अब कोरोना जांच के लिए नहीं करना होगा दो दिन का इंतजार

जिला अस्पताल को मिली जांच मशीन
सागर से आई टीम ने किया शुभारंभ, शुरू होने में लगेगा एक सप्ताह
जिले के पहले दो संक्रमित अस्पताल से हुए डिस्चार्ज

By: Dharmendra Singh

Published: 29 May 2020, 07:57 PM IST

छतरपुर। जिले में बढ़ते कोरोना के मरीजों और कोरोना सैंपल की जांच में हो रही लेटलतीफी के बीच शुक्रवार को एक अच्छी खबर सामने आई। अब कोरोना सैंपल की जांच जिला अस्पताल में ही हो सकेगी। शुक्रवार को सागर से आए स्वास्थ्य संचालक डॉ. वीरेन्द्र यादव एवं एप्लीकेशन मैनेजर वर्षा जैन की टीम ने जिला अस्पताल में कोरोना सैंपल जांच की मशीन ट्रू नॉट का इंस्टालेशन किया। हालंाकि फिलहाल इस मशीन को शुरू होने में 7 दिन का समय लग सकता है। मशीन पूरी तरह फिट है लेकिन शासन द्वारा भेजी गई इस मशीन का पंजीयन आईसीएमआर में कराना पड़ता है। इस प्रक्रिया में लगभग 7 दिन का समय लग सकता है, इसके बाद यह मशीन छतरपुर में कोरोना की जांच के लिए तैयार हो जाएगी। मशीन से जांच शुरु होने पर सागर से रिपोर्ट आने में हो रही देरी की समस्या का समाधान निकलेगा।
40 मिनिट में दो नतीजे देती है मशीन, रोज हो सकेंगी 25 जांचें
मशीन का इंस्टालेशन करने आई सागर मेडिकल कॉलेज की टीम के संयुक्त स्वास्थ्य संचालक डॉ.वीरेन्द्र यादव ने बताया कि यह आधुनिक ट्रू नॉट मशीन है। इस मशीन से 40 मिनिट के भीतर कोरोना सैंपल के नतीजे मिल जाते हैं, इस लिहाज से एक दिन में यह मशीन 20 से 25 कोरोना जांचें कर सकती है। आवश्यकता पड़ी तो छतरपुर को एक मशीन और दी जाएगी।
लैब टैक्नीशियन रहेंगे खतरे से मुक्त
मशीन को इंस्टाल करने आईं एप्लीकेशन मैनेजर वर्षा जैन ने बताया कि यह रियल टाइम पीसीआर ट्रू नॉट मशीन है जिसकी खास बात यह है कि यह न सिर्फ कोरोना सैंपल के नतीजे जल्द दे सकेगी, बल्कि इस मशीन से कोरोना की जांच करने वाले लैब टैक्नीशियन भी जीरो रिस्क पर रहेंगे। उन्होंने बताया कि मशीन में सैंपलिंग और प्रोसेसिंग के दौरान सुरक्षा के ऐसे मापदंड इस्तेमाल किया जाते हैं कि इससे वायरस के खतरे से टैक्नीशियन बचे रहते हैं।
डॉ. बरसाना के नेतृत्व में 6 टैक्नीशियन करेंगे 24 घंटे काम
सिविल सर्जन डॉ. आरएस त्रिपाठी ने बताया कि मशीन के आ जाने से छतरपुर के कोरोना सैंपल की जांच जल्द से जल्द हो पाएगी। इससे संदिग्धों के माध्यम से अन्य लोगों में कोरोना फैलने का खतरा कम होगा। उन्होंने कहा कि जिला अस्पताल में पैथालॉजिस्ट डॉ. एनके बरसाना के नेतृत्व में 6 लैब टैक्नीशियन को प्रशिक्षित किया जा रहा है ताकि मशीन से 24 घंटे काम लिया जा सके।
स्वस्थ्य हुए दो कोरोना मरीज, पुष्पवर्षा के साथ अस्पताल से किए गए विदा
नई डिस्चार्ज पॉलिसी के तहत दो मरीजों की छुट्टी, अब जिले में 15 एक्टिव केस
नौगांव की बजरंग कॉलोनी और ग्राम कैथोकर मे पाए गए कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को रिकवरी के बाद केंद्र सरकार की नई डिस्चार्ज पॉलिसी के अनुसार जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड से डिस्चार्ज कर दिया गया है। यह दोनों व्यक्ति अब पूरी तरह से ठीक पाए गए हैं। दोंनो को उत्तम स्वास्थ्य की शुभकामनाएं देते हए आइसोलेशन वार्ड के डॉक्टर एवं कर्मचारियों द्वारा पुष्पगुच्छ भेंट किए और उन पर पुष्पवर्षा की गई।
खतरा टला नहीं, घर में करना होगा क्वारंटाइन
केंद्र सरकार की ओर से कोरोना के मरीजों के लिए नई डिस्चार्ज पॉलिसी जारी की गई है जिसके मुताबिक एडमिट कोरोना संक्रमित मरीज में अगर कोई लक्षण नहीं दिख रहे और तीन दिन तक बुखार नहीं होता है तो उसे 10 दिन में डिस्चार्ज किया जा सकेगा।
जिला कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह ने ग्राम कैथोकर पहुंचकर गांव का भ्रमण किया और डिस्चार्ज किए गए व्यक्ति के बारे मे जानकारी ली। उन्होंने संबंधित अधिकारियो को निर्देश दिए की डिस्चार्ज किए गए व्यक्तियों को होम क्वारंटीन कराया जाए।

हॉटस्पॉट कालापानी से 31 नए सैंपल लिए
7 संक्रमित मामलों के साथ ही हॉटस्पॉट बन चुके छतरपुर अनुविभाग के ग्राम कालापानी से 31 नए सैंपल लिए गए हैं। इसी तरह ग्राम कूढ़ से 9 एवं लवकुशनगर से 15 कोरोना सैंपल के साथ-साथ शुक्रवार को 68 कोरोना सैंपल जांच के लिए सागर मेडिकल कॉलेज भेजे गए। जबकि सागर मेडिकल कॉलेज में जांच की रफ्तार धीमी होने के कारण अब जिले के 120 सैंपल के नतीजे लंबित हो चुके हैं।

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned