scriptmarriage awaits displacement under the Ken-Betwa link project | दूसरा पहलू: शादी के लिए केन-बेतवा लिंक परियोजना के तहत विस्थापन का इंतजार | Patrika News

दूसरा पहलू: शादी के लिए केन-बेतवा लिंक परियोजना के तहत विस्थापन का इंतजार


प्रस्तावित बांधस्थल ढोढन के आस पास के गांवों में सुविधा नहीं होने से विवाह नहीं होते
लोग बोले मुआवजा मिलते ही दूसरी जगह बसेंगे और शादी करेंगे

छतरपुर

Updated: May 20, 2022 05:23:01 pm

छतरपुर। केन बेतवा के मुख्य बांध के लिए प्रस्तावित पन्ना टाइगर रिजर्व अंतर्गत प्रकृति की गोद में बसे खरयानी, पलकोंहा, ढोढऩ, खरियानी में मूलभूत सुविधाएं न होने के कारण गांव में शादी की शहनाई बहुत ही कम बजती है। गांव में विवाहित लोगों की अपेक्षा कुंवारे लोगों की संख्या अधिक है। अब गांव को केन-बेतवा लिंक परियोजना के तहत विस्थापित गांवों की सूची में शामिल किया गया है, जिससे गांव के लोगों को मुआवजा मिलने की उम्मीद है। इसी मुआवजा से वे किसी दूसरी जगह बसेंगे और इसके साथ ही युवाओं के घर भी बसने लगेंगे।
आठ महीने नाव के सहारे आवागमन, इसलिए कोई नहीं देता बेटी
आठ महीने नाव के सहारे आवागमन, इसलिए कोई नहीं देता बेटी
आठ महीने नाव के सहारे आवागमन, इसलिए कोई नहीं देता बेटी
केन नदी और श्यामरी नदी के तट पर बसे ग्राम खरयानी के लोग बताते हैं कि पन्ना टाइगर रिजर्व क्षेत्र में स्थित उनके गांव तक आवागमन हेतु घने जंगलों के रास्ते से सफर करना होता है। साल के चार माह गांव तक वाहन जाते हैं, बाकी के आठ माह नाव के सहारे आवागमन होता है। गांव के अमित मिश्रा छतरपुर में बस गए और बताते है कि आज भी उनका गांव विकास से कोसों दूर है। जिस कारण से गांव में विवाह नहीं होते और गांव में कुंवारे लोगों की संख्या काफी ज्यादा है। गांव में सड़क, शुद्ध पेयजल और स्वास्थ जैसी मूलभूत सुविधाएं तक नहीं है। इसलिए लोग इस गांव में अपनी बेटियां नहीं देना चाहते हैं।
रोजमर्या का सामान लेने आना पड़ता है 35 किलोमीटर दूर
पहले पन्ना टाइगर रिजर्व द्वारा इस गांव का विस्थापन किया जाना था लेकिन किसी कारणवश नहीं हो सका। अब यह गांव केन-बेतवा लिंक परियोजना के तहत विस्थापित किया जाना है। ग्रामीणों का कहना है कि यदि उन्हें मुआवजा राशि मिलेगी तो वे किसी अच्छे और सुगम स्थान पर अपना आशियाना बनाएंगे। खरियानी के ग्रामीणों को रोजमर्रा की जरूरतों का सामान खरीदने के लिए बमीठा तक आना होता है। ऐसे में ग्रामीण अपनी जान जोखिम में डालकर गंगऊ बांध के कच्चे रास्ते से करीब 35 किलोमीटर का सफर तय कर बमीठा पहुंचते हैं। लेकिन अब किसी सुगम जगह बस जाएंगे तो जिंदगी भी बदल जाएगी।
दूषित पानी पी रहे पलकोहां-ढोढऩ के बाशिंदे
पन्नाा नेशनल पार्क में केन-श्यामरी नदी के पास बसे पलकोंहा और ढ़ोढऩ गांव के लोग दो-दो नदियों के किनारे रहकर भी प्यासे हैं। ये लोग पानी के नाम पर दूषित पानी पी रहे हैं। दरअसल नदी की पतली धारा में मवेशी नहाते हैं और नदी में बहकर आने वाले मृत मवेशियों के शव भी पानी को प्रदूषित करते हैं। इन दोनों गावों में मार्च से जुलाई माह तक जलस्तर इतना ज्यादा गिर जाता है कि गांव के कुएं सूख जाते हैं। तब नदी का पानी पीना ही गांव के लोगों की मजबूरी बन जाता है, भले ही वह गंदा और बदबूदार हो। गांव की महिलाएं और बच्चे सुबह घर के काम निपटाकर लंबी दूरी तय करके नदी की पतली धारा से लोटे के सहारे गंदा पानी भरकर घर लाते हैं, फिर छानकर पीते हैं। साल में छह माह तक पानी की परेशानी के कारण इस गांव में लोग अपनी बेटियों की शादी करने को तैयार नहीं होते हैं, जिससे इन गावों में भी कुंवारों की संख्या तेजी से बढ़ रही है।
इनका कहना है
केन-बेतवा नदी जोड़ो परियोजना में अब पलकोंहा, ढ़ोढऩ, खरियानी गांव को विस्थापन करने की प्रक्रिया जारी है। नए स्थान पर सुविधाएं जुटाई जाएंगी।
राहुल सिलाडिया, एसडीएम, बिजावर

फोटो- सीएचपी200522-71-खरियानी गांव
सीएचपी 200522-72- खरयानी गांव का रास्ता
.......................................................
गो तस्करी में ट्रक जब्त, 19 नग गोवंश मुक्त कराए, आरोपियों को तलाश रही पुलिस
छतरपुर। गौरिहार पुलिस ने गो तस्करी करते हुए एक ट्रक को जब्त किया है। ट्रक से 17 नगर गोवंश मुक्त कराए गए हैं। ट्रक के जरिए गोवंश को उत्तरप्रदेश ले जाया जा रहा था। पुलिस
गौरिहार थाना प्रभारी पुष्पेंद्र मिश्रा ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली कि सिसोलर तालाब के पास ट्रक में गोवंश को लादकर मध्यप्रदेश से उत्तरप्रदेश के बांदा के रास्ते कत्ल खाने ले जा रहा है। पुलिस टीम ने मौके पर पहुंचकर दबिश दी। 2 आरोपी पुलिस को देख भाग खड़े हो गए। पुलिस ने ट्रक क्रमांक 19 एचए को जब्त कर तलाशी ली तो उसके अंदर 19 गोवंश मिले। गोवंश को चितहरी गोशाला में रखवाया गया है। वहीं, अज्ञात वाहन मालिक और चालक के विरुद्ध मध्य प्रदेश गौवंश अधिनियम व पशु क्रूरता अधिनियम व प्रदेश कृषक पशु परिरक्षण अधिनियम समेत मोटर व्हीकल एक्ट का केस दर्ज किया है। आरोपियों की तलाश की जा रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Independence Day 2022: भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इन देशों ने दी बधाईयां और कही ये बातसिंगर राहुल जैन पर कॉस्ट्यूम स्टाइलिस्ट के साथ रेप का आरोप, मुंबई पुलिस ने दर्ज की एफआईआरशख्स के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने भेजा संदिग्ध मैसेज, 6 घंटे लेट हुई इंडिगो की फ्लाइट, जाने क्या है पूरा मामलासिर्फ 'हर घर' ही नहीं, 'स्पेस' में भी लहराया 'तिरंगा', एस्ट्रोनॉट राजा चारी ने अंतरिक्ष स्टेशन पर लहराते झंडे की शेयर की तस्वीरबिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगारIndependence Day 2022 : अगले 25 सालों का क्या है प्लान, पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातेंस्वतंत्रता दिवस के मौके पर लेह पहुंचे मनोज तिवारी और निरहुआ, जवानों को परोसा खानाIndependence Day 2022: लाल किले पर बना नया रिकार्ड, पहली बार मेड इन इंडिया तोप ने दी सलामी, जानें इसके बारे में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.