अब धसान नदी में भी शुरु हुआ अवैध उत्खनन

रात में नदी के पानी के अंदर से मशीनों के जरिए निकाल रहे रेत
सड़क पर धड्ल्ले से दौड़ रहे अवैध रेत से भरे ट्रैक्टर, ट्रैक्टरों से डंप की जा रही अवैध रेत

By: Dharmendra Singh

Published: 03 Jul 2021, 06:49 PM IST

छतरपुर। जिले में मेसर्स आनंदेश्वर एग्रो फ्रूडस प्राइवेट लिमिटेड का रेत ठेका निरस्त होने के बाद जिले में अवैध उत्खनन जोर पकड़ रहा है। छतरपुर जिले में रेत पर खनन, परिवहन, भंडारण एवं व्यापार पर मध्यप्रदेश शासन द्वारा तत्काल रोक लगा दी गई है। लेकिन केन के बाद अब धसान नदी में भी अवैध उत्खनन शुरु हो गया है। धसान से रात में मशीनों के जरिए रेत निकाली जा रही है। जिसे दिन में ट्रैक्टरों के जरिए सप्लाई और डंप किया जा रहा है।

धसान में अवैध उत्खनन पर कार्रवाई नहीं
नौगांव अनुविभाग से निकाली धसान नदीं में रात के अंधेरे में रेत का अवैध उत्खनन अभी भी जा रही है। लेकिन खनिज, राजस्व व पुलिस ने इस इलाके में कार्रवाई नहीं की है। धसान में अलीपुरा,टीला, करारागंज व लहदरा से रेक का अवैध उत्खनन किया जा रहा है। नदी से निकाली गई अवैध रेत को ट्रैक्टरों के जरिए सप्लाई की जा रही है। लेकिन प्रशासन- पुलिस को रेत का अवैध उत्खनन व परिवहन नजर नहीं आ रहा है। रेत का ठेका निरस्त होने के बाद से अवैध उत्खनन बढ गया है, लेकिन कार्रवाई नहीं की जा रही है।

ट्रैक्टरों का बढ़ा इस्तेमाल
रेत का अवैध उत्खनन करने वाले अवैध परिवहन के लिए ट्रैक्टरों का इस्तेमाल कर रहे हैं। रेत की सप्लाई यूपी कम हो गई है, जिससे डंफर से अवैध परिवहन की रफ्तार कुछ कम हुई है, लेकिन अब ट्रैक्टरों के जरिए अवैध परिवहन किया जा रहा है। नदियों से निकलने वाली रेत ट्रैक्टरों के जरिए जगह-जगह डंप की जा रही है। जिले की प्रमुख नदियों के आसपास के इलाके में हर समय अवैध रेत से भरे ट्रैक्टर आवागमन करने नजर आ रहे हैं। जब वैध खनन व परिवहन बंद है तो इससे साफ है कि ट्रैक्टरों से अवैध परिवहन हो रहा है। लेकिन फिर भी कार्रवाई नहीं हो रही है।

कार्रवाई जारी रहेगी
रेत के अवैध उत्खनन पर लगातार कार्रवाई की गई है। जहां जहां से भी अवैध उत्खनन की सूचना मिल रही है, वहां टीम भेजकर जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।
अमित मिश्रा, खनिज अधिकारी छतरपुर

Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned