काउंटर की सीमित संख्या, कतारों में छात्रों की भरमार

महाराजा कॉलेज और गल्र्स कॉलेज में कोविड के बीच चल रहीं कई शासकीय गतिविधियां

By: Dharmendra Singh

Published: 23 Nov 2020, 08:47 PM IST

Chhatarpur, Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

छतरपुर। एक तरफ कोविड 19 से लोगों को बचाने के लिए जिला प्रशासन के द्वारा मास्क की अनिवार्यता जैसे कई कदम उठाए जा रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ महाविद्यालयों में चल रहीं सरकारी गतिविधियों के दौरान कुप्रंबधन के कारण छात्र-छात्राओं को कोविड के खतरे में डाला जा रहा है। महाराजा कॉलेज और गल्र्स कॉलेज में सोमवार को एक साथ चार तरह की गतिविधियां चलती रहीं। कुछ छात्रों को प्रवेश के छठवें राउण्ड में हिस्सा लेना था। कई विद्यार्थी जिन्हें प्रवेश मिल चुका है उन्हें दस्तावेज और शुल्क जमा करना था तो वहीं कुछ विद्यार्थी बीएड के लिए टीसी कटवाने पहुंचे और नए बीएड प्रवेश के लिए प्रमाण पत्र का वैरीफिकेशन कराने गए।

जाहिर है इन आधा दर्जन प्रक्रियाओं के एक साथ संचालित होने के कारण महाविद्यालयों में हजारों छात्र-छात्राओं का जमावड़ा लग गया। पिछले कई दिनों से छात्र-छात्राएं सुबह से शाम तक महाविद्यालयों में इन कामों के लिए कतारों में लगे रहे। इन महाविद्यालयों में काम के हिसाब से विद्यार्थियों की संख्या के अनुरूप सीमित काउंटर मौजूद हैं जिसके कारण विद्यार्थियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
न मास्क की फिक्र, न कोई स्क्रीनिंग
शासन के निर्देश हैं कि जिन कार्यालयों में ज्यादा आवाजाही हो वहां स्क्रीनिंग, सेनेटाइजेशन एवं मास्क की अनिवार्यता का ध्यान रखा जाए। महाराजा कॉलेज और गल्र्स कॉलेज में प्रतिदिन हजारों की तादाद में विद्यार्थी पहुंच रहे हैं इसके बावजूद न तो यहां सेनेटाइजेशन की व्यवस्था है न ही स्क्रीनिंग की व्यवस्था है। कुछ विद्यार्थी मास्क लगाकर आ रहे हैं जबकि मास्क न लगाने वाले विद्यार्थियों केा कोई रोकटोक भी नहीं की जा रही है। कतारों में सटकर खड़े विद्यार्थियों के बीच सोशल डिस्टेंस जैसी जरूरी बात को भी नजरअंदाज किया जा रहा है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned