अपने सुझाव रखे। इस दौरान राजनगर विधायक विक्रम सिंह नप अध्यक्ष कविता सिंह, विभिन्न विभागों के अधिकारियों, स्थानीय गाइडों, होटल व्यवसायी, ट्रैवल एजेंसी संचालक आदि मौजूद रहे।

1
Ad Block is Banned