बोर्ड परीक्षा की उत्तरपुस्तिकाओं का अब घर से होगा मूल्यांकन

उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन कार्य मूल्यांकनकर्ता के घर के माध्यम से संपादित कराया जाएगा, 22 अप्रेल से यह कार्य प्रारंभ किया जाएगा

By: Samved Jain

Published: 18 Apr 2020, 09:00 AM IST

छतरपुर. बोर्ड परीक्षा के स्थगित होने के साथ-साथ हो चुके प्रश्नपत्रों की उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य भी लॉक डाउन के चलते स्थगित चल रहा हैं। ऐसे में परीक्षा देने वाले छात्र-छात्राओं और उनके अभिभावकों को परीक्षा संबंधी स्पष्ट जानकारी उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। इस बीच मंडल ने स्पष्ट किया है कि अब लॉकडाउन बढऩे की स्थिति में ड्यूटीरत मूल्यांकनकर्ता घर से ही मूल्यांकन कार्य करेंगे। जिससे अब जल्द ही शेष परीक्षा और रिजल्ट आने की भी उम्मीद सामने आने लगी हैं।
माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आदेश जारी कर कहा गया है कि संचालित हाईस्कूल एवं हायर सेकंडरी परीक्षाओं की अमूल्यांकित उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन 21 मार्च से प्रारंभ किया जाना था। कोरोना वायरस के देशव्यापी लॉक डाउन को दृष्टिगत रखते हुए मूल्यांकन कार्य आगामी तिथि तक स्थगित किया गया था। वर्तमान परिस्थितियों में लॉक डाउन की अवधि में वृद्धि होने के कारण मंडल द्वारा शिक्षकों के समय का सदुपयोग करने एवं मूल्यांकन कार्य संपन्न करने के उद्देश्य से राज्य शासन की सहमति से निर्णय लिया गया है कि इस वर्ष मंडल परीक्षाओं से संबंधित उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन कार्य मूल्यांकनकर्ता के घर के माध्यम से संपादित कराया जाएगा। 22 अप्रेल से यह कार्य प्रारंभ किया जाएगा। शिक्षा मंडल सचिव ने यह आदेश जारी किया हैं। साथ ही विस्तृत निर्देश भी जारी करने का उल्लेख किया है।

सर्वे के दौरान गायब मिले नौ शिक्षकों को नोटिस जारी
छतरपुर. डोर-टू-डोर सर्वे में लगाई गई ड्यूटी के दौरान गायब मिले नौ शिक्षकों को एसडीएम ने कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है। साथ ही स्पष्टीकरण उचित नहीं मिलने पर एकपक्षीय कार्रवाई करने कहा है।
एसडीएम द्वारा जारी पत्र में बताया गया है कि शासन स्तर और कलेक्टर द्वारा आदेश जारी करते हुए दल गठित कर नगरीय क्षेत्र में निवासरत व्यक्तियों के स्वास्थ्य की जांच के लिए डोर टू डोर सर्वे में शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई थी। शहरी समीक्षा अधिकारी सीडीपीओ द्वारा निरीक्षण के दौरान पाया था कि शिक्षक पद्मा सक्सेना, राजेंद्र कुमार अहिरवार, अनीता द्विवेदी, मोहन कुशवाहा, देव मूरत द्विवेदी, रामप्रकाश बाजपेई, शिव प्रसाद बाजपेई भारती द्विवेदी और रामसनेही पटेरिया कार्य पर नहीं पहुंचे थे। जिससे सर्वे कार्य की प्रगति नहीं हो पा रही हैं, जिस पर कलेक्टर द्वारा अप्रसन्नता व्यक्त की गई हैं। आपके द्वारा पदीय दायित्वों का निर्वहन सुचारू रूप से नहीं किया जा रहा है जो आपके साथ ही कार्य में लापरवाही और वरिष्ठ अधिकारियों के आदेश की अवहेलना का परिचायक है। उन्होंने शिक्षकों से स्पष्टीकरण चाहा गया था।

Show More
Samved Jain Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned