49 हजार किसानों को भेजे मैसेज, 18 हजार ने बेची उपज

खरीदी केन्द्रों पर खरीद की रफ्तार अभी भी धीमी

By: Dharmendra Singh

Published: 22 Apr 2021, 08:19 PM IST

छतरपुर। 1 अप्रेल से शुरु हुए गेहूं उपार्जन मे खरीदी की रफ्तार अभी भी धीमी है। अप्रेल माह के 21 दिनों में 49 हजार किसानों को फसल बेचने के लिए मैसेज भेजे गए। लेकिन अभी तक 18 हजार किसान ही अपनी उपज बेचने आए हैं। बाजार भाव से दाम में ज्यादा अंतर न होने और बढ़ते संक्रमण के चलते किसान उपज बेचने आने से कतरा रहे हैं। जिले में रोजाना 250 से 300 पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। ऐसे में कोरोना कफ्र्यू में किसानों को छूट के बावजूद अब किसान केन्द्रों पर आने से बच रहे हैं।

एक केन्द्र पर एक दिन में 10 से 15 किसान
जिले के सभी उपार्जन केन्द्रों से रोजाना 50 किसानों को मैसेज भेजे जा रहे हैं। इसके पहले रोज 25 मैसेज किए जा रहे थे, लेकिन खरीद की रफ्तार नहीं बढ़ी को मैसेज की संख्या दो गुनी कर दी गई। फिर भी किसानों की संख्या बढ़ नहीं रही है। एक केन्द्र पर रोजाना अधिकतम 10 से 15 किसान ही अपनी उपज लेकर बेचने आ रहे हैं। हालांकि राजनगर और बड़ामलहरा क्षेत्र में किसानों की संख्या बढ़ी है। लेकिन लवकुशनगर, नौगांव इलाके में अभी भी उपार्जन की रफ्तार धीमी है।

लक्ष्य का 25 फीसदी हुई खरीदी
जिले के 145 खरीदों केन्द्रों पर 15 मई तक 87 हजार किसानं से 4 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदने का लक्ष्य रखा गया है। लेकिन अभी तक 18202 किसानों से 94857 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी ही हुई है। जो कि तय किए गए लक्ष्य का 25 फीसदी है। किसान कोरोना संक्रमण से बचने और परिवार को सुरक्षित रखने के मकसद से अभी फसल बेचने नहीं आ रहे हैं। अभी केवल ऐसे किसान ही खरीद केन्द्र पहुंच रहे हैं, जिन्हें उपज जल्द बेचने की मजबूरी है।

झमटुली खरीदी केंद्र पर वारदाना न होने तुलाई बंद
राजनगर तहसील के ग्राम झमटुली में बने गेहूं के खरीदी केंद्र पर वारदाना ना होने की वजह से किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वारदाना ना होने की वजह से किसानों की तुलाई बंद हो चुकी है। जिससे किसान अपना गेहूं लिए खरीदी केंद्र के बाहर डेरा जमाए हुए हैं। किसानों का कहना है कि वह कई दिनों से खरीदी केंद्र के बाहर रुके हुए हैं, लेकिन वारदाना ना होने की वजह से उनकी गेहूं की तलाई नहीं हो पा रही है जिससे उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है ।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned