शैक्षणिक संस्थाओं के अनुदान, योजनाओं व रोजगार के अवसरों की दी जानकारी

अल्पसंख्यक अधिकार एवं जनजागृति पर सेमिनार


छतरपुर. डेरा पहाड़ी के बाहूबली सभागार में शासन द्वारा मिलने वाले शैक्षणिक तथा सरकारी व गैर सरकारी उपक्रमों में दिए जाने वाले अनुदान, बेरोजगारों के ऋण सहित अन्य विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया।
जबलपुर से आए डॉ. विमल जैन ने विभिन्न स्तरों पर केंद्र सरकार तथा प्रदेश सरकारों द्वारा मिलने वाले लाभों के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ये अधिकार तथा लाभ हमें विभिन्न क्षेत्रों के शैक्षिणिक संस्थाओं तथा धार्मिक संस्थाओं, व्यापारी वर्ग, महिलाओं एवं विभिन्न एनजीओ एवं शैक्षणिक संस्थाओं में मिलने वाली स्कालरशिप के रूप में दिए जाते है। उन्होंने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 30 तथा 29 के बारे में बताते हुए कहा कि इसके अंतर्गत धर्म तथा भाषा दोनों के आधार पर अल्पसंख्यक समुदाय को शैक्षणिक संस्थाओं की स्थापना एवं प्रशासन का अधिकार है। उन्होंने अल्पसंख्यक व्यापारियों को ऋण संबंधी लाभ, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, अल्पसंख्यक महिलाओं को मिलने वाले लाभ की योजनाओं जैसे महिला समृद्धि योजना, नई रोशनी, सीखो और कमाओ के बारे में भी जानकारी दी तथा विद्यार्थियों के लिए शैक्षणिक छात्रवृत्ति, कोचिंग के लिए मिलने वाली छात्रवृत्ति आदि के वारे में भी जानकारी देते हुए व्यापारी वर्ग को अपने स्वयं के नए व्यापार को शुरु करने के लिए विभिन्न स्तरों पर मिलने वाले ऋण तथा उनपर मिलने बाली विभिन्न प्रकार की छूट के वारे में अवगत कराया। पंकज जैन ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। इस अवसर पर जैन समाज के अध्यक्ष जय कुमार जैन, मंत्री स्वदेश जैन, पूर्व प्राचार्य प्रो. जीसी सिंघई, एडवोकेट चक्रेश मोदी, प्रो. पीके जैन अध्यक्ष जैन, डॉ. सुरेश बजाज, संजीव वासल्य, राजकुमार जैन आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

हामिद खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned